Monday, 11 January 2021

सीधी गैंगरेप केस: सांसद रीति पाठक नें सोशल मीडिया पर पीड़िता की पहचान को किया उजागर, बाद में एडिट किया पोस्ट।



सीधी: मध्यप्रदेश के सीधी जिले के अमिलिया थाना क्षेत्र में महिला के साथ सामूहिक बलात्कार एवं प्राइवेट पार्ट में सरिया डालनें की घटना नें सभी को हिलाकर रख दिया। घटना के बाद से सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा फूट रहा है। इसी बीच सीधी जिले से भाजपा की लोकसभा सांसद रीति पाठक नें सोशल मीडिया फ़ेसबुक एवं ट्विटर पर पीड़िता का नाम उजागर कर दिया। हालांकि कुछ ही मिनटों के अंदर फ़ेसबुक एवं ट्विटर दोनों के ही पोस्ट को एडिट कर दिया गया।

(रीति पाठक का फ़ेसबुक पोस्ट)


(सांसद रीति पाठक का ट्विटर पोस्ट)








सुप्रीम कोर्ट की वो रूलिंग, जिसके तहत रेप विक्टिम की पहचान ज़ाहिर करना जुर्म है।

सुप्रीम कोर्ट इस स्थिति पर कई बार अफसोस ज़ाहिर कर चुका है कि बलात्कार पीड़िताओं को समाज में अछूतों जैसा बर्ताव सहन करना पड़ता है। पीड़िताओं से हमदर्दी जताते हुए शीर्ष कोर्ट की सख्त हिदायत है कि किसी भी सूरत में बलात्कार या यौन शोषण पीड़िता की पहचान को उजागर नहीं किया जा सकता, पीड़िताओं की मृत्यु के बाद भी और किसी सांकेतिक तरीके से भी नहीं। बलात्कार के मामलों को सनसनीखेज़ तरीके से पेश करने के लिए मीडिया को भी शीर्ष अदालत चेता चुकी है। इस संबंध में ह्यूमन राइट वॉच की रिपोर्ट कहती है कि भारत में रेप पीड़िता के निजता के अधिकार के प्रति बहुत कम जागरुकता है, जिसका खामियाजा पीड़िता को ही न्याय पाने के संघर्ष के दौरान उठाना पड़ता है।  


धारा 228 (ए) यौन हिंसा के पीड़ितों की पहचान उजागर करने से संबंधित है।

भारतीय दंड संहिता की धारा 228 के तहत यह कानून है कि यौन उत्पीड़न या दुष्कर्म से पीड़ित किसी भी व्यक्ति की पहचान उजागर नहीं की जा सकती। पीड़ित का नाम मुद्रित या प्रकाशित करने वाले व्यक्ति या संस्था को ऐसा करने पर दो साल की जेल और जुर्माना हो सकता है। कोई भी व्यक्ति प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक, सोशल मीडिया, आदि में पीड़िता का नाम या रिमोट तरीके से प्रिंट या प्रकाशित नहीं कर सकता है और ऐसे किसी भी तथ्य का खुलासा नहीं कर सकता, जिससे पीड़िता की पहचान की जा सके और जो बड़े पैमाने पर सार्वजनिक रूप से उसकी पहचान बताए।


गौरतलब है की, मध्यप्रदेश के सीधी जिले में मानवता को शर्मसार कर देने वाली घटना सामनें आयी है। अमिलिया थाना क्षेत्र में महिला के साथ तीन युवकों ने निर्भया गैंगरेप जैसी हैवानियत करते हुये सारी हदें पार कर दीं। उन्होंने महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया और उनके प्राइवेट पार्ट में लोहे का सरिया डाल दिया। पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। फ़िलहाल पीड़िता का इलाज रीवा में चल रहा है और हालत गंभीर बताई जा रही है।

No comments:

Post a Comment

Latest Post

कौन हैं चौधरी राकेश सिंह? जिनको लेकर कांग्रेस में मचा है घमासान।

भोपाल:   मध्यप्रदेश में संगठन की मजबूती के लिये प्रदेश कांग्रेस ने बड़ा बदलाव किया है। प्रदेश कांग्रेस ने संगठन में 56 जिलों में प्रभारियों ...