Tuesday, 2 June 2020

पिछली सरकार में खास रहे एवं हमेशा विवादों में रहनें वाले अमिलिया थाना प्रभारी दीपक बघेला को किया गया निलंबित, जानिए वजह?


सीधी: देश के साथ साथ मध्यप्रदेश में भी कोरोना का कहर जारी है। जिसकी रोकथाम के लिये पिछले दो महीनों के जादा वक़्त से देशभर में लॉकडाउन है। लॉकडाउन को सफल बनानें में एवं कोरोना के संक्रमण को फैलनें से रोकनें में सबसे अहम रोल पुलिस का रहा। लेकिन पिछले दिनों सीधी जिले के अमिलिया थाना में पुलिस का एक शर्मसार करने वाला चेहरा सामनें आया। जिस पर संज्ञान लेते हुये सीधी पुलिस अधीक्षक नें बड़ी कार्यवाही करते हुये अमिलिया थाना प्रभारी दीपक बघेला को निलंबित कर दिया।

क्या था मामला।
सीधी जिले के अमिलिया थाना क्षेत्र की एक महिला कल्पना पटेल पति संदीप पटेल उम्र 28 वर्ष निवासी ग्राम कोदौरा ने सीधी पुलिस अधीक्षक से गुहार लगाई थी की, अमिलिया थाना में पदस्थ थाना प्रभारी दीपक बघेला द्वारा उसे झूठे चोरी के आरोप में फंसा कर बिना किसी कारण ही दो दिनों तक डेढ़ साल के बच्चे के साथ लॉकअप में रखा गया। पीड़िता नें ये भी आरोप लगाया की, थाना प्रभारी नें उसके एवं उसकी उसकी मां पुटियां पटेल के साथ बेरहमी से मारपीट की। 

पीड़ित नें अपनें शरीर के जख्म दिखाते हुए कहा है कि उनके साथ इतनी बर्बरता की गई है कि चोट के कारण बैठ भी नहीं पा रही हैं। पीड़िता नें ये भी बताया की, जब शिकायत करने एसपी के पास आ रही थी तो थानेदार ने उन्हें उपचार के लिए दो हजार रुपए दिए, जिससे की उनके गुनाहों पर पर्दा डाला जा सके।

निलंबित थाना प्रभारी दीपक बघेला का विवादों से है गहरा नाता।
दीपक बघेला सीधी पुलिस में एक ऐसा चेहरा हैं, जिनका हमेशा ही विवादों से नाता रहा है। सीधीवासियों का तो यहां तक आरोप है की, दीपक बघेला को पिछली कांग्रेस सरकार का संरक्षण प्राप्त था एवं उनके नाक के नीचे से धड़ल्ले से अवैध रेत उत्खनन हो रहा था।

लेकिन अब लोंगों का कहना है की, वक़्त कैसा भी हो बदलता जरूर है। यही हुआ दीपक बघेला के साथ, महिला के साथ मारपीट के मामले में सीधी पुलिस अधीक्षक आर. यस बेलवंशी ने संज्ञान लेते हुए उन्हें निलंबित कर दिया है। साथ ही विभागीय जांच के लिये आदेश भी जारी कर दिया गया है। अब यह देखना दिलचस्प होगा की, जांच की रिपोर्ट क्या रहती है। क्या सच सामनें आयेगा? या जांच के नाम पर महज खनापूर्ती की जायेगी।

No comments:

Post a comment

Latest Post

सीधी: शासकीय चिकित्सकों के प्राइवेट प्रेक्टिस पर रोक, आदेश जारी।

सीधी: मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी सीधी द्वारा आदेश जारी कर जिलान्तर्गत क्षेत्र की समस्त शासकीय अस्पतालों में पदस्थ समस्त विशेषज्ञ/...