Sunday, 21 February 2021

केदार का छलका दर्द, कहा- कांग्रेस में हमेशा सीधी को दी गई तवज्जो, पर भाजपा नें की उपेक्षा।



भोपाल / सीधी: भाजपा नें आखिरकार विधानसभा अध्यक्ष के लिये देवतलाब विधायक गिरीश गौतम का नाम तय कर दिया। विधानसभा अध्यक्ष पद की दौड़ में सीधी विधायक एवं वरिष्ठ नेता केदारनाथ शुक्ला का भी नाम था। लेकिन वो विधानसभा अध्यक्ष बनते-बनते रह गए, जिसके बाद उनका दर्द बाहर आया है। केदार शुक्ला नें कहा की समय बड़ा बलवान होता है। कांग्रेस में हमेशा सीधी को मंत्रिमंडल में तवज्जो दी गई, पर भाजपा ने आज तक सीधी से किसी को मंत्री नहीं बनाया।


मुझे भी पद का मोह, मै नेता हूं- सन्यासी नही: केदार।

पहले मंत्री बनने की दौड़ में पिछड़ने के बाद अब विधानसभा अध्यक्ष बनते-बनते रह गए केदारनाथ शुक्ला ने कहा, मुझे भी पद से मोह है, मैं राजनीतिक व्यक्ति हूं, संन्यासी नहीं। मैं पार्टी का सीनियर विधायक हूं, विंध्य को सरकार की कैबिनेट में जगह मिलनी चाहिए। गौरतलब है की केदारनाथ शुक्ला सीधी से भाजपा के विधायक हैं। उन्होनें लगातार चार विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज की है।


2018 के विधानसभा चुनाव में विंध्य नें भाजपा को दी थी बड़ी बढ़त।

साल 2018 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को विंध्य क्षेत्र से सर्वाधिक सीटें मिली थीं। सीधी, रीवा, सतना एवं शहडोल को लेकर 31 सीटों में से भाजपा को 24 सीटें मिली थी। कांग्रेस के दिग्गज नेता अजय सिंह, राजेन्द्र सिंह एवं सुंदरलाल तिवारी तक चुनाव हार गये थे। इसके बावजूद भी वर्तमान शिवराज सरकार में विंध्य क्षेत्र का प्रतिनिधित्व ना के बराबर है। हला की अब गिरीश गौतम को विधानसभा अध्यक्ष बनानें का फ़ैसला लेकर भाजपा नें डैमज कण्ट्रोल करनें का प्रयास किया है।

No comments:

Post a comment

Latest Post

कांग्रेस में मतभेद बढ़े: सज्जन सिंह वर्मा ने अरुण यादव के गोडसे बाले बयान पर साधा निशाना।

पूर्व पीसीसी चीफ़ अरुण यादव पर पूर्व मंत्री सज्जन वर्मा का पलटवार, कहा- मुद्दा उठाने वाले के क्षेत्र से दो MLA गोडसे की विचारधारा में शामिल। ...