Thursday, 8 April 2021

CM शिवराज के 'स्वास्थ्य आग्रह' को अजय सिंह ने बताया नौटंकी, कहा- CM 'स्वास्थ्य आग्रह' न करके 'मिथ्याग्रह' कर रहे हैं।



  • आक्सीजन की कमी ने मरीजों से प्राणवायु छीन ली: अजय सिंह।
  • शिवराज सिंह वास्तविकता से दूर होकर जनता और खुद के साथ धोखा कर रहे हैं: अजय सिंह।

भोपाल: पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा है कि शिवराज सिंह सरकार ने आक्सीजन का इंतजाम न कर कोरोना मरीजों की श्वांस नली से प्राणवायु छीन ली है। आक्सीजन के अभाव में सभी अकाल मृत्यु के शिकार हो रहे हैं। शिवराज सिंह वास्तविकता से परे जाकर जनता के साथ साथ अपने आपको भी धोका दे रहे हैं। क्या यही आपका स्वास्थ्य आग्रह है। मेरी समझ में तो यह मिथ्याग्रह है, जो झूठ की बुनियाद पर खड़ा है। गाँधी जी के सत्याग्रह से आप कोसों दूर हैं, उसे कभी नहीं पा सकते।


अजय सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री के रूप में अपने 15 सालों के अनुभवों से सीखने की आदत शिवराज सिंह अभी तक नहीं डाल पाए। पिछले साल भी इसी तरह आक्सीजन की कमी हो गई थी। इसी तरह की बदइन्तजामी के चलते लोग मर रहे थे। इन अनुभवों से सीख कर सरकार को पहले से ही आक्सीजन की उपलब्धता पर निगरानी रखना थी। क्या इस एक साल के दौरान मध्यप्रदेश में आक्सीजन के मामले में आत्मनिर्भर बनने की कोशिश नहीं की गई। क्या मुख्यमंत्री ने इस बात की पड़ताल करी कि गुजरात से मिलने वाली लिक्विड आक्सीजन की सप्लाई अचानक क्यों रोक दी गई। इसे शुरू करने के लिए उन्हें तत्काल गुजरात के मुख्यमंत्री और पीएम मोदी से बात करना चाहिए। फ़िलहाल उद्योगों को आक्सीजन की सप्लाई पूरी तरह स्थगित रखना चाहिए।


अजय सिंह ने कहा कि जब कोरोना ख़त्म ही नहीं हुआ है तो संविदा पर रखे गए सैकड़ों स्वास्थ्य कर्मियों को क्यों हटा दिया गया। इस कारण आज जाँच केन्द्रों पर अफरातफरी मची हुई है। सरकार को तत्काल स्वास्थ्य कर्मियों को वापस बुलाना चाहिए और कोरोना की जांच की गति दो गुनी करना चाहिए। अजय सिंह ने कहा कि जब स्कूल कालेज 15 अप्रैल तक बंद हैं तो कालेजों में शिक्षकों को क्यों बुलाया जा रहा है। नाइट कर्फ्यू का भी कोई अर्थ नहीं है क्योंकि नाइट में तो 95 प्रतिशत  जनता घर में रहती है। इसका समय रात नौ बजे के स्थान पर शाम पांच-छ: बजे से शुरू होना चाहिए।


श्री सिंह ने कहा कि भाजपा सरकार में दूरदृष्टि की कमी है।परिस्थितियों का आकलन कर भविष्य की रणनीति बनाने में वह पूरी तरह अक्षम है। शिवराजसिंह के सर्कस मंत्रीमंडल में उनकी भूमिका एक जोकर से ज्यादा नहीं रह गई है। जनता के सामने नई नई नौटंकी रोज करते रहते हैं। गंभीरता नाम की चीज नहीं है।

No comments:

Post a Comment

Latest Post

कौन हैं चौधरी राकेश सिंह? जिनको लेकर कांग्रेस में मचा है घमासान।

भोपाल:   मध्यप्रदेश में संगठन की मजबूती के लिये प्रदेश कांग्रेस ने बड़ा बदलाव किया है। प्रदेश कांग्रेस ने संगठन में 56 जिलों में प्रभारियों ...