Wednesday, 31 March 2021

सीधी: जिले में 1 अप्रैल से 53 केन्द्रों पर 45 वर्ष के ऊपर सभी को लगेगा कोरोना का टीका।



  • बुधवार को 2200 से अधिक व्यक्तियों ने कराया टीकाकरण।

सीधी: जिले में बुधवार को 2200 से अधिक लोगों को टीकाकृत किया गया। वर्तमान में चलाए जा रहे कोरोना टीकाकरण अभियान के अंतर्गत जिला अस्पताल के कोविड टीकाकरण केंद्र का सांसद सीधी रीती पाठक और कलेक्टर रवींद्र कुमार चौधरी द्वारा निरीक्षण किया गया।  


बुधवार को जिला चिकित्सालय में भाजपा जिला अध्यक्ष इंद्र शरण सिंह चौहान ने कोविड का टीका लगवाया तथा जिला वासियों को टीका लगवाने के लिए आवाहन कर संदेश दिया कि कोरोना का टीका पूर्णत: सुरक्षित है, बिना देरी किए सभी लोग टीका अवश्य लगवाए। उन्होंने कहा कि अपने और अपने परिवार की सुरक्षा के लिए अनिवार्य रूप से टीकाकरण करायें।


मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी एल मिश्रा ने  बताया कि गुरुवार को जिले में 53 केन्द्रों पर कोविड वैक्सिनेशन किया जाएगा। 1 अप्रैल से समूचे प्रदेश सहित जिले के अंतर्गत वरिष्ठ नागरिक जो कि 45 या उससे अधिक उम्र के हैं सभी को टीकाकृत करने का अभियान चलाया जा रहा है। गुरुवार को जिला मुख्यालय अंतर्गत जिला अस्पताल, शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, जिला आयुर्वेद अस्पताल, विकासखण्ड सीधी अंतर्गत सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सेमरिया, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बंजारी, बरिगवां, करवाही, उप स्वास्थ्य केन्द्र गांधीग्राम, पटपरा, कोचिला, पनवार, चौफाल, अमरवाह, जमोड़ी, बरमबाबा, मधुरी पवाई, धुम्मा, कुकड़ीझर विकास खण्ड सिहावल अंतर्गत सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सिहावल, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र अमरपुर, बिठौली, पोखरा, बहरी, अमिलिया, नकझर, सुपेला उप स्वास्थ्य केन्द्र अमिलई, हटवा देवार्थ, बड़गांव, कुचवाही, पहाड़ी उत्तर, विकास खण्ड मझौली अंतर्गत  सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मझौली, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मड़वास, ताला, नौढ़िया, पांड़, डांगा, खडौरा उप स्वास्थ्य केन्द्र चमरौहा, पथरौला, नेबूहा, बकवा विकास खण्ड कुसमी अंतर्गत सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कुसमी, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र भुईमाढ़, टमसार, पोड़ी, उप स्वास्थ्य केन्द्र लूरघुटी, सेमरा, गोतरा रामपुर नैकिन विकास खण्ड अंतर्गत सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र रामपुर नैकिन, चुरहट, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खड्डी, हनुमानगढ़, डढ़िया, पोस्ता, बघवार, बड़खड़ा, धनहा, उप स्वास्थ्य केन्द्र शिकार गंज कुल 53 केन्द्रों पर टीकाकरण किया जाएगा।  


उन्होंने बताया कि हमारा पूरा प्रयास है कि शासन के निर्देशानुसार चरणबद्ध तरीके से जिले के समस्त जनो को कम से कम समय में टीकाकृत कर दिया जाए जिस हेतु अधिक से अधिक टीकाकरण केन्द्रों को संचालित किया जा रहा है। आप सभी सहयोग करें और नजदीकी टीकाकरण केन्द्र पर अपना टीकाकरण करवाएं। साथ ही कोरोना संक्रमण का दौर पुनः आरंभ हो गया है जिले में प्रतिदिन नए केस पाए जा रहे है। इसके रोकथाम के लिए पूर्ववत बताई गई सावधानियां मास्क का उपयोग करना, बार बार साबुन से या सैनिटाइजर से हांथ साफ करते रहना, समाजिक दूरी का पालन करते हुए अपने को सुरक्षित करें।

सीधी: आवश्यकता होने पर लॉकडाउन लगाने पर किया जाएगा विचार, सीएम शिवराज ने की जिलेवार समीक्षा।



सीधी: मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज कोरोना संक्रमण के चलते हुए जिलेवार समीक्षा की। उन्होंने 50 से अधिक नये पॉजीटिव प्रकरण के आठ जिले, 50 से 20 के बीच नये पॉजीटिव प्रकरण के 14 जिले तथा 20 से कम नये पॉजीटिव प्रकरण के 30 जिलों की जिलेवार समीक्षा कर अधिकारियों को निर्देश दिये कि कोरोना संक्रमण के केस न बढ़ें। हर हालत में अपने-अपने जिले में आवश्यक सावधानियां बरतते हुए आवश्यक उपाय किया जाना सुनिश्चित करें। जिन जिलों में आवश्यकता हो, उन जिलों में लॉकडाउन लगाने पर विचार किया जाये। आवश्यकतानुसार शनिवार की रात्रि 10 बजे से सोमवार की प्रातरू 6 बजे तक लॉकडाउन लगाया जाये।  


कलेक्टर रवींद्र कुमार चौधरी ने जिले की जानकारी देते हुए बताया कि जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के बेहतर उपाय किये जा रहे हैं और आवश्यक व्यवस्थाएं की जा रही है। जिले में मास्क एवं सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन कराया जा रहा है। मास्क नहीं पहनने वालों पर प्रतिदिन स्पॉट फाइन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए उपचार के लिए आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित की गई हैं। कलेक्टर ने बताया कि शासन के निर्देशानुसार चिन्हित आयुवर्ग के लोगों का टीकाकरण किया जा रहा है। गत टीकाकरण दिवस लक्ष्य के अनुरूप 135 प्रतिशत टीकाकरण किया गया है।


मास्क लगाना अनिवार्य एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराना आवश्यक।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिये हैं कि प्रत्येक व्यक्ति मास्क अनिवार्य रूप से लगाये। इसका अपने-अपने जिलों में कड़ाई से पालन कराया जाना सुनिश्चित करें और साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग हो, यह भी सुनिश्चित किया जाये। मास्क नहीं लगाने वालों एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने वालों पर जुर्माना लगाया जाये। दुकानों पर भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराया जाये और दुकानों के सामने गोल घेरे बनाकर पालन कराया जाना सुनिश्चित किया जाये। शासकीय दफ्तरों में भी मास्क पहनना सुनिश्चित हो।


