Wednesday, 30 September 2020

अजय सिंह का कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संदेश, कहा- उपचुनाव में कांग्रेस को जिताने पूरी ताकत से जुट जायें।



  • भाजपा को सबक सिखाने का समय आ गया है: अजय सिंह।
  • कांग्रेस की जीत से पूरे देश में सरकार गिराने- बनाने में सौदेबाजी के खिलाफ संदेश जायेगा: अजय सिंह।                                       

भोपाल: विधानसभा उपचुनाव की तारीखें आने के साथ ही पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को पत्र लिखकर कांग्रेस प्रत्याशियों को ज्यादा से ज्यादा मतों से जिताने के लिए जुट जाने का आग्रह किया है। उन्होंने लिखा है कि अब भाजपा को सबक सिखाने का समय आ गया है। मध्यप्रदेश से पूरे देश में यह संदेश जाना चाहिए कि लोभी विधायकों द्वारा दलबदल कर जबरन उपचुनाव थोपने की परिपाटी को जनता ने सिरे से नकार दिया है। जैसा मध्यप्रदेश में हुआ वैसा पूरे देश में दोबारा न हो, वरना सरकार गिराने का खेल और सौदेबाजी की राजनीति पूरे देश को बर्बाद कर देगी।

अजय सिंह ने लिखा है कि हम सभी एक कसौटी पर खड़े हैं। कोरोना हाहाकार के चलते प्रदेश में ऐसा राजनीतिक संकट सामने है, जब हमारी परीक्षा की घड़ी है। आप सभी ने मेहनत कर कांग्रेस की सरकार बनाई थी। कांग्रेस विधायकों की संख्या 55 से बढ़कर 114 हो गई थी। आपने जिस प्रकार शिवराज सरकार के काले कारनामों को बेनकाब किया था, उसका परिणाम हमें कांग्रेस की जीत के रूप में मिला था। आपने उस चुनाव में धनबल, छलकपट, गुंडागर्दी, बेईमानी और अनैतिकता के खिलाफ जोरदार संघर्ष किया था। उसी संघर्ष की जरूरत अब फिर से सामने है।

श्री सिंह ने लिखा है कि हमें कांग्रेस के उन गद्दारों को आईना दिखाना है जिन्होंने लालच के कारण अपना ईमान बेचने में जरा भी संकोच नहीं किया। कांग्रेस जैसी मातृ संस्था के साथ धोखा किया।जनता के कीमती वोटों और विश्वास का अपमान किया। इन लोगों को यह अच्छी तरह समझ लेना चाहिए कि भाजपा उन्हें मन से कभी स्वीकार नहीं करेगी। हमारे सामने कई उदाहरण हैं कि जो भाजपा में गए थे, अंतत: अपमान का घूंट पीकर पुन: कांग्रेस में वापस आ गए। तेल और पानी कभी समरस नहीं हो सकते।अब जो उपचुनाव थोपे गए हैं वह लोभ और लालच के कारण होंगे। जनता इसे कभी स्वीकार नहीं करेगी।

अजय सिंह ने लिखा है कि दलबदलुओं और उनके स्वनामधन्य नेताओं को हर जगह विरोध का सामना करना पड़ रहा है। काले झंडे दिखाये जा रहे हैं। "गद्दारों वापस जाओ" के नारे लगाए जा रहे हैं। स्थानीय भाजपाई आपने ही नेताओं के कार्यक्रम से नदारत हैं। यह विरोध ठीक उसी तरह का है जिस तरह पिछले चुनाव में भाजपा विधायकों का उनके क्षेत्र की जनता ने किया था। उन्हें क्षेत्र से भगा दिया था। धोखेबाज और लोभी नेताओं को जनता नकार रही है। कांग्रेस के लिए यह अनुकूल संकेत है। इसका लाभ लेकर आप मतदाताओं को सच्चाई से अवगत कराए। भाजपा द्वारा धांधलिया करने की पूरी योजना है, जिसे सतर्क और सावधान रहकर विफल करना है।

श्री सिंह ने पत्र में कहा है कि शासकीय उपक्रम " जन अभियान परिषद" के लोगों से विशेष सावधान रहने की जरूरत है। इसका दुरुपयोग शुरू हो गया है। इनके द्वारा मतदाता सूची के प्रत्येक पन्ने में उल्लेखित मतदाताओं को गुमराह करने के लिए पन्ना प्रभारी नियुक्त कर दिये गए हैं। इन्हें चुनाव कार्य से दूर रखने के लिए निर्वाचन अधिकारियों से लिखकर आग्रह करें। चुनाव आयोग ने  पिछली बार परिषद के लोगों पर कार्यवाही भी की थी। अब वे बेशर्मी से फिर सक्रिय हैं। 

अजय सिंह ने विश्वास व्यक्त किया है कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं की निष्ठा और मेहनत रंग लाएगी और कांग्रेस एक बार फिर मध्यप्रदेश में सरकार बनाएगी।

सीधी: कोरोना का कहर जारी, जिले में मिले 17 नए कोरोना संक्रमित।






सीधी: जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ० नागेंद्र बिहारी दुबे के द्वारा जानकारी दी गई है कि मंगलवार देर शाम से बुद्धवार शाम तक में 17 लोग पॉजिटिव पाए गए है। रैपिड एंटीजन किट द्वारा 176 टेस्ट किए गए जिसमें से फीवर क्लीनिक जिला अस्पताल से 12, अमरपुर में 3, चुरहट में 1, सेमरिया में 1, इस प्रकार से कुल 17 पॉजिटिव केस पाए गए है। तथा रीवा मेडिकल कॉलेज वायरोलॉजी लैब से रिपोर्ट अभी अप्राप्त है। उन्होंने बताया कि उक्त सभी पॉजिटिव केस को आइसोलेशन में रखा गया है। कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग और कंटेन्मेंट एरिया बनाने की कार्यवाही की जा रही है।  

डी.आई.ओ. डॉ० दुबे ने बताया कि कोरोना संक्रमण से 2 लोगों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया गया है। सभी को अपने घर पर होम आइसोलेशन में एक सप्ताह रहने के लिए समझाइश देते हुए आवश्यक दवाओं के सेवन करने के लिए दवा प्रदान की गई है तथा सभी को आवश्यक सावधानियां रखने की सलाह दी गई है।

अब जिले में कुल 865 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। अब तक 599 व्यक्तियों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया जा चुका है। अब जिले में कुल एक्टिव केस 263 हो गए हैं।

Tuesday, 29 September 2020

सीधी: नहीं थम रहा कोरोना का कहर, मिले 34 नए कोरोना संक्रमित।

  • 24 व्यक्तियों ने जीती कोरोना से जंग।
  • कुल संक्रमित 848
  • डिस्चार्ज 597
  • एक्टिव केस 248
  • मृत्यु 5

