Wednesday, 9 June 2021

MP कांग्रेस में कुछ भी ठीक नहीं, अजय सिंह के बाद सज्जन वर्मा नें भी दी कमलनाथ को नसीहत।



भोपाल: मध्यप्रदेश कांग्रेस में इस समय कुछ भी ठीक नही चल रहा और वरिष्ठ नेताओं की आपसी बयानबाज़ी जारी है। अभी हाल में ही मैहर दौरे पर आये पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा था की अगर 2018 के विधानसभा चुनाव मे यदि विंध्य से जादा सीटें आती तो हमारी सरकार नही गिरती। पूर्व सीएम कमलनाथ के इस बयान पर मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुये कहा था की सरकार तो बन गयी थी लेकिन चल नही पायी, इसके लिये विंध्य को दोष देना उचित नही है। अजय सिंह के इस बयान को लेकर चारों तरफ घमासान मच गया था।


अब कमलनाथ को सज्जन वर्मा का सुझाव।

अभी तक पूर्व सीएम कमलनाथ एवं पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह सिंह के बयानों की आग ठण्डी भी नही हुई थी की अब कमलनाथ को लेकर पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा का बयान सामने आ गया जिसको लेकर राजनैतिक गलियारों मे कई तरह के मायने निकाले जा रहें हैं। पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने पूर्व सीएम कमलनाथ को सुझाव देते हुये कहा की अब उन्हें पार्टी अध्यक्ष एवं नेता प्रतिपक्ष मे से एक पद छोड़ देना चाहिए और दूसरे लोगों को मौका देना चाहिए। साथ ही उन्होनें कहा की जो कार्यवाहक अध्यक्ष काम नही कर पाये हैं उन्हें बदल देना चाहिए। सज्जन वर्मा ने ये भी कहा की कांग्रेस में दूसरी लाईन के नेताओं को जिम्मेदारी देने की दरकार है, अगर ऐसा नही किया गया तो पार्टी मजबूत नही होगी और आगे चलकर बहुत दिक्कतें आ सकती है।


कमलनाथ के बयान के बाद क्या बोले थे अजय सिंह।

3 जून को सतना दौरे पर आए मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह से पत्रकारों ने कमलनाथ के विंध्य वाले बयान का जवाब मांगा था। तब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अजय सिंह ने कहा था की सरकार विंध्य की वजह से नही गिरी थी, उनका कहना था की सरकार सिंधिया एवं उनके समर्थक विधायकों के पार्टी छोड़नें की वजह से गिरी थी। भारत विश्व में हो रहा बदनाम के सवाल पर अजय सिंह ने कहा था की, चाहे कमलनाथ हो या अजय सिंह सबको संयम रखने की जरूरत है।

No comments:

Post a Comment

Latest Post

कौन हैं चौधरी राकेश सिंह? जिनको लेकर कांग्रेस में मचा है घमासान।

भोपाल:   मध्यप्रदेश में संगठन की मजबूती के लिये प्रदेश कांग्रेस ने बड़ा बदलाव किया है। प्रदेश कांग्रेस ने संगठन में 56 जिलों में प्रभारियों ...