जन-जागरूकता लाना आवश्यक।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिये हैं कि अपने-अपने जिलों में कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने के लिये जन-जागरूकता लाई जाये। इसके लिये धर्मगुरूओं, जनअभियान परिषद, एनसीसी, एनएसएस आदि संगठनों को जोड़कर जन-जागरूकता लाई जाये। जिन जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना के केस मिले हैं, उन क्षेत्रों पर भी विशेष ध्यान देकर संक्रमण को रोकने के उपाय किये जायें। प्रायवेट अस्पतालों में कोरोना के भर्ती मरीजों की जानकारी भी जिला कलेक्टरों को होनी चाहिये। होम आइसोलेशन की सतत मॉनीटरिंग कर उनसे चर्चा की जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जिला प्रभारी अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि वे अपने-अपने प्रभार के जिलों के अनिवार्य रूप से दौरे करें। रंग पंचमी होने के कारण कोई चल समारोह आदि न निकाले जायें। रंग पंचमी अपने घर पर ही मनायें। अनावश्यक रूप से किसी भी हालत में भीड़ इकट्ठी न हो, इस पर भी ध्यान दिया जाना आवश्यक है।


मुख्यमंत्री ने प्रत्येक जिलों के कलेक्टरों से अस्पतालों के बेड, ऑक्सीजन बेड, सेम्पल, टेस्टिंग, कोरोना का टीकाकरण आदि के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त की। जिला कलेक्टरों ने अपने-अपने जिलों की की जा रही आवश्यक व्यवस्थाओं के बारे में पॉवर पाइंट प्रजेंटेशन के माध्यम से वीसी में जानकारी दी।


वीसी में पुलिस अधीक्षक पंकज कुमावत, जिला पंचायत सीईओ आर के शुक्ला, सीएमएचओ डॉ. बी एल मिश्रा,  सिविल सर्जन डॉ. डी के द्विवेदी सहित संबंधित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

सीधी: कोरोना की रफ्तार बढ़ी, मिले 9 नए कोरोना संक्रमित।



  • 3 व्यक्ति ने जीती कोरोना से जंग।
  • कुल संक्रमित 2239, डिस्चार्ज 2187, एक्टिव केस 39, अब तक 13 की मौत।

सीधी: मध्यप्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर बेकाबू होती जा रही है। पिछले 24 घंटे में प्रदेश में 2332 केस मिले हैं। यही स्थिति पिछले साल सितंबर में थी। अगर बात मध्यप्रदेश के सीधी जिले की करें तो यहां भी कोरोना की रफ्तार बढ़ रही है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के द्वारा जानकारी दी गई कि बुद्धवार कि शाम तक में रैपिड एंटीजन किट द्वारा 47 टेस्ट किए गए। जिसमें से फीवर क्लीनिक जिला अस्पताल सीधी से 5 केस तथा रीवा मेडिकल कॉलेज वायरोलॉजी लैब से 4 केस कि पॉजिटिव रिपोर्ट प्राप्त हुई है।

 

सी.एम.एच.ओ. ने बताया कि कोरोना संक्रमण से 3 व्यक्तियो को स्वस्थ होने के बाद होम आइसोलेशन से डिस्चार्ज किया गया है। सभी को अपने घर पर अभी एक सप्ताह एहतियात बरतने के लिए समझाइश देते हुए आवश्यक दवाओं के सेवन करने के लिए दवा प्रदान की गई है। और सभी को आवश्यक सावधानियां रखने की सलाह दी गई है।


अब जिले में कुल 2239 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। अब तक 2187 व्यक्तियों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया जा चुका है। अब जिले में कुल एक्टिव केस 39 हो गए हैं।

दमोह उपचुनाव: चलते विधानसभा सत्र में पार्टी से इस्तीफा देनें वाले राकेश सिंह को कांग्रेस नें बनाया स्टार प्रचारक।



भोपाल: मध्यप्रदेश के दमोह विधानसभा में होने वाले उपचुनाव के लिये कांग्रेस नें अपनें स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी कर दी है। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ  दिग्विजय सिंह एवं पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह समेत कांग्रेस के कई युवा विधायकों को भी जगह दी गई है। साथ ही कांग्रेस नें चौधरी राकेश सिंह को भी स्टार प्रचारकों की लिस्ट में जगह दी है। बता दें की ये वही चौधरी राकेश सिंह हैं जिन्होनें वर्ष 2011-12 में भाजपा सरकार के खिलाफ कांग्रेेेस द्वारा लाये गये अविश्वास प्रस्ताव के बीच भरे सदन में उपनेता प्रतिपक्ष रहते हुये अपनी ही पार्टी से इस्तीफे का ऐलान करते हुये अविश्वास प्रस्ताव को गिरा दिया था और भाजपा का दामन थाम लिया था।


आइये जानतें हैं, कौन है चौधरी राकेश सिंह और किस समय उन्होनें कांग्रेस छोड़ी थी।
वर्ष 2011-12 में भाजपा सरकार के खिलाफ तत्कालीन नेताप्रतिपक्ष अजय सिंह द्वारा अविश्वास प्रस्ताव लाया गया था उस दौरान चलते विधानसभा सत्र में उपनेता रहे चौधरी राकेश ने कह दिया था कि वे अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन नहीं करते हैं। इस तरह कांग्रेस द्वारा लाया गया अविश्वास प्रस्ताव गिर गया था, और राकेश ने भाजपा का दामन थाम लिया था। वर्ष 2013 में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा ने उनके छोटे भाई मुकेश चौधरी को मेहगांव से टिकट दिया और वे चुनाव जीत गए थे। 2018 में फिर भाजपा ने राकेश को भिंड से टिकट दिया जहां से वे हार गए थे उसके बाद से ही वे कांग्रेस में आने के लिए प्रयासरत थे।



सिंधिया समर्थक मानें वाले चौधरी राकेश सिंह को सिंधिया की वजह से फिर से कांग्रेस में हुई थी वापसी।
मध्यप्रदेश के इतिहास में यह एकमात्र घटनाक्रम है जब विधानसभा सत्र के बीच उपनेता प्रतिपक्ष ने अपनी ही पार्टी से इस्तीफे का ऐलान किया हो। चौधरी राकेश सिंह ने कांग्रेस को यह झटका दिया था। लेकिन जब भाजपा में उनकी दाल नही गली तो वो वापस कांग्रेस में लौट आए। गौरतलब है की, चौधरी राकेश सिंह को सिंधिया समर्थक नेता माना जाता है। एक बार फिर उन्होंने शिवपुरी में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जब लोकसभा का नामांकन भरा था तब चौधरी राकेश भाजपा छोड़कर कांग्रेस में आ गए थे।


आखिर कांग्रेस के लिये क्या है, गद्दारी की परिभाषा।
अपनी गलतियों से ना सीखनें का दूसरा नाम ही मध्यप्रदेश कांग्रेस है। आखिर दलबदलुओं कें नाम पर कांग्रेस क्यूं बंटी हुई है। टीम कमलनाथ एक तरफ तो सिंधिया एवं उनके समर्थकों को पानी पी पी कर कोसते हैं और उन्हें गद्दार कहतें हैं, लेकिन यही टीम कमलनाथ  चौधरी राकेश सिंह एवं नारायण त्रिपाठी जैसे लोंगों को गद्दार नही मानती। आखिर यह दोहरा मापदंड क्यूं। अभी कुछ दिनों पहले भी कांग्रेस नें एक ऐसा ही फैसला लिया और नाथूराम गोडसे के भक्त बाबूलाल चौरसिया की कांग्रेस में वापसी करायी थी। जिसका पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव नें विरोध किया था।