सीधी: जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ० नागेंद्र बिहारी दुबे के द्वारा जानकारी दी गई है कि सोमवार देर शाम से मंगलवार शाम तक में 34 लोग पॉजिटिव पाए गए है। रैपिड एंटीजन किट द्वारा 29 पॉजिटिव पाए गए हैं। फीवर क्लीनिक जिला अस्पताल से 16, अमिलिया में 2, रामपुर नैकिन में 1, चुरहट में 2, सेमरिया में 1, आर. ए. टी. टीम द्वारा 7 तथा रीवा मेडिकल कॉलेज वायरोलॉजी लैब से 5 इस प्रकार से कुल 34 पॉजिटिव केस पाए गए है। उन्होंने बताया कि उक्त सभी पॉजिटिव केस को आइसोलेशन में रखा गया है। कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग और कंटेन्मेंट एरिया बनाने की कार्यवाही की जा रही है।  


डी.आई.ओ. डॉ० दुबे ने बताया कि कोरोना संक्रमण से 24 लोगों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया गया है। सभी को अपने घर पर होम आइसोलेशन में एक सप्ताह रहने के लिए समझाइश देते हुए आवश्यक दवाओं के सेवन करने के लिए दवा प्रदान की गई है तथा सभी को आवश्यक सावधानियां रखने की सलाह दी गई है।


अब जिले में कुल 848 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। अब तक 597 व्यक्तियों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया जा चुका है। अब जिले में कुल एक्टिव केस 248 हो गए हैं।जिले में कोरोना से मृत्यु के 5 प्रकरण हो चुके हैं। विगत दिनांक 28 सितंबर को रीवा में हुई 2 डेथ के उपरांत अब जिले में 3 से बढ़कर 5 मृत्यु हो चुकी हैं।

Monday, 28 September 2020

सीधी: कोरोना का कहर जारी, जिले में मिले 18 नए कोरोना संक्रमित।


  • 26 व्यक्तियों ने जीती कोरोना से जंग।
  • कुल संक्रमित 814
  • डिस्चार्ज 573
  • एक्टिव केस 238
  • मृत्यु 3

सीधी: जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ० नागेंद्र बिहारी दुबे के द्वारा जानकारी दी गई है कि रविवार देर शाम से सोमवार शाम तक में 18 लोग पॉजिटिव पाए गए है। रैपिड एंटीजन किट द्वारा 10 पॉजिटिव पाए गए हैं। फीवर क्लीनिक जिला अस्पताल से 2, अमिलिया में 1, रामपुर नैकिन में 1, चुरहट में 1, सेमरिया में 5, तथा रीवा मेडिकल कॉलेज वायरोलॉजी लैब से 8 इस प्रकार से कुल 18 पॉजिटिव केस पाए गए है। उन्होंने बताया कि उक्त सभी पॉजिटिव केस को आइसोलेशन में रखा गया है। कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग और कंटेन्मेंट एरिया बनाने की कार्यवाही की जा रही है।

 

डी.आई.ओ. डॉ० दुबे ने बताया कि कोरोना संक्रमण से 26 लोगों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया गया है। सभी को अपने घर पर होम आइसोलेशन में एक सप्ताह रहने के लिए समझाइश देते हुए आवश्यक दवाओं के सेवन करने के लिए दवा प्रदान की गई है तथा सभी को आवश्यक सावधानियां रखने की सलाह दी गई है।


अब जिले में कुल 814 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। अब तक 573 व्यक्तियों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया जा चुका है। अब जिले में कुल एक्टिव केस 238 हो गए हैं।  अभी तक 230 कंटेनमेंट एरिया बनाए गए हैं जिसमें से 158 कंटेनमेंट एरिया से मुक्त हो चुके हैं और 72 कंटेनमेंट एरिया अभी एक्टिव है।

सिंहपुर गोलीकांड: पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने की उच्चस्तरीय जांच की मांग।



भोपाल / सतना: मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने सतना जिले के सिंहपुर थाने में पुलिस कस्टडी में नारायणपुर निवासी राजपति कुशवाहा की गोली लगने से हुई मौत की उच्चस्तरीय जांच की मांग की है।

श्री अजय सिंह ने जारी बयान में कहा है कि थाने के अंदर पुलिस की सर्विस रिवॉल्वर से किसी व्यक्ति की मौत हो जाना बेहद गंभीर मामला है। इस मामले में जो भी दोषी हों उनके खिलाफ प्रकरण पंजीबद्ध कर कड़ीं से कड़ीं कार्यवाही होनी चाहिये।

श्री अजय सिंह ने सवाल उठाते हुए कहा कि एक ओर प्रदेश के मुख्यमंत्री सार्वजनिक मंचों पर प्रदेश में अपराध कम होने का दावा करते हुए अपनी पीठ थपथपाते हैं वहीं दूसरी ओर अपराधी तो दूर पुलिस के दामन पर ही दाग लग रहे हैं। श्री अजय सिंह ने साफ कहा की सिंहपुर घटना से पुलिस की भूमिका पर सवाल खड़े हो रहे हैं जिसकी उच्चस्तरीय जांच आवश्यक है। इसके साथ ही इस मामले में जो भी दोषी हों उन्हें नही बख्शा जाना चाहिए।

गौरतलब है की सिंहपुर थाना में उस वक़्त स्थिति भयावह हो गई जब थाने में सर्विस रिवॉल्वर से गोली चल गई। चोरी के आरोप में लाये गए युवक को लॉकप में गोली लगी। वहीँ थाने में मौत की खबर से हड़कंप मच गया, जिसके बाद परिजनों ने थाने का घेराव किया था। थाने के बाहर जिले का भारी पुलिस बल तैनात किया गया था। जिसके कारण सड़क पर जाम लग गया था। बता दें कि बीती रात रैगांव निवासी 45 वर्षीय राजपति कुशवाहा को चोरी के आरोप में थाने लाया गया था।

Sunday, 27 September 2020

बिहार News: JDU में शामिल हुए पूर्व DGP गुप्तेश्वर पांडेय, CM नीतीश कुमार ने दिलाई सदस्यता।



बिहार: पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने आज जनता दल यूनाइटेड (JDU) की सदस्यता ग्रहण कर ली। पटना में मुख्यमंत्री आवास में सीएम नीतीश कुमार ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई।

बिहार विधानसभा चुनाव से पहले नौकरी से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेने वाले गुप्तेश्वर पांडेय के पिछले कई दिनों से जेडीयू में शामिल होने की अटकलें थी। साथ ही सियासी गलियारों में यह भी चर्चा थी कि वे बीजेपी में भी जा सकते हैं। लेकिन आज उन्होंने जेडीयू की सदस्यता ग्रहण कर सारी अटकलों पर विराम लग दिया।

पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय शनिवार को अचानक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलने पटना स्थित जेडीयू के कार्यालय में चले गए थे। इसके बाद से ही पांडेय के जेडीयू में जाने की चर्चाएं तेज हो गई थीं। हालांकि उस समय यह तय नहीं हुआ था कि वे किस दिन जेडीयू में शामिल होंगे। मीडिया की चर्चाओं को लेकर तब पूर्व डीजीपी ने ऐसी किसी बात से इनकार किया।

नीतीश से मुलाकात के बाद गुप्तेश्वर पांडेय के लोकसभा उपचुनाव लड़ने की भी चर्चाएं चल रही हैं। इसको लेकर भी पांडेय ने किसी तरह की संभावना से इनकार किया था। पांडे ने कहा था कि चुनाव लड़ने को लेकर उन्होंने फिलहाल कोई रणनीति नहीं बनाई है। अलबत्ता सीएम नीतीश कुमार की तारीफ में उन्होंने कसीदे जरूर पढ़े थे। डीजीपी पद से रिटायरमेंट लेने वाले पूर्व IPS अफसर ने कहा था कि नीतीश कुमार ने उन्हें स्वतंत्र रूप से काम करने दिया, इसीलिए वे जेडीयू कार्यालय में उन्हें धन्यवाद देने गए थे।

मास्क से परहेज करने वाले मंत्री के घर कोरोना की दस्तक, बेटे की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव।

भोपाल: मध्यप्रदेश में कोरोना का कहर जारी है। इसी बीच प्राप्त जानकारी के अनुसार मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा के घर कोरोना ने दस्तक दे दी हैं। नरोत्तम मिश्रा के बेटे की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई हैं।
 

गौरतलब है की, पिछले दिनों मास्क नहीं पहनने पर मध्यप्रदेश के गृहमंत्री काफी चर्चाओं में रहें हैं। प्रदेश के गृहमंत्री हर जगह बगैर मास्क में ही नजर आते थे। वे अधिकतर सरकारी बैठकों में भी वे बगैर मास्क के दिखने से मीडिया और विपक्ष के निशाने पर आते रहे हैं। गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा लगभग हर बार कोरोना की गाइडलाइन को तोड़ते हुए नज़र आए।  

नरोत्तम मिश्रा के पुत्र अपने ग्वालियर स्थित घर पर रह रहे थे। जहां कोरोना के शुरुआती लक्षण दिखने के बाद उन्होंने अपने सैंपल जांच के लिए भेजे थे। जिसके बाद उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई हैं।  

प्राप्त जानकारी के अनुसार, रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद नरोत्तम मिश्र के पुत्र को भोपाल के बंसल अस्पताल में भर्ती कराया गया हैं। वहीं उनके साथ रह रहे लोगों को क्वॉरेंटाइन भी किया गया हैं।

Thursday, 24 September 2020

सीधी: कोरोना का कहर जारी, मिले 24 नए कोरोना संक्रमित केस।




  • 10 व्यक्तियों ने जीती कोरोना से जंग।
  • कुल संक्रमित 717
  • डिस्चार्ज 531
  • एक्टिव केस 183
  • मृत्यु 3

सीधी: जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ० नागेंद्र बिहारी दुबे के द्वारा जानकारी दी गई है कि बुुुधवार देर शाम से अभी तक में 24 लोग पॉजिटिव पाए गए है। रैपिड एंटीजन किट द्वारा अर्जुन नगर से 1, उत्तर करौदिया वार्ड क्रमांक 10 से 1, दक्षिण करौदिया से 1, सम्राट चौक सीधी से 1, उत्तर करौंदिया से 1, जिला अस्पताल फीवर क्लीनिक से 6, सिंधी कॉलोनी वार्ड क्रमांक 5 से 1, दक्षिण करौदिया वार्ड क्रमांक 9 से 1, बनिया कॉलोनी वार्ड क्रमांक 2 से 1, विजयपुर सीधी से 1, कोडार से 1, सेमरिया से 2, अमिलिया से 3, रीवा मेडिकल कॉलेज वायरोलॉजी लैब से 3 इस प्रकार से कुल 24 पॉजिटिव केस पाए गए है।

उन्होंने बताया कि उक्त सभी पॉजिटिव केस को आइसोलेशन में रखा गया है। कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग और कंटेन्मेंट एरिया बनाने की कार्यवाही की जा रही है। 

डी.आई.ओ. डॉ० दुबे ने बताया कि कोरोना संक्रमण से 10 लोगों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया गया है। सभी को अपने घर पर होम आइसोलेशन में एक सप्ताह रहने के लिए समझाइश देते हुए आवश्यक दवाओं के सेवन करने के लिए दवा प्रदान की गई है तथा सभी आवश्यक सावधानियां रखने की सलाह दी गई है।

अब जिले में कुल 717 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। अब तक 531 व्यक्तियों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया जा चुका है। अब जिले में कुल एक्टिव केस 183 हो गए हैं।  अभी तक 230 कंटेनमेंट एरिया बनाए गए हैं जिसमें से 158 कंटेनमेंट एरिया से मुक्त हो चुके हैं और 72 कंटेनमेंट एरिया अभी एक्टिव है।

Wednesday, 23 September 2020

सीधी: आईटी एवं सोशल मीडिया सेल ने मनाया पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह का जन्मोत्सव।







सीधी: आईटी एवं सोशल मीडिया सेल के द्वारा बड़े ही धूमधाम धाम से पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह राहुल का जन्मोत्सव मनाया गया।कार्यक्रम में सबसे पहले आईटी एवं सोशल मीडिया सेल की टीम ने हनुमान मंदिर में पूजा पाठ कर प्रसाद वितरण किया उसके बाद आईटी सेल की टीम द्वारा दुर्गा माता मंदिर परिसर में पौधरोपण किया गया। बाद में जिला अस्पताल सीधी में शिविर लगा कर रक्तदान किया गया। इसके उपरांत वैष्णवी गार्डन में लोकतंत्र के चौथे स्तंभ जिले के पत्रकारों का सम्मान समारोह कार्यक्रम आयोजित कर जिले के पत्रकारों को सम्मानित किया गया। में मुख्यातिथि मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री  ज्ञान सिंह चौहान एवं कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला कांग्रेस कमेटी सीधी के अध्यक्ष रुद्रप्रताप सिंह बाबा एवं विशिष्ट अतिथि नवीन सिंह, सुंदरलाल सिंह ठेगरही, अखंड प्रताप सिंह, अजीत सिंह रहे। कार्यक्रम का संचालन दया शंकर पांडे उपाध्यक्ष जिला कांग्रेस ने किया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री ज्ञान सिंह चौहान ने कहा कि आज एक ऐसी शख्सियत का जन्म दिवस है जिसमें प्रदेश के करोड़ जनता का नेतृत्व करने की क्षमता है। उन्होंने हर आम और खास को इतना सम्मान दिया सभी आज जन्मदिवस पर उनके दीर्घायु होने की कामना कर रहे हैं। राजनीति  के क्या मायने होते हैं इसको राहुल भैया ने बखूबी बताया है। राहुल भैया पूरे प्रदेश भर के लोगों के नेता है जिनका स्नेह समय-समय पर हर किसी को मिलता है। प्रदेश महामंत्री ज्ञान सिंह चौहान ने आगे कहा मैं एक मध्यम वर्गीय परिवार का सदस्य हूं। राहुल भैया का स्नेह समय-समय पर मुझे भी मिला है। आज मैं जो कुछ भी हूं राजनीति में उन्हीं की बदौलत हूं।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रुद्र प्रताप सिंह बाबा ने कहा कि राहुल भैया सीधी जिले के नेता नहीं है।वह पूरे मध्य प्रदेश के नेता हैं। पंचायत मंत्री रहते हुए उन्होंने कई ऐसे कार्य किए जो आज भी उदाहरण के तौर पर हैं। आज एक ऐसे जननायक का जन्मदिन है जिसको लेकर सीधी जिले सहित प्रदेश के लोग उत्साहित हैं। अध्यक्ष श्री बाबा ने कहा कि मैं उनके दीर्घायु की कामना करता हूं।

