Wednesday, 21 October 2020

नोट से सरकार बनाने वालों को सबक सिखायेगी जनता, जनादेश के लुटेरे अब बेशर्मी से मांग रहे हैं वोट: अजय।


  • नौटंकी वाले भैया के पाखंड को अब समझ गई जनता: अजय सिंह।

भोपाल: भाजपा चाहे कितना भी झूठ बोले जनता सच जानती है। हाथरस की अमानवीय घटना पर एक शब्द भी नहीं बोलने और दोषियों का मौन समर्थन करने वाले भाजपा नेताओं  की असलियत जनता समझ रही है। नौटंकीबाज शिवराज का प्रदर्शन बर्दाश्त के बाहर हो गया है। अब वो कहने लगेंगे कि हां मैं नौटंकीबाज हूँ। जनता को ठगता हूँ।  


पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने भाजपा नेताओं के ढोंग और षड्यंत्र पर जारी बयान में कहा कि जनता के वोटों और उनके फैसले पर डकैती डालने वाले गद्दार नेताओं ने बेशर्मी की हद कर दी। सरे आम लोकतंत्र का कत्ल करने वालों को अब जनता सजा देगी और न्याय करेगी।  


अजय सिंह ने कहा कि पूरे देश में शिवराज ने मध्यप्रदेश का नाम खराब किया है। राजनीतिक स्वच्छता के लिए पूरे देश में मध्यप्रदेश का नाम था लेकिन जोर जबरदस्ती से नोट के दम पर, विधायकों की खरीदी कर सरकार गिराने और जबरदस्ती मुख्यमंत्री बनकर उन्होंने मध्य प्रदेश की इज्जत गिरा दी।  


अजय सिंह ने कहा कि शिवराज सरकार ने अपने साथ पूरे प्रशासन को अपने अनैतिक काम में शामिल कर लिया है। वीडियो कांफ्रेंस करके रोज कलेक्टरों को चुनाव जिताने के निर्देश दे रहे हैं । भीड़ जुटाने के लिए उन पर दबाव डाल रहे हैं । पिछले 15 सालों से यही करते आ रहे हैं। जब जनता ने नकार दिया तो गुंडागर्दी करके सरकार गिरा दी। यह बात पूरा देश जानता है। पूरा देश गवाह है कि शिवराज सरकार कैसे जनादेश की चोरी करके सत्ता में आई।  


शिवराज की नौटंकी।

उन्होंने कहा कि शिवराज की नौटंकी अब पूरे देश में मशहूर हो गई है। कभी मामा, कभी किसानों का बेटा, कभी गरीब, कभी जनता का पुजारी और भी कई प्रकार से बहरूपिया बन घूमते हैं। कभी कहते है पांव पांव चलता हूँ जबकि 15 सालों में सरकारी जहाज का सर्वाधिक दुरुपयोग किया। अब "नौटंकी शिवराज" को पूरा देश जान गया है। इसलिए अब कहलाते हैं, नौटंकी वाले मामा।  

No comments:

Post a comment

Latest Post

अर्जुन सिंह से लेकर कमलनाथ तक सभी के करीबी थे अहमद पटेल, निधन पर अजय सिंह नें जताया दुख।

भोपाल: कांग्रेस पार्टी के कद्दावर नेता अहमद पटेल का निधन हो गया है। वह कोरोना पॉजिटिवि होने के बाद करीब एक महीने से अस्पताल में भर्ती थे। ग...