Tuesday, 30 March 2021

दमोह उपचुनाव: कांग्रेस के स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी, अजय- कमलेश्वर की जोड़ी भी संभालेंगी प्रचार की कमान।



सीधी: मध्यप्रदेश के दमोह विधानसभा में होने वाले उपचुनाव के लिये कांग्रेस नें अपनें स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी कर दी है। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ  दिग्विजय सिंह एवं पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह समेत कांग्रेस के कई युवा विधायकों को भी जगह दी गई है। वही हाल ही में ही गोडसे भक्त बाबूलाल चौरसिया की कांग्रेस में वापसी को लेकर अपनी ही पार्टी के खिलाफ बगावत के सुर अपनाने वाले पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण यादव को भी की स्टार प्रचारक लिस्ट में शामिल किया गया है।


विंध्य से अजय- कमलेश्वर की जोड़ी संभालेंगी उपचुनाव के प्रचार की कमान।
दमोह उपचुनाव के लिये विंध्य क्षेत्र से आनें वाले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह तथा पूर्व मंत्री कमलेश्वर पटेल को भी स्टार प्रचारकों की लिस्ट में शामिल किया गया है। ये दोनों नेताओं की जोड़ी भी दमोह उपचुनाव के लिये प्रचार करेगी। इसके अलावा  पूर्व पीसीसी चीफ कांतिलाल भूरिया, सुरेश पचौरी, राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा, राजमणि पटेल, संजय कपूर, जीतू पटवारी, जयवर्धन सिंह और सज्जन सिंह वर्मा को लिस्ट में शामिल किया है। पार्टी ने 2020 के विधान सभा उपचुनाव में हारे उम्मीदवार फूल सिंह बरैया और रामसिया भारती को भी प्रचार का मौका दिया है।


गौरतलब है कि, 17 अप्रैल को होने वाले दमोह उपचुनाव के लिए बीजेपी ने राहुल लोधी और कांग्रेस ने अजय टंडन को उम्मीदवार बनाया है। इस चुनाव में दोनों ही दलों की साख दांव पर है, 2 मई को नतीजे आएंगे। बता दें की राहुल लोधी पहले कांग्रेस से विधायक थे लेकिन बाद में इस्तीफा देकर भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली थी जिसकी वजह से यह उपचुनाव हो रहा है।  


Sunday, 28 March 2021

दमोह उपचुनाव: कांग्रेस प्रत्याशी ने नोट नहीं- पार्टी के कार्ड बांटे, भाजपा का दावा निकला झूठा।



दमोह उपचुनाव: मध्यप्रदेश के दमोह विधानसभा सीट पर होनें वाले उपचुनाव को लेकर अब राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ गयी है और आरोप प्रत्यारोप का दौर चालू हो गया है। इसी बीच कल यानी शनिवार को दमोह से कांग्रेस प्रत्याशी अजय टंडन का मतदाताओं को कथित नोट बांटने वाला वीडियो वायरल हुआ था। जिसको लेकर भाजपा हमलावर हो गयी थी। यहां तक की प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा ने भी उस वीडियो को सोशल मीडिया पर अपलोड कर दिया।


मामला झूठा निकला।

बाद में यह मामला जब रिटर्निंग आफिसर के पास पहुंचा और उन्होनें संज्ञान में लेकर एफएसटी टीम से जांच कराई तो मामला झूठा निकला। हद की बात यह है कि इस मामले काे लेकर बीजेपी निर्वाचन आयोग तक पहुंच गई और टंडन की उम्मीदवारी निरस्त करने की मांग करने लगी। अब भाजपा की इस मसले पर जमकर किरकिरी हो रही है।


क्या था मामला।

दरअसल कांग्रेस प्रत्याशी टंडन शनिवार को सुबह 11 बजे जिला मुख्यालय से करीब पांच किमी दूर मारुताल के कोटातला हनुमान मंदिर के पास जनसंपर्क करने पहुंचे थे, यहां पर उन्होंने मंदिर में दर्शन किए और स्थानीय लोगों से बात करते हुए अपने जेब से निकालकर विजिटिंग कार्ड दिए, जो दूर से नजर नहीं आ रहे थे, यह वीडियो सामने आने के बाद बीजेपी ने इसे वायरल करके अजय टंडन पर मतदाताओं को नोट बांटने का आरोप लगा दिया।


दोपहर 3 बजे तक यह वीडियो सभी जगह फैल गया, यहां तक की बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा ने भी इस वीडियो को सोशल मीडिया पर शेयर करके सवाल उठाया था। साथ ही बीजेपी के प्रदेश मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए चुनाव आयोग से इस मामले में कार्रवाई की मांग कर डाली थी।


क्या कहा कांग्रेस प्रत्यासी नें।

कांग्रेस प्रत्याशी अजय टंडन ने कहा कि...भाजपा बौखला गई है। मैं लोगों को पार्टी का बिल्ला बांट रहा था। वह भी मेरे दोस्त ने छपवाकर दिए हैं। टंडन ने कहा कि वीडी शर्मा किसी अच्छे डॉक्टर के पास जाकर अपनी आंखों का इलाज कराएं। उन्हें बिल्ला और नोट में अंतर नहीं दिख रहा।


क्या कहा भाजपा प्रत्यासी नें।

बीजेपी प्रत्याशी राहुल सिंह ने कहा कि इन्होंने जो पहले पैसा एकत्रित किया है, अभी उसे बांटना शुरू कर रहे हैं। हाल ही में कमलनाथ जब दमोह पहुंचे थे उस समय भी पैसा देकर भीड़ जुटाई गई थी और अब एक और वीडियो सामने आया है, जिसमें कांग्रेस प्रत्याशी टंडन लोगों को पैसा बांटते हुए दिख रहे हैं।


क्या कहा दमोह कांग्रेस जिलाध्यक्ष नें।

दमोह जिला कांग्रेस अध्यक्ष मनु मिश्रा नें कहा की, भाजपा की इस हरकत से पता चल रहा है कि हमारा प्रत्याशी उन पर महा भारी पड़ रहा है, इसलिए बिना किसी तथ्य और जांच के आरोप लगाने लगे। केंद्र और राज्य में बीजेपी की सरकार है। इस मामले की जांच सीबीआई से क्यों नहीं कराई जा रही है।


क्या कहा दमोह भाजपा जिलाध्यक्ष नें।

दमोह भाजपा जिलाध्यक्ष प्रीतम सिंह नें कहा की, जो कांग्रेस प्रत्याशी का वीडियो वायरल हुआ है, उसे देखने से ऐसा लगा रहा है कि वे पैसा बांट रहे हैं। इसलिए हमने शिकायत की है। यह तो परिणाम बताएगा, कि भारी कौन पड़ रहा है।

Saturday, 27 March 2021

दमोह उपचुनाव: आखिर क्या है कमलनाथ की रणनीति, दिग्विजय- अजय- अरुण कहां हैं?