मध्य प्रदेश यूथ कांग्रेस  के प्रदेश सचिव कमलेंद्र सिंह डब्बू ने कहा कि जन जन के नेता अजय सिंह राहुल भैया के जन्मदिवस पर यूथ कांग्रेस एवं आईटी सेल द्वारा विभिन्न कार्यक्रम किया गया जिसमें मंदिरों में पूजा अर्चना के साथ पौधरोपण व जिला अस्पताल में रक्तदान कई साथियों द्वारा किया गया। राहुल भैया को दीर्घायु एवं स्वस्थ होने की कामना की गई।

पंकज ने कहा आप सभी पत्रकारों का कोरोना जागरूकता महागाई,  बेरोजगारी, गरीबी, बिजली सहित जानता की समस्या के खिलाफ आवाज उठाने के लिए भैया साहेब के जन्मदिन पर आपको सम्मानित किया जा रहा है। आशा है आगे भी आप जन हित समस्याओं को लेकर आवाज बुलंद करते रहेंगे।

कार्यक्रम के आयोजन करता कमलेंद्र सिंह(डब्बू) प्रदेश सचिव यूथ कांग्रेस,पंकज सिंह अध्यक्ष आई टी एवं सोशल मीडिया सेल, नारायण सिंह ,विजय सिंह विधानसभा कार्यकारी अध्यक्ष यूथ कांग्रेस, राजीव सिंह प्रदेश सचिव आई टी सेल, विजय तिवारी उपाध्यक्ष, भूपेन्द्र सिंह जिला कार्यकारी अध्यक्ष आई टी सेल, रविनाथ गोस्वामी आई टी सेल अध्यक्ष विधानसभा सीधी, शिवेन्द्र सिंह अध्यक्ष विधानसभा चुरहट, प्रेमलाल पनिका अध्यक्ष आई टी सेल विधानसभा धौहनी, राघवेन्द्र सिंह जिला उपाध्यक्ष आई टी सेल, संत पटेल अध्यक्ष विधानसभा सिहावल, राहुल सिंह उपाध्यक्ष आई टी सेल, शिवनारायण सोनी ब्लाक अध्यक्ष,अजय कुशवाहा ब्लाक अध्यक्ष भुवनेश्वर जैसवाल एवं अन्य लोग उपस्थित रहे।

सीधी में भयावह हुआ कोरोना: मिले 26 नए संक्रमित, 1 की मौत।


  • 19 व्यक्तियों ने जीती कोरोना से जंग
  • कुल संक्रमित 693
  • डिस्चार्ज 521
  • एक्टिव केस 169
  • मृत्यु 3

सीधी: जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ० नागेंद्र बिहारी दुबे के द्वारा जानकारी दी गई है कि मंगलवार देर शाम से अभी तक में 26 लोग पॉजिटिव पाए गए है। रैपिड एंटीजन किट द्वारा वार्ड क्रमांक 9 गोपाल दास रोड सीधी से 1, डिहुली सेमरिया से 1, जमोडी सेंगरान से 1, कोटदर महाराजपुर से 2, पीपरोहर से 2, मड़वा से 1, वार्ड क्रमांक 18 कोटहा से 3, दीनदयाल कॉलोनी वार्ड क्रमांक 12 से 2, बघवार प्लांट से 2, बिठौली से 1, बघवार से 1, नौढ़ीया कुसमी से 4, रीवा मेडिकल कॉलेज वायरोलॉजी लैब से 5 इस प्रकार से कुल 26 पॉजिटिव केस पाए गए है। उन्होंने बताया कि उक्त सभी पॉजिटिव केस को आइसोलेशन में रखा गया है। कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग और कंटेन्मेंट एरिया बनाने की कार्यवाही की जा रही है।     
डी.आई.ओ. डॉ० दुबे ने बताया कि कोरोना संक्रमण से 19 लोगों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया गया है। सभी को अपने घर पर होम आइसोलेशन में एक सप्ताह  रहने के लिए समझाइश देते हुए आवश्यक दवाओं के सेवन करने के लिए दवा प्रदान की गई है तथा सभी आवश्यक सावधानियां रखने की सलाह दी गई है।

अब जिले में कुल 693 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। अब तक 521 व्यक्तियों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया जा चुका है। अब जिले में कुल एक्टिव केस 169 हो गए हैं। और मंगलवार की रात में गंभीर अवस्था में 1 केस को रेफर करते समय मृत्यु हो गई है उसी के साथ जिले में अब कुल 3 लोगों की कोरोना संक्रमण से मृत्यु हुई है। अभी तक 230 कंटेनमेंट एरिया बनाए गए हैं जिसमें से 158 कंटेनमेंट एरिया से मुक्त हो चुके हैं और 72 कंटेनमेंट एरिया अभी एक्टिव है।

Tuesday, 22 September 2020

जन्मदिन विशेष: जानिए पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें।

भोपाल/सीधी: मध्‍यप्रदेश कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता और राज्‍य विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह " राहुल" का आज जन्मदिन है।अजय सिंह का जन्‍म 23 सितंबर 1955 को इलाहाबाद में हुआ था। अजय सिंह प्रसिद्ध कांग्रेस नेता श्री कुंवर अर्जुन सिंह के पुत्र हैं। अर्जुन सिंह मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री और केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री तथा पंजाब के राज्यपाल भी रह चुके हैं।
अजय सिंह, ये साली जिन्दगी, जिस्म-2, मैं तेरा हीरो और मोहन जोदाडो जैसी बॉलीवुड फिल्मों से अपनें अभिनय का लोहा मनवा चुके, अभिनेता अरुणोदय सिंह के पिता हैं।

