Friday, 23 October 2020

किसान विरोधी क़ानूनों का असर प्रदेश में दिखने लगा, समर्थन मूल्य से आधी कीमत में भी नहीं बिका मक्का: अजय।



भोपाल: पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजयसिंह ने कहा कि केंद्र द्वारा लाये गए किसान विरोधी तीन काले क़ानूनों का असर अब मध्यप्रदेश में साफ दिखाई देने लगा है। श्री सिंह ने कहा कि केंद्र ने मक्के का समर्थन मूल्य 1850 रुपए रखा है लेकिन मध्यप्रदेश के किसान सात आठ सौ रुपए प्रति क्विंटल की दर पर मक्का बेचने को मजबूर हैं। प्रदेश के मक्का उत्पादक किसान आक्रोशित हैं। कल दमोह जिले की पाटन तहसील के किसानों ने उग्र आंदोलन किया और एस॰डी॰एम॰ को ज्ञापन भी दिया। किसानों ने आरोप लगाया है कि व्यापारी लगभग फ्री में मक्का खरीद रहे हैं। किसान लुट रहा है।


अजय सिंह ने कहा कि प्रदेश में 46 लाख मीट्रिक टन मक्के का उत्पादन होता है। छिंदवाड़ा जिला कार्न सिटी कहलाता है जहां मक्के का 24 लाख टन उत्पादन हर साल होता है। यह एक व्यवसायिक और रोजगार पैदा करने वाली फसल बन चुकी है। ऐसे में प्रदेश के किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य की आधी कीमत भी नहीं मिल रही है। लेकिन किसानों की आँखों में आँसू न देखने का डायलाग बोलने वाले शिवराज मामा को कोई फर्क नहीं पड़ रहा है।


खाद की जगह पत्थर निकले।

अजयसिंह ने कहा कि शिवराज सिंह किसानों को सोसायटियों के माध्यम से नकली खाद बँटवा रहे हैं। खाद की बोरियों में कंकड़- पत्थर, कोयला और मिट्टी निकल रही है। अखिल भारतीय किसान सभा की सीहोर इकाई ने सरकार के खिलाफ आंदोलन कर शिवराज सिंह के नाम सीहोर कलेक्टर को ज्ञापन भी दिया है। किसानों ने आरोप लगाया है कि बर्बाद किसानों को और बर्बाद किया जा रहा है, इसमें सरकार की मिलीभगत है। किसानों ने 'रत्नम' खाद की बोरियाँ भी खोलकर दिखाई। सिंह ने कहा कि किसानों ने पहले कृषि अधिकारियों को शिकायत भी की लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। पूरे प्रदेश में यही आलम है।


खून के आँसू रुला रही प्याज।

अजय सिंह ने कहा कि सीजन के समय दो रुपए किलो मारी मारी फिरने वाली प्याज अब 50 से 70 रुपए किलो तक बिक रही है। आम आदमी की थाली से प्याज गायब हो गई और वह अब खून के आँसू रुला रही है। प्याज के असीमित भंडारण पर सरकार की कोई रोक नहीं है। रोज उपयोग में आने वाली दालों की कीमतें भी 20-25 प्रतिशत तक बढ़कर 165 रुपए किलो तक बिक रही है। यदि खाद्य पदार्थों के यही हाल रहे तो आम आदमी तो लुट जाएगा।


कृषि कानून किसानों को बर्बाद करेंगे।

अजय सिंह ने कहा कि केंद्र द्वारा लाये गए तीन कृषि कानून किसानों को बर्बाद कर देंगे। मंडियाँ चौपट हो जायेंगी। इसलिए भावी मुख्यमंत्री कमलनाथ ने वादा किया है कि सरकार बनने पर ऐसा कानून लाएँगे कि समर्थन मूल्य से कम में खरीदी को अपराध माना जाएगा। पंजाब में ऐसा हो चुका है। उन्होंने  कहा कि लगभग 75 प्रतिशत फसलों की खरीदी समर्थन मूल्य पर होती है। इससे किसानों को करोड़ों रुपए मिलते हैं।

No comments:

Post a comment

Latest Post

अर्जुन सिंह से लेकर कमलनाथ तक सभी के करीबी थे अहमद पटेल, निधन पर अजय सिंह नें जताया दुख।

भोपाल: कांग्रेस पार्टी के कद्दावर नेता अहमद पटेल का निधन हो गया है। वह कोरोना पॉजिटिवि होने के बाद करीब एक महीने से अस्पताल में भर्ती थे। ग...