दमोह उपचुनाव: मध्यप्रदेश की दमोह विधानसभा सीट उपचुनाव को लेकर अब कांग्रेस के अन्दर असंतोष की खबर है। अभी जो माहौल दिख रहा है उसे देख ऐसा लग रहा की दमोह उपचुनाव की कमान पूर्व सीएम कमलनाथ नें पूरी तरह अपनें हाँथ में ले रखी है। ऐसे में सवाल यह खड़ा होता है की दूसरे बड़े नेताओं जैसे की पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह, पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव एवं कान्तिलाल भूरिया की भूमिका इस उपचुनाव में क्या होगी।


बता दें की, कांग्रेस उम्मीदवार अजय टंडन ने गुरूवार को अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। कमलनाथ दमोह में थे। इसके बाद भी वे नामांकन पत्र दाखिल कराने उम्मीदवार के साथ नहीं गए। टंडन का नामांकन पत्र दाखिल कराने कुछ स्थानीय नेता ही साथ गए।


दमोह में अजय टंडन को अपनी पसंद और सर्वे के आधार पर कमलनाथ ने ही टिकट दिया है। कमलनाथ, पिछले काफी समय से संगठन के साथ साथ विधायक दल के नेता भी है। उन्होनें सीएम रहते हुये भी पार्टी अध्यक्ष की कुर्सी नही छोड़ी थी। सीएम की कुर्सी से हटनें के बाद उन्होनें नेता प्रतिपक्ष की कुर्सी अपनें पास रख ली। ऐसे में अब पार्टी में लगातार असंतोष पनप रहा है।


गौरतलब है की, कमलनाथ के सीएम रहते हुये उनके और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच मतभेद इतनें बढ़ गये की, सिंधिया नें कांग्रेस पार्टी छोड दी और अपनें समर्थक विधायकों के साथ भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली। जिसकी वजह से कमलनाथ सरकार गिर गयी। सिंधिया के जानें के बाद कमलनाथ नें कांग्रेस की पूरी कमान अपनें पास रख ली और दिग्विजय सिंह, अजय सिंह, कांतिलाल भूरिया और अरूण यादव जैसे कद्दावर चेहरे हाशिए पर दिखाई दे रहे हैं। दमोह विधानसभा उप चुनाव के लिए आयोजित की गई पहली सभा के मंच पर कांग्रेस एकजुट होने का संदेश नहीं दे पाई। कमलनाथ के अलावा कार्यक्रम में कोई दूसरा बड़ा नेता मौजूद नहीं था।  


कमलनाथ के दोनों बड़े पद अपनें पास रखनें से फैल रहा असंतोष।

कमलनाथ का एक साथ पार्टी अध्यक्ष एवं नेता प्रतिपक्ष जैसे दोनों महत्वपूर्ण पद अपनें पास रखनें के कारण कांग्रेस की राजनीति में असंतोष बढ़ता जा रहा है। अभी हाल में ही गोडसे भक्त बाबूलाल चौरसिया के कांग्रेस में प्रवेश को लेकर काफी हंगामा मचा था। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष अरुण यादव ने तो तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा था कि बापू हम शर्मिंदा हैं। इस मुद्दे को लेकर एक अन्य नेता माणक अग्रवाल को पार्टी से ही बाहर निकाल दिया गया।


अजय सिंह के निवास पर भी पिछले कुछ दिनों से कांग्रेस के दिग्गजों एवं विधायकों का लग रहा जमावड़ा।

मध्यप्रदेश कांग्रेस के दिग्गज नेता एवं पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह भी दमोह उपचुनाव को लेकर अभी तक सक्रिय नही हुये हैं। जिसको लेकर सवाल खड़े हो रहें हैं। हालांकि दमोह उपचुनाव की घोषणा के पहले अजय सिंह नें दमोह के पूर्व भाजपा विधायक एवं पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया से मुलाकात की थी, जिसको लेकर कई तरह के राजनीतिक मायने निकाले जा रहे थे। इसी बीच पिछले कुछ दिनों से अजय सिंह के भोपाल स्थित आवास C 19 पर कांग्रेस विधायकों एवं दिग्गजों का जमावड़ा लगना चालू हो गया है, जिसको लेकर भी राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ी हुई है।


क्या होगी दिग्विजय सिंह की भूमिका।

मध्यप्रदेश में कांग्रेस कार्यकर्ताओं की नब्ज समझने वाले दिग्विजय सिंह अकेले नेता हैं। विधानसभा चुनाव में दिग्विजय सिंह को नेताओं के बीच समन्वय स्थापित करने की जिम्मेदारी सौंपी थीं। दिग्विजय सिंह राज्य के दस साल मुख्यमंत्री रहे हैं। वर्ष 2003 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की हार हुई। पार्टी की हार के बाद दिग्विजय सिंह ने अपनी घोषणा के अनुसार पार्टी में दस साल तक कोई पद नहीं लिया और चुनाव भी नहीं लड़ा। लेकिन 2018 के विधानसभा के चुनाव में कांग्रेस के मैदानी कार्यकर्ताओं के बीच समन्वय स्थापित करने में दिग्विजय सिंह की भूमिका बेहद महत्वपूर्ण रही थी। कांग्रेस की सत्ता में वापसी भी हो गयी। लेकिन 15 महीनें में ही कांग्रेस की सरकार गिर गयी। सरकार गिरनें के बाद पिछले 28 विधानसभा सीटों के उपचुनाव में दिग्विजय सिंह मुख्य भूमिका में दिखाई नहीं दिए थे। अब यह देखना दिलचस्प होगा की दमोह उपचुनाव में उनकी क्या भूमिका रहेगी।

पंजाब में किसानों ने भाजपा विधायक को निर्वस्त्र कर पीटा, चेहरे पर कालिख भी पोती।



सीधी CHRONICLE: कृषि बिल के विरोध में पिछले 4 महीने से दिल्ली की सीमाओं पर किसान डटे हुए हैं। किसान तीनों कानूनों को रद्द करने की मांग पर अड़े हैं। लेकिन इसी बीच आज शनिवार को केंद्र सरकार द्वारा लाये गये कृषि कानूनों के विरोध में नाराज किसानों नें पंजाब के भाजपा विधायक को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।उनके कपड़े फाड़ दिए और उनके चेहरे पर कालिख पोत दी। पुलिस की मदद से उन्हें बचाया गया। भाजपा विधायक पर ये हमला मलोट शहर में हुआ।


क्या है पूरा मामला।

शनिवार को किसानों ने पंजाब में मुक्तसर जिले के मलोट में भाजपा विधायक अरुण नारंग को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। और उनके कपड़े तक फाड़ दिए। इसके बाद उनके चेहरे पर और कपड़ों पर कालिख पोतने की कोशिश की गई। उनकी गाड़ी पर भी कालिख पोती गई। काफी मशक्कत के बाद पुलिस प्रशासन ने घेराबंदी कर विधायक को नग्न हालत में एक दुकान में घुसाकर शटर बंद कर जान छुड़ाई।


बता दें कि भाजपा विधायक अरुण नारंग शनिवार को मलोट जीटी रोड पर स्थित दफ्तर में भाजपा की उपलब्धियों व कैप्टन सरकार के चार वर्ष पूर्ण होने पर कांग्रेस सरकार की नाकामियों पर चर्चा करने के लिए प्रेसवार्ता रखी गई थी। उनके मलोट आगमन की सूचना किसानों को मिलते ही किसानों ने दफ्तर के पास ही तहसील चौक पर धरना प्रदर्शन शुरु कर दिया। जैसे ही शाम साढ़े चार बजे विधायक अरुण नारंग भाजपा जिला अध्यक्ष राजेश पठेला गोरा सहित दफ्तर पहुंचे तो किसान भी तहसील चौक से पीछे-पीछे दफ्तर के समक्ष पहुंच गए और वहां प्रदर्शन शुरु कर दिया।  