शिक्षा।
अजय सिंह ने अपनी शुरूआती पढ़ाई भोपाल मे कैंपियन स्कूल से पूरी की थी वे वर्ष 1971-72 के दौरान कैंपियन स्‍कूल के कैप्‍टन भी रह चुके हैं। इसके बाद वो दिल्ली आ गये और श्रीराम कॉलेज ऑफ कामर्स, दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय से बी.ए. (अर्थशास्‍त्र) आनर्स किया उसके बाद उन्होंने 1976-77 में भोपाल विश्‍वविद्यालय से एम.ए. (अर्थशास्‍त्र) में किया और गोल्‍ड मेडल भी प्राप्त किया। इसके अलावा अजय सिंह 1971 में सर्वश्रेष्‍ठ एनसीसी सदस्‍य चुने गए तथा 1972 में इंटरस्‍कूल डिबेट कॉम्पीटिशन की ट्रॉफी जीती।       
राजनीतिक करियर।
अजय सिंह मध्यप्रदेश राजनीति का जाना-माना चेहरा हैं। वह छह बार लगातार विधानसभा चुनाव जीत चुके हैं। 
    
पहली बार 1985 के उप चुनाव मे चुरहट से विधायक बनें।         
1985 मे अजय सिंह पहली बार मध्यप्रदेश के सीधी जिले की चुरहट विधानसभा से उपचुनाव जीत कर पहली बार विधायक बनें,यह सीट उनके पिता कुं.अर्जुन सिंह के पंजाब के राज्यपाल बन जानेंं के बाद खाली हुई थी।   
दूसरी बार 1991 में फिर उपचुनाव जीत कर विधायक बनें
1991 मे अजय सिंह दूसरी बार मध्यप्रदेश के सीधी जिले की चुरहट विधानसभा से दुबारा उपचुनाव जीत कर दूसरी बार विधायक बनें, यह सीट उनके पिता कुं.अर्जुन सिंह के केंद्र सरकार में मानव संसाधन विकास मंत्री बन जानें के बाद खाली हुई थी।        


1998 में उन्हें तीसरी बार विधायक चुना गया।  1998 में मध्यप्रदेश मे हुये विधानसभा चुनाव में उन्होनें सीधी जिले की चुरहट विधानसभा से भाजपा के कद्दवार नेता गोविंद प्रसाद मिश्रा को हराकर तीसरी बार विधायक बनें।
            

मध्यप्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री बनें।
1998 में उन्हें तीसरी बार विधायक चुना गया और मध्यप्रदेश सरकार में पंचायत एवं ग्रामीण विकास, पर्यटन और संस्कृति विभागों के कैबिनेट मंत्री बन गए।जब शाइनिंग इंडिया का दौर चल रहा था। केंद्र में वेंकैया नायडू पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री थे।उस वक्त अजय सिंह मध्य प्रदेश में भी पंचायत मंत्री थे।प्रदेश में अजय सिंह का मॉडल बहुत फेमस हुआ था। जिससे प्रभावित होकर श्री नायडू ने उसे समझने के लिए अजय सिंह को आमंत्रित किया गया था, और अजय सिंह से मुलाकात की थी।


2003 में चौथी बार विधायक चुनें गये।
2003 में मध्यप्रदेश मे हुये विधानसभा चुनाव में उन्होनें सीधी जिले की चुरहट विधानसभा से भाजपा के कद्दवार नेता गोविंद प्रसाद मिश्रा को हराकर तीसरी बार विधायक बनें।


2008 में पांचवी बार मध्यप्रदेश विधानसभा के लिए चुने गए।
2008 में मध्यप्रदेश मे हुये विधानसभा चुनाव में उन्होनें सीधी जिले की चुरहट विधानसभा से भाजपा के अजय प्रताप सिंह को हरा कर विधायक बनें। अजय प्रताप सिंह बर्तमान में मध्य-प्रदेश से राज्यसभा सांसद हैं।


2011 में पहली बार मध्य प्रदेश विधानसभा में विपक्ष के नेता के रूप में चुने गए।
15 अप्रैल, 2011 को मध्य प्रदेश विधानसभा में विपक्ष के नेता के रूप में चुने गए थे। नेता प्रतिपक्ष रहते हुये उन्होनें तत्कालीन शिवराज सिंह चौहान सरकार को सदन से लेकर सड़क तक घेरा, और सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लेकर भी आये, लेकिन ऐन वक़्त पर कांग्रेस के ही विधायक चौधरी राकेश सिंह के भाजपा के पक्ष में चले जानें से शिवराज सिंह सरकार बचानें मे कामयाब हो गये।


2013 में छठी बार विधायक बने।2013 में मध्यप्रदेश मे हुये विधानसभा चुनाव में उन्होनें सीधी जिले की चुरहट विधानसभा से भाजपा के शर्देँदु तिवारी को हरा कर विधायक बनें। वर्तमान मे शर्देँदु तिवारी चुरहट से भाजपा विधायक हैं।


2017 को वह दूसरी बार विपक्ष के नेता चुनें गये।      
27 फरवरी, 2017 को वह दूसरी बार विपक्ष के नेता के रूप में चुने गये, और दिसंबर 2018 में कांग्रेस सरकार बननें तक वो नेता प्रतिपक्ष रहे।


व्यापम घोटाले को सदन से सड़क तक ले आये।       
नेता प्रतिपक्ष रहते हुये अजय सिंह नें, व्यापम घोटाले के मुद्दे पर तत्कालीन शिवराज सरकार को सदन से लेकर सड़क तक घेरा। व्यापम घोटाले को व्यापक  तरीके से उठाने और तत्कालीन सरकार को उस पर कार्यवाही करने के लिये मजबूर करनें का श्रेय अजय सिंह को ही जाता है।


अजय- अरूण की जोड़ी नें कांग्रेस के पक्ष में माहौल तैयार किया
साल 2018 में अजय सिंह नें तत्कालीन पीसीसी अध्यक्ष अरूण यादव के साथ मिलकर प्रदेश भर में यात्रा कर कांग्रेस के पक्ष में माहौल तैयार किया। बाद मे कमलनाथ के पीसीसी चीफ़ बननें पर अजय सिंह ने कमल नाथ के साथ मिलकर प्रचार अभियान की कमांन संभाली और कांग्रेस की प्रदेश में वापसी हुई।हला की 2018 का चुनाव अजय सिंह और अरुण यादव दोनों लोग हार गये, लेकिन पार्टी की इस जीत का श्रेय पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव और नेता प्रतिपक्ष रहे अजय सिंह को भी जाता है।वे चुनाव जरूर हार गए, लेकिन पार्टी की सरकार बनाने में उनके त्याग को दरकिनार नहीं किया जा सकता।

