Monday, 19 October 2020

BJP समझ गई है कि सिंधिया एक "खतम कहानी" हैं, इसलिए उनको अलग प्रचार करने को कहा: अजय।



  • भाजपा रथ से भी सिंधिया का फोटो गायब है: अजय सिंह।
  • टुकड़ों में बिकने वालों की तो चार पीढ़ियाँ तर जायेंगी: अजय सिंह।                                   

भोपाल: पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजयसिंह ने कहा कि भाजपा को भी लग रहा है कि सिंधिया एक "खतम कहानी" हैं। पहले शिवराज और सिंधिया दो बैलों की जोड़ी साथ में प्रचार कर रही थी। जब शिवराज को लगा कि साथ जाने में गड़बड़ हो रहा है तो सिंधिया से कह दिया कि अब अकेले जाओ। भाजपा के जो प्रचार रथ तैयार हुये उसमें भी ज्योतिरादित्य सिंधिया की फोटो गायब कर दी ।अजय सिंह आज कमलनाथ के साथ मांधाता में कांग्रेस प्रत्याशी रामकिशन और नेपानगर में उत्तमपाल के पक्ष में चुनावी सभाओं को संबोधित कर रहे थे।


अजय सिंह ने कहा कि यह कोई नई बात नहीं है कि सिंधिया ने पाला बदला है । सिंधिया परिवार की पृष्ठभूमि किसी से छिपी नहीं है। इतिहास गवाह है कि सिंधियाओं  ने 1857 में यही किया। सन 1967 में यही किया और अब 2020 में भी धोखा दिया। क्या नहीं दिया था कांग्रेस ने उन्हें। स्वयं सिंधिया ने माना कि वे जब पहली बार सांसद बने तो उन्हें मंत्री बना दिया। बिना रोक टोक के और बिना समय के वे कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया जी और राहुल जी से मिल सकते थे। लेकिन वाह सिंधिया की दोस्ती।


श्री सिंह ने कहा कि चंद टुकड़ों में बिक गए वे विधायक जिन्होंने आपकी सेवा का संकल्प लिया था। अब उन्हें करना क्या है, चाहे जीतें या हारें। इतने पैसे मिल गए कि चार पुश्तें तर जायेंगी। भाजपा में गया छोटा चेतन कह रहा है कि मैंने जनता की सेवा के लिए आपका वोट बेचा। मैं कहता हूँ कि पहले अपनी सेवा तो कर ले क्योंकि 35 करोड़ तुमने खाये। अब तू जनता की सेवा क्या करेगा। तीन तारीख को हम सब हिसाब कर लेंगे।


उन्होंने कहा कि यह कहना आसान है कि कमलनाथ जी ने हमारी नहीं सुनी। उनको तो सुनाना ही नहीं था तो क्या सुनते। मुझसे और अरुण यादव से बड़ी भूल हुई जो हमने टिकट में उनका समर्थन कर दिया था। अब हमारे प्रायश्चित करने का समय है। तीन तारीख को आप बता दो कि निमाड़ का आदमी स्वाभिमानी है, मेहनत से खेती करता है, वह कोई बिकाऊ नहीं है। मैं दावे से कह सकता हूँ कि 10 तारीख को कांग्रेस की सरकार बनेगी और कमलनाथ दोबारा मुख्यमंत्री बनेंगे।


अजय सिंह ने कहा कि कमलनाथ साधारण व्यक्ति नहीं हैं।उन्होंने सवा साल सरकार क्या चलाई कि शिवराज एंड कंपनी के हौसले पस्त हो गए। वे परेशान हो गए कि यदि कमलनाथ पाँच सालऊ रह गए तो प्रदेश से भाजपा का पत्ता साफ हो जाएगा। जनता ने 2018 में कांग्रेस को सत्ता सौंपी थी। लोग थक गए थे मामा के भाषणों और भाजपा की नीतियों से। आज उपचुनावों की आवश्यकता नहीं थी। एक व्यक्ति सिंधिया की महत्वाकांक्षा की वजह से यह जबर्दस्ती थोपा हुआ चुनाव है। मैं कमलनाथ से वचन लेता हूँ कि दोबारा मुख्यमंत्री बनने पर बंद पड़ी नेपा मिल को चालू करवायेंगे ताकि मजदूरों को फिर से  यहीं पर काम मिल सके।

No comments:

Post a comment

Latest Post

अर्जुन सिंह से लेकर कमलनाथ तक सभी के करीबी थे अहमद पटेल, निधन पर अजय सिंह नें जताया दुख।

भोपाल: कांग्रेस पार्टी के कद्दावर नेता अहमद पटेल का निधन हो गया है। वह कोरोना पॉजिटिवि होने के बाद करीब एक महीने से अस्पताल में भर्ती थे। ग...