कई प्रदर्शनकारियों ने झड़प के दौरान विधायक के चेहरे पर कालिख पोतने की कोशिश की, मगर खिंचातान में पहले तो विधायक के कपड़े काले हो गए। धीरे-धीरे आंदोलन इतना उग्र हो गया कि भड़के प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की मौजूदगी में ही विधायक के कपड़े फाड़ उन्हें बिल्कुल नग्न ही कर दिया। पुलिस ने जैसे-तैसे बीच-बचाव कर विधायक को एक दुकान के अंदर घुसाकर उनकी जान बचाई।

सीधी: जिला अधिवक्ता संघ अध्यक्ष पद के लिए 6 नामांकन हुये दाखिल, सभी पदों के लिए 28 ने भरा पर्चा।



सीधी: जिला अधिवक्ता संघ सीधी के चुनाव प्रक्रिया मे 27 मार्च 2021 को शाम 4ः00 बजे तक नामांकन भरने का समय समाप्त होने तक कुल 28 नामांकन पत्र प्राप्त हुये। नामाकंन पत्र प्राप्त करने हेतु अधिकृत सहायक निर्वाचन अधिकारी शिवराज सिंह पटेल ने बाताया कि,अध्यक्ष पद हेतु अधिवक्ता बृजेन्द्र सिंह, विनयधर द्विवेदी, राकेशरतन सिंह, आनन्द पाण्डेय, महीप शुक्ला व प्रकाश मिश्रा के नाम नामांकन पत्र जमा किया गया।


उपाध्यक्ष पद हेतु अधिवक्ता गोपालदास मिश्रा, बालमुकुन्द सोनी, प्रवीण कुमार शुक्ला व रुबीना कौशर नामाकंन पत्र प्राप्त हुये। सचिव पद हेतु अधिवक्ता राजेन्द्र कुमार जायसवाल, प्रभाशंकर शुक्ला, विद्याकांत मिश्रा, पुष्पेन्द्र सिंह चैहान नामाकंन पत्र प्राप्त हुये। सहसचिव पद हेतु केवल राजेन्द कुमार गुप्ता द्वारा नामाकंन जमा किया गया । कोषाध्यक्ष पद हेतु अधिवक्ता प्रदीप कुमार सिंह चैहान, पंकज पाण्डेय व विनोद कुमार शर्मा के नामाकंन पत्र प्राप्त हुये।


पुस्तकाध्यक्ष पद हेतु अधिवक्ता दयाशकर वर्मा व रेवती रमण मिश्रा के द्वारा नामांकन पत्र जमा किये गये तथा संघ के कार्यकारिणी सदस्य पद हेतु राजेन्द्र बहादुर सिंह परिहार, महेन्द्र सिंह चैहान, राजेन्द्र तिवारी, प्रदीप कुमार सिंह बाघेल, अशोक कुमार पाण्डेय, लवकुश प्रसाद मिश्रा, नरेश पाण्डेय व राजेन्द्र कुमार पाठक द्वारा नामांकन पत्र भरे गये।


नामाकंन पत्रो की जांच दिनाक 31 मार्च 2021 को मुख्य निर्वाचन अधिकारी ओमप्रकाश श्रीवास्तव अधिवक्ता व सहायक निर्वाचन अधिकारी राजेन्द्र सिंह बाघेल, श्रीमती सुजाता मिश्रा व शिवराज सिंह पटेल के द्वारा जिला अधिवक्ता संघ सीधी के पुस्तकालय कक्ष मे दोपहर 12ः00 बजे से 2ः00 बजे तक की जायेगी।

सीधी: विवाह में 100 तथा अंत्येष्टि में 50 व्यक्तियों से ज्यादा लोग नहीं हो सकेंगे शामिल, आदेश जारी।



  • जिला मजिस्ट्रेट श्री चौधरी ने जारी किया प्रतिबंधात्मक आदेश।
  • जुलूस, मेले सहित सार्वजनिक रूप से लोगों का एकत्रित होना प्रतिबंधित रहेगा।
  • विवाह में 100 तथा अंत्येष्टि में अधिकतम 50 व्यक्तियों के सम्मिलित होने की अनुमति होगी।

सीधी: कोविड-19 के संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम हेतु कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट रवींद्र कुमार चौधरी द्वारा संशोधित प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किया गया है। जारी आदेशानुसार 08 फरवरी 2021 को जारी प्रतिबंधात्मक आदेश में आंशिक संशोधन करते हुये प्रतिबंधात्मक आदेश प्रसारित किया गया है। जिला अंतर्गत समस्त सामाजिक एवं धार्मिक त्यौहारों में निकलने वाले जुलूस, गैर, मेले सार्वजनिक रूप से लोगों का एकत्रित होना प्रतिबंधित रहेगा।


जिला सीधी अंतर्गत जिला पंचायत सभागर में आयोजित होने वाली जनसुनवाई कार्यक्रम में मास्क लगाना एवं दो गज की सामाजिक दूरी बनायें रखना अनिवार्य होगा।  प्रदेश में कोविड संक्रमित लोगो की संख्या में दिनों दिन हो रही वृद्धि को दृष्टिगत रखते हुये जिला सीधी अंतर्गत विवाह एवं अन्य सामाजिक कार्यक्रम में 100 तथा अंत्येष्टि में अधिकतम 50 व्यक्तियों के सम्मिलित होने की अनुमति होगी। समस्त नागरिकों से अपील की गई है कि कोविड-19 के संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिये होली का त्यौहार परिवार जनों के साथ ही मनाये।             

उल्लेखनीय है कि देश व प्रदेश में बढ़ रहे कोविड-19 के मामलों के देखते हुए भारत सरकार गृह मंत्रालय नई दिल्ली तथा मध्यप्रदेश शासन गृह विभाग मंत्रालय वल्लभ भवन भोपाल द्वारा कोविड-19 के संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम हेतु पृथक से दिशा-निर्देश जारी किया जाकर प्रभावी रूप से लागू किये जाने हेतु निर्देशित किया गया है।


उपरोक्त शर्तो का उल्लंघन करने की स्थिति में संबंधित के विरूद्ध आई.पी.सी. की धारा 188 एवं राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 की धारा 51 से 60 तथा अन्य प्रासंगिक विधियों के तहत दाण्डिक कार्यवाही की जायेगी।

सीधी में फिर गैंगरेप: शराब के नशे में 2 युवकों ने युवती के साथ किया दुष्कर्म, फरार।



सीधी: मध्यप्रदेश के सीधी जिले में एक बार फिर मानवता को शर्मसार कर देने वाली गैंगरेप की घटना सामनें आयी है। घर में अकेली युवती के साथ पड़ोस में आए दो युवकों ने शराब के नशे में दुष्कर्म किया और फरार हो गये। घटना के समय युवती घर पर अकेली थी। परिजनों के आने के बाद उसने घटना बताई। युवती को जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है। दोनों आरोपियों पर मामला दर्ज कर लिया गया है।