अजय सिंह के हार के साथ जुड़ा है, अजब संयोग।
अजय सिंह के साथ एक अजब सा संयोग यह भी है कि विपक्ष में रहने के बाद वे जब-जब चुनाव हारते हैं प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनती है। वर्ष 1990 से 1993 तक विपक्ष में रहने के बाद उन्होंने तत्कालीन मुख्यमंत्री सुंदरलाल पटवा को घेरने के लिए चुरहट की बजाय भोजपुर से चुनाव लड़ा था। पटवा ने उन्हें चुनाव तो हरा दिया, लेकिन बहुमत ला पाने में सफल नहीं हो पाए थे। ठीक इसी तरह विपक्ष के नेता होनें की वजह से 2018 के विधानसभा चुनाव में भाजपा नें अपना पूरा जोर अजय सिंह के प्रभाव वाले विंध्य क्षेत्र में लगा दिया, जिससे अजय सिंह सहित विंध्य से आने वाले कई दिग्गज चुनाव हार गये लेकिन कांग्रेस सरकार बनानें मे सफल हो गयी। हला की सिंधिया एवं उनके समर्थक विधायकों के पाला बदल कर भाजपा में शामिल होनें से अब कांग्रेस  की सरकार गिर चुकी है और अब भाजपा की शिवराज सरकार सत्ता में काबिज है।

अजय सिंह की हार पर जब अरुण यादव हुये भावुक।
2018 के विधानसभा चुनाव मे अजय सिंह के हार के बाद एक बेहद भावुक दृश्य देखने में आया जब अजय सिंह से मिलने पर पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव के आंसू निकल आए। भावुक हुए अरुण यादव को अजय सिंह और आसपास के लोगों ने सांत्वना दी। दरअसल भोपाल में अजय सिंह से अरुण यादव जब मिले तो उनकी आंखों में आंसू आ गए। अजय -अरुण की जोड़ी नें तत्कालीन भाजपा सरकार के खिलाफ काफी संघर्ष किया जिसकी बदौलत सूबे में कांग्रेस की सरकार बनीं पर अजय सिंह की हार ने अरुण यादव को भावुक कर दिया।     


अजय सिंह के लिए सीट छोड़ने को तैयार हुये थे, दर्जनभर विधायक।
नरसिंहपुरगाडरवारा से नव निर्वाचित कांग्रेस विधायक सुनीता पटेल चुरहट से पराजित हुए नेता प्रतिपक्ष रहे अजय सिंह के लिए अपनी सीट छोड़ने तैयार थी। उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ को अपने पद से इस्तीफे की पेशकश की थी। साथ ही एक दर्जन विधायकों ने भी उनके लिए सीट छोड़ने की पेशकश की थी। इसमें चित्रकूट के विधायक नीलांशु चतुर्वेदी, चांचोड़ा के विधायक लक्ष्मण सिंह, गाडरवाड़ा विधायक सुनीता पटेल और छतरपुर के आलोक चतुर्वेदी, सुरेन्द्र सिंह और विनय सक्सेना आदि विधायकों ने कमलनाथ को चिट्ठी लिखकर इस्तीफे की पेशकश की थी।

चुनाव हारे पर लोकप्रियता कम नही हुई।
अजय सिंह आज भी उतनें ही लोकप्रिय है, इस बात का अन्दाजा इसी बात से लगाया जा सकता है की आज भी चाहे भोपाल हो या चुरहट अजय सिंह से मिलनें के लिये पार्टी कार्यकर्ताओं और क्षेत्र की जनता  का जमावड़ा आज भी लगा रहता है, आज चुनाव हारनें के बाद भी अजय सिंह लोंगों से उतनी ही सिद्दत से मिलतें है, जैसे की विधायक रहते मिलते थे।

राजनैतिक बिरोधियों से भी अजय सिंह के मधुर संबंध।
अजय सिंह का विपक्षी पार्टियों के लोंगों से भी बड़े गर्मजोशी से मिलतें है, और सब का हाल चाल जानतें रहतें है, उनका कहना है की उनका विरोध सिर्फ राजनैतिक है, व्यक्तिगत नही। ऐसा ही एक उदहारण 2019 के लोकसभा चुनाव के वक़्त देखनें को मिला था, जब उनके धुर राजनैतिक विरोधी, सीधी विधायक केदारनाथ शुक्ला की तवियत अचानक खराब हो गयी, और अजय सिंह जो सीधी लोकसभा से खुद प्रत्यासी थे, अपना दौरा तत्काल रद्द कर श्री शुक्ला से मिलनें पहुंचे और उनके स्वास्थ्य के बारे मे जाना।


चुरहट विधानसभा से हमेशा उनके खिलाफ चुनाव लड़ने वाले गोविंद प्रसाद मिश्रा से भी उनके मधुर संबंध है।


अजय सिंह की पहचान ,एक जमीन से जुड़े हुये नेता की।
अजय सिंह एक जमीन से जुड़े हुये नेता है, और अपनें क्षेत्र और क्षेत्र के लोंगों से गहरा संबंध रखतें है, और उनके सुख और दुख मे हमेशा शरीक होतें है। अजय सिंह का कार्यक्रम चाहे कितना भी व्यस्त क्युं ना हो, वो हर महीनें अपनें क्षेत्र का दौरा जरुर करतें है। वों भोपाल के अपने सरकारी आवास में हो या फिर चुरहट के अपनें पैतृक निवास पर सभी से बराबर मिलते हुये उनकी समस्याओं के बारें में जानते हुये उसका निदान करनें का प्रयास करतें हैं।


धर्म के प्रति अजय सिंह की गहरी आस्था ।
अजय सिंह अपनें धर्म के प्रति गहरी आस्था के साथ साथ दुसरे धर्मों का भी उतना ही सम्मान करतें है। श्री सिंह, आचार्य महा मंडलेश्वर स्वामी श्री अवधेशानंद गिरि महराज से गहरी आस्था रखतें हैं।


अजय सिंह, महाकालेश्वर उज्जैन, शारदा मन्दिर मैहर, चित्रकूट धाम के साथ साथ प्रयागराज से आस्था रखते हुये हिंदू त्यौहारों पर यहा आशीर्वाद लेनें जरुर पहुंचते है।


