Wednesday, 3 March 2021

सीधी: पूर्व सीएम स्व. अर्जुन सिंह की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि कार्यक्रम 4 मार्च को सीधी में आयोजित।



सीधी: राष्ट्रनायक, जनसेवक, विंध्यधरा के सपूत पू्र्व मुख्यमंत्री, पूर्व राज्यपाल, पूर्व केंद्रीय मंत्री स्मृतिशेष कुंवर अर्जुन सिंह (दाऊ साहब) का परलोक गमन दिनांक 4 मार्च 2011 को नई दिल्ली में हुआ था। जिनकी पुण्यतिथि पर गुरुवार, 4 मार्च को सीधी में स्थापित उनकी प्रतिमा पर शाम 7:00 बजे श्रद्धांजलि दी जायेगी। जिला युवा कांग्रेस सीधी के जिलाध्यक्ष देवेन्द्र सिंह "दादू" नें सीधी नगर के समस्त सम्भ्रांत नागरिकों, युवाओं, माताओं एवं बहनों को स्थानीय अस्पताल चौक सीधी में आयोजित होने वाली उक्त श्रद्धांजलि सभा में शामिल होने का आग्रह किया है।


साथ ही श्री सिंह एवं युवा कांग्रेस सीधी द्वारा, कांग्रेस के पूर्व विधायक गण, जिला पंचायत सदस्य गण,जनपद पंचायत सदस्यगण, नगर पालिका के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष एवं पार्षद गण, सरपंच गण के साथ ही सभी निर्वाचित जनप्रतिनिधियों,  स्थानीय स्तर पर रहने वाल प्रदेश पदाधिकारीगण, जिला कांग्रेस कमेटी सीधी के सभी पदाधिकारियों, ब्लाक, सेक्टर एवं मंडल के सभी पदाधिकारियों, युवा कांग्रेस कमेटी के सभी पदाधिकारियों, महिला कांग्रेस, सेवा दल, एन‌एस‌यू‌आई, पिछड़ा वर्ग, आईटी एवं सोशल मीडिया सेल एवं अन्य सभी वरिष्ठों, युवाओं, किसानों, व्यापारीयों से आग्रह किया गया है कि 4 मार्च गुरुवार को शाम 7:00 बजे अस्पताल चौराहे पर पधार कर श्रद्धांजलि अर्पित कर दाऊ साहब कों याद करें।


युवा कांग्रेस अध्यक्ष देवेन्द्र सिंह एवं कांग्रेस आईटी सेल प्रदेश सचिव अरुण सिंह "चिन्टू" नें जानकारी देते हुये बताया की, स्व. अर्जुन सिंह की याद में दिनांक 6 मार्च को राव सागर तालाब चुरहट में प्रात 9:00 बजे से श्रद्धांजलि सभा आयोजित है, जिसमें पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह "राहुल" भी उपस्थित रहेंगे। बता दें की अर्जुन सिंह का देहावसान 4 मार्च 2011 को हुआ था, लेकिन उनका पार्थिव शरीर 6 मार्च को चुरहट स्थित रावसागर तालाब लाया गया था और वहीं पर उनका अंतिम संस्कार किया गया था।


गौरतलब है की विंध्य की माटी के सपूत एक छोटी सी जागीर से जनम लेकर भारत की राजनीति के क्षितिज पर अपनी प्रतिभा का लोहा मनाने वाले पूर्व मुख्यमंत्री स्व. कुंवर अर्जुन सिंह की यादों का अब अवशेष शेष रह गया है। चुरहट जागीर के राव घराने में 5 नवंबर 1930 को जन्में अर्जुन बीमारी के बाद राज्यसभा सदस्य रहते हुए 4 मार्च 2011 को इस दुनिया को अलविदा कह गए। आज भी भारतीय राजनीति में उन्हे शोषित, दलितों, अल्पसं यकों एवं पिछड़ा वर्ग के लिए संघर्ष व आरक्षण की मांग को लेकर आवाज उठाने वाला राजनेता के तौर पर याद किया जाता है। जिले में उन्हे दाऊ साहब के नाम से ही पुकारा जाता है।

No comments:

Post a Comment

Latest Post

कौन हैं चौधरी राकेश सिंह? जिनको लेकर कांग्रेस में मचा है घमासान।

भोपाल:   मध्यप्रदेश में संगठन की मजबूती के लिये प्रदेश कांग्रेस ने बड़ा बदलाव किया है। प्रदेश कांग्रेस ने संगठन में 56 जिलों में प्रभारियों ...