प्राप्त जानकारी के अनुसार, मध्यप्रदेश के सीधी जिले में रामपुर नैकिन थाना अंतर्गत यह घटना घटित हुई। युवती के माता-पिता व भाभी खेत में काम करने गए थे और वह अपने घर में अकेली थी। वहीं पड़ोसी के घर में दो रिश्तेदार आए थे। 25 मार्च की दोपहर करीब 2 बजे शराब के नशे में दोनों युवक, युवती के घर में घुस गए। फिर युवती को किचन में ले जाकर गैंगरेप किया। युवती चीखती और चिल्लाती रही, फिर भी आरोपियों ने रहम नहीं किया।


आरोपी फरार।

युवती के साथ गैंगरेप करनें के बाद दोनों आरोपी फरार हो गए। इन दो आरोपियों में से एक को पीड़िता नहीं पहचानती है। इसके कारण रामपुर नैकिन पुलिस ने एक आरोपी का नामजद व एक अज्ञात आरोपी के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज किया है।


गौरतलब है की सीधी में कुछ महीने पहले यानी जनवरी में भी एक ऐसी ही मानवता को शर्मसार कर देने वाली घटना सामनें आयी थी। अमिलिया थाना क्षेत्र में महिला के साथ तीन युवकों ने निर्भया गैंगरेप जैसी हैवानियत करते हुये सारी हदें पार कर दीं थी। उन्होंने महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया और उनके प्राइवेट पार्ट में लोहे का सरिया डाल दिया था। पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था।

रीवा: डॉ. विवेक तिवारी "बाबला" का दिल्ली में इलाज के दौरान निधन, अजय सिंह नें जताया दुख।


रीवा: मध्यप्रदेश के रीवा जिले से एक दुखद खबर है। मध्यप्रदेश के कद्दावर कांग्रेस नेता एवं मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व स्पीकर स्व. श्री निवास तिवारी के पौत्र डॉ. विवेक तिवारी "बाबला" का दिल्ली में इलाज के दौरान आज शनिवार की सुबह निधन हो गया।


प्राप्त जानकारी के अनुसार, विवेक तिवारी "बाबला" लम्बे समय से किडनी एवं लीवर की बीमारी से ग्रस्त थें एवं दिल्ली के जेके हॉस्पिटल में उनका इलाज चल रहा था। आज शनिवार की सुबह इलाज के दौरान उन्होंने में अंतिम सांस ली। बता दें की विवेक तिवारी "बाबला" कांग्रेस के सक्रिय युवा नेता थे एवं रीवा के युवाओं के बीच काफी लोकप्रिय थे। वो कांग्रेस के टिकट पर विधानसभा का चुनाव भी लड़ चुकें है।


अजय सिंह नें जताया दुख।

मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह नें विवेक तिवारी "बाबला" के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। उन्होनें कहा - " पूर्व विधानसभा अध्यक्ष स्वर्गीय श्रीयुत श्रीनिवास तिवारी जी के नाती श्री विवेक तिवारी बाबला के आज दिल्ली में निधन होने का दुःखद समाचार मिला है। परमात्मा दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करे और परिजनों को दुःख सहने की शक्ति दे। ॐ शांति।



कोरोना की चपेट में आए राज्यसभा सांसद अजय प्रताप सिंह, खुद ट्वीट कर दी जानकारी।


सीधी: भारत में लगातार कोरोना वायरस के मामले बढ़ रहे हैं। आए दिन चौंकाने वाले आंकड़े सामने आ रहे हैं। जिस तरह से कोरोना के मामले रोजाना सामने आ रहे हैं, उससे लगता है कि वैक्सीनेशन प्रोग्राम के बावजूद भी कोरोना के दूसरी लहर की स्थिति पहली लहर से भी बदतर हो सकती है। अब इसी बीच खबर है की, मध्यप्रदेश से राज्यसभा सांसद अजय प्रताप सिंह भी कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं।


खुद दी जानकारी।

मध्यप्रदेश से भाजपा के राज्यसभा सांसद अजय प्रताप सिंह नें अपने ट्विटर हैंडल पर अपनें कोरोना पॉजिटिव होनें की जानकारी दी है। श्री सिंह ने ट्वीट करके बताया की, "पिछले कुछ दिनों से मुझे बुखार आ रहा था, जिसके बाद आज मैंने कोविड टेस्ट कराया, जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, जो भी लोग मेरे संपर्क में आए हैं  सभी से अपील है कि अपना कोविड टेस्ट जरूर करवाये!"


आपकी जानकारी के लिए बता दें कि शनिवार को देश में पिछले 5 महीनों के सबसे ज्यादा मामले सामने आए। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 62,258 नए मामले सामने आए हैं। देश में दूसरी लहर के कहर के कारण कोरोना के मामलों में लगातार चौकाने वाली बढ़ोतरी देखी जा रही है। कोरोना की पहली लहर को पिछले साल नवंबर में कंट्रोल में लाया गया था।

Friday, 26 March 2021

सतना: पुलिस नें 36 घंटे में किया 4 करोड़ की लूट का खुलासा, 4 आरोपी गिरफ्तार।



सतना: पूर्व मंत्री के भाई के फार्म हाउस में हुई 4 करोड़ की लूट का सतना पुलिस ने 36 घंटे में खुलासा कर दिया। इस खुलासे के साथ साथ ही पुलिस ने चार आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया है। साथ ही पुलिस ने लूटी गई राशि 2 करोड़ 24 लाख 61 हजार 500 रूपये नगद तथा तीन किलो सोना भी बरामद कर लिया है।


पुलिस द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार फार्म हाउस का कर्मचारी ही इस सनसनीखेज लूट का मुख्य सरगना निकला। पुलिस ने लूदा वसदेवा पिता अयोध्या वसदेवा 40 वर्ष निवासी ग्राम दरबार थाना इंदवार जिला उमरिया, अजय दाहिया पिता उत्तमलाल दाहिया 27 वर्ष निवासी दरबार थाना इंदवार जिला उमरिया, सुरेश उर्फ राजा दाहिया पिता मथुरा प्रसाद दाहिया 39 वर्ष निवासी ग्राम इटौरा थाना बरही जिला कटनी एवं सुरेश केवट तनय लक्ष्मण प्रसाद केवट 35 वर्ष निवासी ग्राम गुड़हर पोस्ट इटौरा जिला कटनी को गिरफ्तार कर लिया है।  


पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि 24 मार्च को फरियादी श्रवण पाठक द्वारा शिकायत की गई थी, कि उनके फार्म हाउस में 3 करोड़ की नगदी और करीब 3 किलो सोने के आभूषण की लूट हो गई है। जिसके बाद पुलिस अधिकारियों द्वारा लगातार 36 घंटे इस मामले की जांच पड़ताल की गयी और 4 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। वही एक आरोपी फरार है। जिसकी तलाश जारी है।

शहडोल: पिछले साल औरंगाबाद रेल हादसे में 16 मजदूरों की हुई थी मौत, अभी तक नही मिला उनका मृत्यु प्रमाण पत्र।



