Saturday, 10 April 2021

MP: अस्पतालों और बाजार से गायब हुई रेमडेसिविर, अजय सिंह बोले- मुनाफाखोरों के साथ खड़े हैं सीएम शिवराज।



  • जान बचाने वाले इंजक्शन की कालाबाजारी नहीं रोक पा रही सरकार, ऐसा न हो कि आगे वेक्सीन भी कम पड़ जाये: अजय सिंह।

भोपाल: कोरोना महासंकट के बीच अचानक मध्य प्रदेश में रेमडेसिविर (Remdesivir) इंजेक्शन को लेकर अफरातफरी मच गई है। इंदौर और भोपाल में मेडिकल स्टोर्स पर अस्पतालों में भर्ती कोविड मरीजों के परिजन लंबी लाइन लगाकर रेमडेसिविर इंजेक्शन की मांग कर रहे हैं। अब दवा मार्केट से अचानक गायब हो गई तो लोगों को गुस्सा सरकार पर फूट रहा है। तो राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अब रेमडेसीवर खरीदने की बात कर रहे हैं।


अब इस बात को लेकर पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने आरोप लगाया है कि लोगों की जान बचाने वाले रेमडेसिविर इन्जेक्शन की प्रदेश में हो रही कालाबाजारी को रोकने में शिवराज सरकार निष्क्रिय है। वह कालाबाजारियों के साथ खड़ी दिख रही है। अस्पतालों में आक्सीजन की किल्लत पहले से ही चल रही है और अब रेमडेसिविर बाजार से गायब है।


अजय सिंह ने कहा कि कालाबाजारी का आलम यह है कि जिस इंजक्शन की 70 प्रतिशत मरीजों को जरूरत है वह बाजार से नदारत है। छोटे शहरों से मरीजों के रिश्तेदार इंदौर भोपाल आकर तीन चार दिनों से दवाइयों की दुकानों पर चक्कर लगा लगाकर थक चुके हैं। वे लाइन में लगते हैं लेकिन उन्हें इन्जेक्शन नही मिल पा रहा है| सबसे ज्यादा तो उन मरीजों की हालत ख़राब है जिन्हें दूसरा तीसरा इंजक्शन का डोज लगना है।  इन भयावह परिस्थितियों में फ़िलहाल यह वक्त डरी हुई जनता को विश्वास में लेने का है। विश्वास में लेना तो दूर, शिवराज सिंह दमोह जाकर भाजपा के समर्थन के लिए सभी से बाहर निकलने की अपील कर रहे हैं। जब कूटरचना से भाजपा सरकार बन चुकी है तब एक सीट के लिए क्यों लोगों की जान को दांव पर लगाने का आव्हान वे कर रहे हैं, यह समझ से परे है।


अजय सिंह  ने कहा कि अब तो अस्पताल के गेट पर ही मरीज दम तोड़ रहे हैं। संकट की इस घड़ी में तो मुख्यमंत्री को सचिवालय में बैठकर आक्सीजन और रेमडेसिविर इंजक्शन कहीं न कहीं से तत्काल उपलब्ध कराने के लिए लगातार मानिटरिंग करना चाहिए। इन्जेक्शन उपलब्ध हैं, फिर भी अभाव बताकर धड़ल्ले से कालाबाजारी हो रही है, लेकिन सरकार चुप है। इस  मामले में यदि मुख्यमंत्री शिवराजसिंह वास्तव में गंभीर हैं तो उन्हें जनता को आश्वस्त करना चाहिए कि वह डरें नहीं, सरकार सक्रिय है और आक्सीजन व  इंजक्शन का इंतजाम सुनिश्चित कर लिया गया है।


सिंह ने चेताया कि अब देश में वेक्सीन की कमी की ख़बरें आ रही हैं। महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश और उड़ीसा के बाद अब बिहार और उत्तरप्रदेश में भी वेक्सीन के डोज कम पड़ने लगे हैं। लोगों को लौटाया जा रहा है। कई जगह दो दिन के डोज का स्टाक बचा है। हम प्रदेश में अधिक से अधिक लोगों से टीके लगवाने का आव्हान कर रहे हैं। कहीं ऐसा न हो कि ऐन वक्त पर मध्यप्रदेश में भी वेक्सीन की कमी हो जाये, और बाद में सरकार की चेतना जाग्रत हो। लोग दूसरा डोज न लगवा पायें। संभावित अफरा तफरी से बचने के लिए मुख्यमंत्री को अभी से इस पर ध्यान देना चाहिए, नहीं तो परिस्थितियां विकराल होने में जरा भी समय नहीं लगेगा।

No comments:

Post a comment

Latest Post

दमोह उपचुनाव: कांग्रेस प्रत्याशी अजय टंडन चुनाव जीते, भाजपा प्रत्याशी अपना ही बूथ हारे।

दमोह उपचुनाव: कांग्रेस प्रत्याशी अजय टंडन चुनाव जीत चुकें हैं। मतगड़ना के 26वां राउंड खत्म होते ही मध्य प्रदेश के दमोह उपचुनाव की तस्वीर साफ...