Friday, 18 September 2020

सीधी: जिले में मिले 19 नए कोरोना संक्रमित, 10 व्यक्तियों ने जीती कोरोना से जंग।

  • कुल संक्रमित 595
  • डिस्चार्ज 410
  • एक्टिव केस 183
  • मृत्यु 2

सीधी: जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ नागेंद्र बिहारी दुबे के द्वारा जानकारी दी गई है कि गुरुवार से अभी तक में 19 लोग पॉजिटिव पाए गए है। रैपिड एंटीजन किट  द्वारा अर्जुन नगर सीधी से एक, वर्मा कॉलोनी से एक, मलदेवा सीधी से एक, शुक्रवारी से एक, मझौली से एक, वार्ड नंबर 10 बलराम नगर से एक, नौढिया सिहावल से एक, कुल 7 कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। तथा ट्रू नाट लैब जिला अस्पताल सीधी की जांच में वार्ड नंबर 8 जामोड़ी सीधी से एक, जमोडी थाना से एक, सलैया मझौली से एक, सीएमएचओ कार्यालय से एक मटिहारि सीधी से एक कुल 5 है।

साथ ही कल देर शाम को प्राप्त वायरोलॉजी लैब रीवा मेडिकल कॉलेज से 7 लोगों कि पॉजिटिव रिपोर्ट आई है जिसमें एक पुलिस कॉलोनी नौढिया सीधी से है, दो रामनगर सिहावल से है, दो हिनौती सीधी से एवं दो लोग पटपरा सीधी से हैं। उन्होंने बताया कि उक्त सभी पॉजिटिव केस को आइसोलेशन में रखा गया है। कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग और कंटेन्मेंट एरिया बनाने की कार्यवाही की जा रही है। 

डी आई ओ डॉ. दुबे ने बताया कि कोरोना संक्रमण से 10 लोगों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया गया है। सभी को अपने घर पर होम आइसोलेशन में एक सप्ताह  रहने के लिए समझाइश देते हुए आवश्यक दवाओं के सेवन करने के लिए दवा प्रदान की गई है तथा सभी आवश्यक सावधानियां रखने की सलाह दी गई है।

अब जिले में कुल 595 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। अब तक 410 व्यक्तियों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया जा चुका है। अब जिले में कुल एक्टिव केस 183 हो गए हैं। अभी तक 215 कंटेनमेंट एरिया बनाए गए हैं जिसमें से 158 कंटेनमेंट एरिया से मुक्त हो चुके हैं और 57 कंटेनमेंट एरिया अभी एक्टिव है।

अजय सिंह की शुभचिंतकों से अपील, कहा- मेरे जन्मदिन पर ना करें कोई आयोजन।


भोपाल: मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अजय सिंह नें कोरोना महामारी को देखते हुये अपनें शुभचिंतकों से आग्रह किया है की, 23 सितंबर को उनके जन्मदिन पर कोई भी आयोजन ना करें। 



अजय सिंह नें सोशल मीडिया के माध्यम से अपनें शुभचिंतकों से आग्रह करते हुये लिखा, मेरे प्रिय आत्मीय, आप सभी जानते हैं कि इस समय मध्यप्रदेश में कोरोना महामारी का प्रकोप चरम पर है। ऐसी स्थिति में मेरा सभी शुभचिंतकों से आग्रह है कि वे 23 सितंबर को जहाँ हों वहीं रहकर अपनी शुभकामनाएं प्रेषित करके मुझे अनुगृहीत करें और मेरे जन्मदिन पर कोई आयोजन ना करें।



यह समय है जब हम सभी कोरोना  संक्रमण से बचाव के लिए स्वयं के साथ-साथ दूसरों को भी सुरक्षित रखने में जुटें। बचाव के तरीके जैसे सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क लगाना सैनिटाइज होना, साबुन से हाथ धोना इन्हें अपने जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा बनाएं। यही नहीं दूसरों को भी प्रेरित करें और साथ ही कोरोना वायरस से पीड़ित जरूरतमंदों की सहायता के लिए भी समाज के सभी सक्षम लोग आगे आयें। मेरे जन्मदिन पर मेरे प्रति शुभचिंतकों की यही दिली, आत्मीय और सबसे बड़ी शुभकामना होगी।




भाजपा की पूर्व विधायक पारुल साहू कांग्रेस में शामिल, सुरखी विधानसभा से हो सकती हैं प्रत्याशी।


भोपाल: मध्यप्रदेश में होनें वाले आगामी विधानसभा उपचुनावों को देखते हुये दलबदल का सिलसिला जारी है। उपचुनाव की तारीखों क ऐलान से पहले भाजपा को बड़ा झटका लगा है। भाजपा की पूर्व विधायक पारुल साहू कांग्रेस में शामिल हो गई हैं। पारुल साहू को पूर्व सीएम कमलनाथ ने सदस्यता दिलाई है। इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बयान दिया कि पारुल के पिताजी मेरे पुराने साथी थे। पारुल की वापसी हुई है। पारुल साहू सागर के सुरखी विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस की प्रत्याशी हो सकती हैं।



दरअसल पिछले कुछ दिनों से पारुल साहू के कांग्रेस में जाने की अटकलें लगाईं जा रही थी। इस बीच गुरूवार देर रात पारुल साहू ने अपने समर्थकों के साथ पूर्व सीएम कमलनाथ से मुलाकात की थी। जिसके बाद से ये तय माना जा रहा था कि पारुल कांग्रेस का हाथ थाम सकती है।

भाजपा की पूर्व विधायक पारुल साहू ने 2013 के विधानसभा चुनाव मे कांग्रेस के गोविन्द राजपूत को पराजित किया था। जबकि पारुल ने 2013 के विधानसभा चुनाव के कुछ ही दिन पहले भाजपा की सदस्यता ग्रहण की थी।



हला की 2018 में भाजपा नें उनका टिकट काट दिया था। अब जब गोविंद सिंह राजपूत भाजपा में शामिल हो चुकें हैं और मंत्री हैं साथ ही सुरखी से भाजपा के उम्मीदवार होंगें, ऐसे में कांग्रेस नें पूर्व विधायक पारुल साहू को अपनें खेमें में लाकर एक बड़ा दांव खेला है। कांग्रेस के इस दांव ने सागर और सिंधिया के सियासी खेमे मे हलचल मचा दी है। 

Thursday, 17 September 2020

सत्ता में होता है दम, "जिस कलेक्टर को फोन करेंगे, वह सीट होगी हमारी": इमरती देवी।


भोपाल: मध्यप्रदेश में होनें वाले आगामी विधानसभा उपचुनावों को लेकर अब बयानबाज़ी तेज हो गयी है। शिवराज सरकार में
सिंधिया समर्थक मंत्री इमरती देवी का एक वीडियो सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रहा है। जिसमें वह ग्रामीणों को संबोधित करते हुये कह रही हैं, ‘’हम कलेक्टर को कहेंगे, तो उतनी सीटें हमें मिल जाएंगी। हला की उनके इस बयान से बीजेपी ने पल्ला झाड़ लिया है।’’ बता दें की इमरती देवी अक्सर अपने बयान को लेकर सुर्खियों में रहती हैं।