शहडोल: पिछले साल कोविड-19 महामारी के फैलने के दौरान अचानक लॉकडाउन की घोषणा के बाद चारों तरफ अफरा तफरी मच गयी थी और प्रवासी मजदूर पलायन को मजबूर हो गये थे। इसी दौरान महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में एक दिल दहला देनें वाली घटना घटित हुई थी। यह घटना पिछले साल 8 मई को हुई थी, जिसमें 16 मजदूर रेलवे पटरी पर मालगाड़ी की चपेट में आ गये थे और उनकी दर्दनाक मौत हो गई थी। अब इस घटना को घटित हुये 10 महीनें हो गयें हैं लेकिन अभी भी इनमें से कई मजदूरों के परिवारों को अपने मृतक परिजनों का मृत्यु प्रमाण पत्र नही मिल पाया है।


इस बारे में जयसिंह नगर के एसडीएम दिलीप पांडेय के हवाले से जो जानकारी मिली है, उसके मुताबिक महाराष्ट्र सरकार को एक बार फिर इस विषय में पत्र लिखा जायेगा। साथ ही ये भी जानकारी मिली है की 'महाराष्ट्र सरकार को इस विषय में बार-बार पत्र लिखा गया है, लेकिन 8 मई, 2020 को महाराष्ट्र के औरंगाबाद में जान गंवाने वाले लोगों का मृत्यु प्रमाण पत्र अभी तक नही मिल पाया है।


हालांकि इस हादसे में जान गंवाने वालों को महाराष्ट्र सरकार और मध्यप्रदेश सरकार की तरफ से पूरा मुआवजा दिया गया है। लेकिन मृत्यु प्रमाण पत्र का इंतजार अभी भी किया जा रहा है। परिजनों को डर है कि अगर यह नहीं मिलता है तो वह कई सरकारी योजनाओं के लाभ से वंचित रह जाएंगे।


गौरतलब है की, पिछले साल 8 मई को रेल हादसे में मारे गये सभी मजदूर महाराष्ट्र के जलगांव में आयरन फैक्ट्री में काम करते थे। ये लोग औरंगाबाद से मध्यप्रदेश के लिए निकली स्पेशल ट्रेन को पकड़ना चाहते थे। इन सभी लोगों को उम्मीद थी कि वह भुसावल जाकर ट्रेन पकड़ लेंगे। करीब 45 किलोमीटर तक चलने के बाद सभी थक गए और ट्रैक पर ही आराम करने लगे। थकान की वजह से ज्यादातर लोगों को नींद आ गई और वह ट्रैक पर ही सो गए। इसी दौरान वहां से ट्रेन गुजरी और सभी लोग इसकी चपेट में आ गए।

अजय सिंह नें दी होली की शुभकामनायें: कहा- होली संक्षिप्त रूप से घर में ही मनाएं, अपनी सुरक्षा खुद करें।



भोपाल: मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने होली पर अपने शुभकामना संदेश में कहा है कि आज हम ऐसे समय में यह त्यौहार मना रहे हैं जब कोरोना काल चल रहा है। हर परिवार इस महामारी से चिंतित है। ऐसे समय में हमें अपनी सुरक्षा खुद करनी है क्योंकि भाजपा सरकार का ध्यान इस ओर बिलकुल नहीं भी है। सरकार को न तो लोगों की सुरक्षा से कोई मतलब है और न ही कोरोना काल में गरीबों के रोजगार से।


श्री सिंह ने कहा कि मैं विन्ध्य सहित प्रदेश की तमाम जनता  को इस होली त्यौहार की शुभकामनाएं देता हूँ। आप सभी से विनम्र आग्रह है कि होली घर पर ही संक्षिप्त रूप से मनाएं। मास्क जरुर लगायें और एक दूसरे से दूर से ही अभिवादन करें। थोड़े थोड़े अन्तराल पर सेनेटाइजर हाथ में लगाते रहें। मेरा यह भी आग्रह है कि इस विपत्ति के समय एक दूसरे की डोर थामे रखने में ही भलाई है और वक्त पर जरूरतमंद परिवार की मदद जरुर करें। कोविड का टीका भी लगवायें।


मुझे विश्वास है कि इस होली पर आपसी संबंध और भाईचारा और मजबूत होगा। सबको हार्दिक बधाई।

Thursday, 25 March 2021

सीधी में कोरोना की बढ़ी रफ्तार, मिले 11 नये मरीज।



सीधी: मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के द्वारा जानकारी दी गई कि गुरुवार कि शाम तक में रैपिड एंटीजन किट द्वारा 115 टेस्ट किए गए। जिसमें से फीवर क्लीनिक जिला अस्पताल सीधी से 8 सेमरिया से 1, कुसमी से 1 तथा रीवा मेडिकल कॉलेज वायरोलॉजी लैब से 1 केस कि पॉजिटिव रिपोर्ट प्राप्त हुई है।


सी.एम.एच.ओ. ने बताया कि कोरोना संक्रमण से 3 व्यक्तियो को स्वस्थ होने के बाद होम आइसोलेशन से डिस्चार्ज किया गया है। सभी को अपने घर पर अभी एक सप्ताह एहतियात बरतने के लिए समझाइश देते हुए आवश्यक दवाओं के सेवन करने के लिए दवा प्रदान की गई है। और सभी को आवश्यक सावधानियां रखने की सलाह दी गई है।


अब जिले में कुल 2219 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। अब तक 2162 व्यक्तियों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया जा चुका है। अब जिले में कुल एक्टिव केस 44 हो गए हैं।


बता दें की, मध्य प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर खतरनाक होती जा रही है। पिछले 24 घंटे में 1885 नए केस मिले हैं। यह पिछले 6 महीने में एक दिन का सबसे ज्यादा हैं। इससे पहले 6 सितंबर को 1885 संक्रमित मिले थे। इसके साथ ही प्रदेश में एक्टिव केसाें का आंकड़ा 11 हजार के पार हो गया है। मार्च में हर राेज औसतन 330 एक्टिव केस बढ़ रहे हैं।

रीवा: बघेली काॅमेडियन अविनाश तिवारी की कार पर हमला, फेंकी गयी बीयर की बोतल।


रीवा: बघेली काॅमेडियन अविनाश तिवारी पर बुधवार को कुछ लोगों नें हमला कर दिया। प्राप्त जानकारी के अनुसार, श्री तिवारी दोपहर करीब 3:30 बजे रीवा के समान थाना क्षेत्र के लैंड मार्क होटल के पास से गुजर रहे थे। इसी दौरान बाइक सवार कुछ लोगों ने उनके ऊपर बियर की बोतल फेंक दी। हालांकि अविनाश तिवारी को चोट नहीं आई है।


अविनाश तिवारी के आरोप।

अविनाश तिवारी की तरफ से जो जानकारी आयी है, उसके अनुसार, उन्होनें कुछ दिन पहले कृष्णा राजकपूर सभागार में बघेली बौछार के नाम से कार्यक्रम किया था। इसमें विंध्य का एक वर्ग नाराज था। कला के क्षेत्र में ये लोग सामना नहीं कर सके, तो अब गाड़ी पर हमला कर रहे हैं।


