Monday, 28 December 2020

MP कांग्रेस में फिर दिखी गुटबाजी: कमलनाथ के फैसले से नाखुश अरुण यादव, अजय सिंह से मिले।



भोपाल: मध्यप्रदेश कांग्रेस में एक बार फिर गुटबाजी देखने को मिली। दरअसल, दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन के समर्थन में कांग्रेस पार्टी का भोपाल में हुआ आंदोलन आपसी गुटबाजी में उलझ कर रह गया। कांग्रेस पार्टी ने तय किया था कि 28 दिसंबर को विधानसभा सत्र के पहले दिन किसान आंदोलन के समर्थन में विधानसभा का घेराव करेगी। पार्टी ने बड़े स्तर पर इसकी तैयारी की थी। लेकिन विधानसभा सत्र स्थगित होने के बाद घेराव को बदलकर मौन धरने में तब्दील कर दिया गया।


किसान आंदोलन की जिम्मेदारी पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव को दी गयी थी। इस बीच कांग्रेस की घोषणा को देखते हुए प्रशासन ने विधानसभा के आसपास के इलाके में धारा 144 लागू कर भारी वाहनों के प्रवेश पर बैन लगा दिया। उसके बावजूद अरुण यादव ने बड़ी संख्या में ट्रैक्टर ट्रॉली बुलवा लिए और अपने घर के सामने लगवा लिए थे। लेकिन ऐनवक्त पर कल शाम हुई सर्वदलीय बैठक में विधानसभा सत्र स्थगित करने का फैसला हो गया। इसलिए सारे ट्रैक्टर ट्रॉली अरुण यादव के घर पर ही खड़े रह गए।


अरुण यादव नें कहा था - सत्र भले ही स्थगित हो लेकिन हम विधानसभा का घेराव करेंगें।

विधानसभा सत्र स्थगित होने के बाद भी कांग्रेस नेता अरुण यादव का एक बयान सामने आया था। जिसमें उन्होंने दावा किया था कि सत्र भले ही स्थगित हो गया लेकिन कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता ट्रैक्टर पर बैठकर विधानसभा का घेराव करेंगे।


कमलनाथ नें विधानसभा घेराव का कार्यक्रम बदलकर मौन धरने का फ़ैसला किया।

अरुण यादव के नेतृत्व में विधानसभा घेराव का प्लान, प्रदर्शन से पहले ही फ्लॉप हो गया। क्योंकी पूर्व सीएम कमलनाथ ने विधानसभा घेराव का कार्यक्रम बदलकर मौन धरना देने का फैसला कर लिया। इसी को लेकर कांग्रेस के अंदर गुटबाजी अब देखने को मिल रही है।


नाखुश अरुण यादव, पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह से मिले।

पूर्व सीएम कमलनाथ के फैसला बदलने के कारण कार्यक्रम की रूपरेखा को बदला गया। जिसको लेकर अरुण यादव, पूर्व सीएम कमलनाथ से नाखुश बताए जा रहे हैं। साथ ही उन्होनें आज मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह से भी मुलाकात की। उनकी अजय सिंह से मुलाकात को आज के घटनाक्रम से जोड़कर देखा जा रहा है। हालांकि अरुण यादव नें अजय सिंह से मुलाकात को महज एक औपचारिकता बताया है और कहा की अजय सिंह में मेरे बड़े भाई जैसे हैं और सघर्ष में हमेशा मेरा साथ निभाया है, इसी नाते उनसे आज मुलाकात कर मैनें विभिन्न मुददों पर बात करी है।


अरुण यादव की नाराजगी को लेकर सज्जन वर्मा का बयान।

विरोध प्रदर्शन का कार्यक्रम बदलने पर अरुण यादव की नाराजगी की अटकलों पर पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने कहा विधानसभा सत्र स्थगित होने के कारण कार्यक्रम बदलने का फैसला हुआ। कांग्रेस पार्टी में किसी तरह की गुटबाजी नहीं है।

No comments:

Post a Comment

Latest Post

कौन हैं चौधरी राकेश सिंह? जिनको लेकर कांग्रेस में मचा है घमासान।

भोपाल:   मध्यप्रदेश में संगठन की मजबूती के लिये प्रदेश कांग्रेस ने बड़ा बदलाव किया है। प्रदेश कांग्रेस ने संगठन में 56 जिलों में प्रभारियों ...