दरअसल, जो वीडियो वायरल हो रहा है, वो डबरा का बताया जा रहा है। ग्रामीणों को संबोधित करते हुए शिवराज सरकार की महिला बाल विकास मंत्री इमरती देवी ने कहा कि  हमें सरकार में रहने के लिए 8 सीटें जीतनी है। कांग्रेस को सत्ता में वापसी के लिए 27 सीटें चाहिए। वह ग्रामीणों से कह रही है कि आप बता तो दो कि सत्ता और सरकार आखें मूंदें बैठी रहेंगी और वो पूरी की पूरी जीत लेंगे।



इमरती देवी की बात सुन वहां मौजूद लोग ताली बजाने लगते हैं। उसके बाद इमरती देवी कहती हैं कि 'सत्ता और सरकार का इतना होता है कि वो कहे कलेक्टर से कि हमें ये सीट चाहिए, तो वो हमें मिल जाएगी। मंत्री जी का ये वीडियो अब सोशल मीडिया पर धड़ल्ले से वायरल हो रहा है।



गौरतलब है कि  इमरती देवी ने हाल ही में कांग्रेस छोड़ कर बीजेपी ज्वॉइन की है. अब उनके बयान को लेकर कांग्रेस ने शिवराज सरकार को घेरना शुरू कर दिया है. हालांकि  बीजेपी ने उनके बयान से पल्ला झाड़ लिया है. बीजेपी प्रवक्ता राहुल कोठारी ने कहा कि  ये इमरती देवी का निजी वक्तव्य, उन्होंने लोगों को देसी अंदाज में समझाने की कोशिश की है। उन्होंने कहा कि  कांग्रेस हमारी जासूसी करना बंद करें, बीजेपी अफसरों के दम पर चुनाव नहीं लड़ती.

Wednesday, 16 September 2020

उपचुनाव के बाद मध्यप्रदेश में फिर बनेगी कांग्रेस की सरकार: पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह।


सीधी: मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह राहुल ने अपने सीधी प्रवास के दौरान अपने गृह ग्राम शिवराजपुर में आम जनता व पार्टी कार्यकर्ताओं तथा नेताओं से मुलाकात की। इस मौके पर मीडिया से मुखातिब होते हुए पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह राहुल ने कहा कि प्रदेश में होने वाले उपचुनावों के पश्चात कांग्रेस की सरकार वापस आएगी और अधूरे पड़े काम पुनः शुरू किए जाएंगे।

श्री सिंह नें कहा की वर्तमान में ना तो प्रदेश की शिवराज सरकार और ना ही केंद्र की मोदी सरकार जनता की समस्याओं पर कोई ध्यान दे रही है। महंगाई इतनी बढ़ चुकी है कि आम आदमी का जीवन दुश्वार हो गया है। पेट्रोल-डीजल पर प्रदेश सरकार को टैक्स कम करना चाहिए लेकिन वह बढ़ता ही जा रहा है और उसकी वजह से महंगाई भी बढ़ रही है। लाखों प्रवासी मजदूर कोरोना काल में वापस अपने घरों को लौटे लेकिन उनको देखने वाला कोई नहीं है कि किस हाल में जी रहे हैं।

मीडिया द्वारा गरीब जनता को सड़ा गला अनाज वितरित किए जाने के मुद्दे पर पूर्व नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि इस मुद्दे को जब मेरे द्वारा उठाया गया और सीबीआई जांच की मांग की गई तो शिवराज सरकार उच्च स्तरीय जांच के स्थान पर खानापूरी कर रहे हैं ।अरबों रुपए का घोटाला किया गया है और दोषियों को बचाने की कोशिश की जा रही है। मीडिया के एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी में कोई असंतोष नहीं है।

श्री सिंह नें कहा की यह स्वाभाविक है कि जब चुनाव के दौरान पार्टी किसी को उम्मीदवार घोषित करती है तो उस सीट के लिए कई उम्मीदवार रहते हैं । लेकिन उम्मीदवार घोषित होने के बाद सभी मिलकर कांग्रेस पार्टी के लिए काम करते हैं। वही बीजेपी में जरूर असंतोष है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मंत्री ही उनकी बात नहीं सुनते हैं वहीं जो पार्टी के दो-चार बड़े नेता हैं उनमें आपसी खींचतान बनी रहती है।

इस दौरान जिला कांग्रेस कमेटी और बड़ी संख्या में कार्यकर्ता गण उपस्थित रहे। प्रमुख रूप से उपस्थित कांग्रेसी नेताओं में पूर्व विधायक सुखेन्द्र सिंह बन्ना, प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष लालचंद गुप्ता, प्रदेश कांग्रेस महामंत्री ज्ञान सिंह, जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रूद्र प्रताप सिंह बाबा, पूर्व अध्यक्ष आनंद सिंह चौहान, जिला कांग्रेस केमटी सिंगरौली अध्यक्ष शहर अरविंद सिंह, नीरज सिंह रीवा, राजेश सिंह, दयाशंकर पांडेय, कुमुदनी सिंह, रंजना मिश्रा, आंनद सिंह शेर, विनोद मिश्रा, नवीन सिंह, आदि उपस्थित रहे ।

Tuesday, 15 September 2020

MP: कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी का कोरोना से निधन, दिल्ली के मेदांता हॉस्पीटल में थे भर्ती।


भोपाल: मध्यप्रदेश के राजगढ़ जिले की ब्यावरा विधानसभा से कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी का कोरोना से निधन हो गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार आज मंगलवार सुबह उपचार के दौरान उनका निधन हो गया है।बीते दिनों उनकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई थी। मध्यप्रदेश में होनें वाले विधानसभा उपचुनावों से पहले कांग्रेस के लिये यह बड़ा झटका है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार,  बीते दिनों राजगढ़ जिले के ब्यावरा से कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई थी, जिसके बाद उन्हें भोपाल के चिरायु अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। वही उनकी पत्नी और बेटी भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। लेकिन ब्यावरा से कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी को भोपाल के चिरायु अस्पताल में  हालत में सुधार नहीं होने पर उन्हें दिल्ली के मेदांता में भर्ती करवाया गया था, जहां मंगलवार सुबह उनका निधन हो गया। 

दांगी के निधन से  पार्टी में शोक लहर दौड़ गई है। कांग्रेस समेत भाजपा के कई दिग्गज नेताओं ने दांगी के निधन पर शोक जताया है।

Latest Post

MP उपचुनाव: फिर विवादों में घिरी इमरती देवी, अपनी ही पार्टी के लिये कहा- "भाड़ में जाए पार्टी"।

MP उपचुनाव: मध्यप्रदेश में जैसे जैसे उपचुनाव की तारीख नजदीक आ रही, वैसे ही दोनों मुख्य पार्टियों की तरफ से राजनीतिक बयानबाज़ी तेज होती जा रह...