अविनाश तिवारी की तरफ से आगे कहा गया की, बघेली बौछार कार्यक्रम के बाद से ही उन्हें फोन पर जान से मारने की धमकी दी जा रही है। आज उनके ऊपर अज्ञात बदमाशों ने हमला भी कर दिया। हला की कार का शीशा बंद था और नहीं टूटा, वरना उन्हें चोट पहुंच सकती थी।


अविनाश की तरफ से ये भी कहा गया की, पहले वो सीधी और मुंबई तक सीमित थे । अब करीब दो साल से विंध्य के सभी जिलों में जाकर कार्यक्रम में शामिल हो रहें हैं लेकिन अन्य किसी को आपत्ति नहीं हुई, लेकिन रीवा के कुछ लोग पीछे पड़े हैं। अविनाश तिवारी नें अपनें फेसबुक पोस्ट के माध्यम से ये भी कहा की "आज मेरी कार में हमला हुआ कल मुझ पर भी हो सकता है"।

(अविनाश तिवारी का फेसबुक पोस्ट )


पूर्व मंत्री के भाई के फार्म हाउस में लूट, चौकीदार को बंधक बनाकर 3 करोड़ नकदी और 3 किलो के आभूषण लूटे।



सतना: मध्यप्रदेश के सतना जिले में मंगलवार देर रात बदमाशों ने  पूर्व मंत्री स्व. बृजेंद्रनाथ पाठक के भाई के फार्म हाउस में चौकीदार को बंधक बना लिया। उसके साथ मारपीट करते हुए नकदी और सोना लेकर फरार हो गए। घटना की सूचना पर एसपी धर्मवीर सिंह यादव फोर्स के साथ घटनास्थल पहुंचे।


बता दें की, लुटेरे फार्म हाउस से 3 करोड़ रुपए नकदी और 3 किलो सोने के जेवर अपने साथ ले गए। फार्म हाउस पूर्व मंत्री स्व. बृजेंद्रनाथ पाठक के भाई और डॉक्टर राजीव पाठक का है। राजीव पाठक का सतना शहर में नर्सिंग होम भी है। एसपी धर्मवीर सिंह यादव खुद मौका मुआयना करने पहुंचे थे।


डॉ. राजीव पाठक के पिता श्रवण पाठक खदान कारोबारी हैं। कुछ दिन पहले श्रवण पाठक सतना शहर में चाणक्यपुरी कॉलोनी स्थित अपने निवास से सगमनिया के भनजुना रोड स्थित शिवपुरवा मदरेह फार्म हाउस पर रहने चले गए थे। वहां कुछ निर्माण कार्य भी वे करवा रहे थे। इस दौरान उन्होंने करीब 3 करोड़ रुपए नकद और 3 किलो सोने के जेवरात भी यहां रखे थे। निर्माण कार्य पूरा होने के बाद श्रवण पाठक वापस चाणक्यपुरी स्थित घर आ गए थे, लेकिन रकम और जेवरात वहीं छोड़ आए।

Tuesday, 23 March 2021

अब सीधी में ऐसे खत्म होगा कोरोना: 11 बजते ही बजा सायरन, कलेक्टर- एसपी ने सोशल डिस्टेंसिंग हेतु बनाए गोले।



सीधी: मध्यप्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर को रोकने के लिए राज्य सरकार हर तरह की कोशिश कर रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के आदेश पर लोगों को कोरोना के प्रति जागरूक करने के लिए पूरे प्रदेश में मंगलवार सुबह 11 बजे, 2 मिनट के लिए सायरन बजाया गया। सीएम के आदेश पर सीधी में भी सायरन बजाया गया। साथ ही सीधी कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक सहित क्राइसिस मैनेजमेंट समूह के सदस्यों ने सोशल डिस्टेंसिंग हेतु गोले भी बनाए।


कलेक्टर श्री रवींद्र कुमार चौधरी एवं पुलिस अधीक्षक श्री पंकज कुमावत द्वारा प्रतिष्ठानों के सामने सोशल डिस्टेंसिंग हेतु गोले बनाए गए और दुकानदारों से भी अपील की गई  कि वे अपनी दुकानों के सामने दूरी रखने के लिए गोले बनाएं, मास्क और सैनिटाइजर का उपयोग करें।  


इस अवसर पर क्राइसिस मैनेजमेंट समूह के सदस्यों अपर कलेक्टर श्री हर्षल पंचोली, सीईओ जिला पंचायत श्री आर के शुक्ला, श्री इंद्र शरण सिंह चौहान, श्री राजेन्द्र सिंह भदौरिया, श्री देवेंद्र सिंह मुन्नू, डॉ. अनूप मिश्रा, श्री कमल कामदार, श्री रमेश अग्रहरी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी एल मिश्रा सहित गणमान्य नागरिकों एवं अधिकारियों द्वारा लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जागरूक किया गया तथा मास्क का वितरण कर मास्क लगाने के लिए प्रेरित किया गया।

MP में भीषण सड़क हादसा: बस-ऑटो की टक्‍कर में 13 की मौत, 4 घायल।



ग्वालियर: मध्य प्रदेश के ग्वालियर में आज एक भीषण सड़क हादसा हो गया। यह हादसा ग्वालियर के पुरानी छावनी थाना क्षेत्र के आनंदपुर ट्रस्ट के सामने हुआ, जहां एक ऑटो और बस की टक्कर में 13 लोगों की मौत हो गई। मरने वालों में 12 महिलाएं और ऑटो ड्राइवर शामिल हैं। ये महिलाएं पुरानी छावनी स्टोन पार्क स्थित पोषण आहार के किचन से काम करके लौट रही थीं।


प्राप्त जानकारी के अनुसार, ऑटो रिक्शा में 13 लोग सवार थे, जिनमें से अधिकांश महिलाएं थीं। यह सभी लोग एक समारोह से खाना बनाकर लौट रहे थे, तभी मुरैना की तरफ से आ रही एक तेज रफ्तार बस ने ऑटो को टक्कर मार दी। इस घटना में अब तक 13 लोगों की मौत हो चुकी है, जिसमें अधिकांश महिलाएं हैं। वहीं, चार अन्‍य घायलों की स्थिति गंभीर है।


CM शिवराज ने मृतकों को दी 4-4 लाख देने की घोषणा।

मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मृतकों के परिजनों के लिए 4 लाख और घायलों के लिए 50 हजार रुपये का मुआवजा देने की घोषणा की है। सीएम शिवराज सिंह ने घटना को लेकर कहा कि ग्वालियर में बस और ऑटो में टक्कर से हुए भीषण हादसे में कई लोगों की जान गई जिससे मैं बहुत दुःखी हूं। प्रदेश सरकार की ओर से प्रत्येक मृतक के परिवार को 4 लाख और घायलों को 50 हजार रुपये सहायता राशि दी जायेगी।

Latest Post

कौन हैं चौधरी राकेश सिंह? जिनको लेकर कांग्रेस में मचा है घमासान।

भोपाल:   मध्यप्रदेश में संगठन की मजबूती के लिये प्रदेश कांग्रेस ने बड़ा बदलाव किया है। प्रदेश कांग्रेस ने संगठन में 56 जिलों में प्रभारियों ...