Thursday, 11 June 2020

सीधी हुआ कोरोना मुक्त: जिले के सभी कोरोना मरीज हुये स्वस्थ, मेडिकल बुलेटिन जारी।


  • कोरोना को हरा 5 व्यक्ति तालियों की गूँज के बीच घर के लिए हुए रवाना।
  • स्वास्थ्य दल के समर्पण एवं कोरोना संक्रमितों की इच्छाशक्ति के सामने नहीं टिक सका कोरोना।

सीधी: मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी. एल. मिश्रा ने बताया कि सीधी जिले में कोरोना संक्रमण रोकथाम के लिए किए गए कार्यों में अब तक की बड़ी सफलता प्राप्त हुई है। जिले में 31 मई 2020 से कोई पॉजिटिव केस नही मिला है। अभी तक कुल 2018 सेम्पल कराए गये है जिसमें से 1854 की रिपोर्ट प्राप्त हो चुकी है उसी में से क्रमशः कुल 17 लोग कोरोना  पॉजिटिव  पाए गए थे। जिनको कोविड हेल्थ सेन्टर जी.एन एम प्रशिक्षण केन्द्र में 14 दिन के लिए भर्ती कर उपचारित किया गया और इसी अवधि के दौरान पुनः सेम्पल की जांच होने पर निगेटिव पाए जाने के बाद क्रमशः डिस्चार्ज किया गया। इसी क्रम में आज शेष रह गए भर्ती 5 मरीजों को भी डिस्चार्ज कर एंबुलेस द्वारा घर भेजा दिया गया।

वर्तमान में सभी पाए गए कोरोना पॉजिटिव मरीज स्वस्थ होकर घर जा चुके है और नए मरीज विगत 11 दिनों में किए गए सेम्पलिग में नही पाए गए है। जिले में 2 कंटेनमेन्ट बनाए गए थे जिसमें से देवार्थ नौढ़िया को दिनांक 10.06.2020 को कंटेनमेन्ट एरिया से मुक्त कर दिया गया है अभी कोल्हूडीह कंटेनमेन्ट एरिया में शामिल है यदि आगे पॉजिटिव केस नही पाए जाते तो 21 जून तक कोल्हूडीह भी कंटेनमेंट एरिया से मुक्त हो जाएगा। यह सीधी जिले के लिए अब तक की बड़ी उपलब्धि रही है, रीवा एवं शहडोल संभाग के अंतर्गत सीधी नो कोरोना एक्टिव केस की उपलब्धि में पहला स्थान प्राप्त कर चुका है। इस उपलब्धि के लिए स्वास्थ्य विभाग के समस्त संलग्न कर्मियों के साथ जिला प्रशासन, पुलिस विभाग, सभी सहयोगी विभागो मीडिया कर्मियों की महती भूमिका रही है। सभी के योगदान के लिए स्वास्थ्य विभाग सदैव आभारी रहेगा।

आज डिस्चार्ज किए गए मरीजों को 7 से 10 दिन तक होम आइसोलेशन की समझाइस दी गई और उनके स्वस्थ हो जाने और घर जाने की खुशी में पुष्प वर्षा से स्वागत किया गया। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिश्रा ने बताया कि अभी तो परिस्थितियां नियंत्रित होती प्रतीत हो रही है लेकिन सभी जगह छूट के नजारे को देखते हुए आने वाले दिनों में जिले की स्थिती न बिगड़ने पाए इसके लिए स्वयं की जागरूकता के अलावा कोई और उपाय नजर नहीं आ रहा है।  

“अपना स्वास्थ्य अपने हाथ” की मान्यता को व्यवहार में उतारना सभी के लिए हितकारी हमेशा रहा है। उन्होंने कहा कि यदि इस समय सचेत होकर सावधानियों का पालन नही किया तो वह उसके संपर्की, साथी, परिजन सभी खतरे के दायरे में है। हमेशा अपने कार्यो में कोरोना संक्रमण के रोकथाम को शामिल करते हुए कार्य करें। शरीर को नियमित व्यायाम, योग, संतुलित आहार और भरपूर नीद के साथ रोग प्रतिरोधात्मक क्षमता बढ़ाने के लिए आयुर्वेद का त्रिकटु चूर्ण का काढ़ा का सेवन करें। घर से बाहर मास्क, कपड़ा, गमछा से मुंह ढंक कर निकले और भीड़-भाड़ वाले स्थानों, बाजार में न जाए। एल्कोहल युक्त सेनेटाइजर अपने पास रखे रहे एक से अधिक सतहों को स्पर्श करने के बाद हैण्ड वाश से सेनेटाइज या साबुन पानी से हाथ धोए। आंख, नाक, मुंह को हाथ से न छुए। इसके साथ ही अन्य लोगों को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित करें।

डॉ. मिश्रा नें कहा कि पान, तंबाकू, गुटके का सेवन करके इधर-उधर नहीं थूंके। थूकने वालो को रोकना इसलिए आवश्यक है कि यदि कोई संक्रमित का थूक जूते चप्पल में लगा तो वायरस उसके घर तक पहुंच जाएगा और संपर्क में आने वाले सभी संक्रमित हो जाएगे। जब सार्वजिनिक स्थलो पर लोग जाए तो अपने साथ-साथ दूसरों पर भी ध्यान देना जरूरी है।चाहे वह कचहरी हो, अस्पताल हो, तहसील हो, पंचायत हो, कोई सामाजिक - सांस्कृतिक कार्यक्रम हो सभी जगह कोरोना एलर्ट रहना होगा। इस संबंध में सिविल सर्जन एवं सभी खण्ड चिकित्सा अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि अस्पताल के मुख्य द्वारों पर चेतावनी लिखे कि बिना मास्क लगाए अथवा चेहरे को गमछे या कपड़े से ढंके बिना अस्पताल में प्रवेश वर्जित है।

संकट अभी टला नहीं है, सावधानी ही सर्वश्रेष्ठ बचाव : कलेक्टर श्री चौधरी।
कलेक्टर रवीन्द्र कुमार चौधरी ने सभी कोरोना विजेताओं को शुभकामनाएँ दी हैं एवं सभी को स्वास्थ्य दल द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करने के लिए कहा है। कलेक्टर श्री चौधरी ने नागरिकों को आगाह करते हुए कहा कि मरीज़ों द्वारा कोरोना से विजय प्राप्त करना एक अच्छा संकेत हैं, लेकिन ख़तरा अभी टला नहीं है। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए सभी को सतर्कता और सावधानी रखने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि ज़िले में नियमित रूप से सक्रिय निगरानी की जा रही है, ताकि किसी भी संभावित/ संदिग्ध संक्रमित की प्रारंभिक स्तर में ही पहचान कर, उन्हें उपयुक्त इलाज उपलब्ध कराया जा सके एवं संक्रमण फैलने के ख़तरे को ख़त्म किया जा सके।

कलेक्टर श्री चौधरी ने कहा कि कोविड-19 के लक्षणों का खुलासा न करना आपके और आपके परिवार के लिये खतरनाक साबित हो सकता है। ऐसे व्यक्ति जिन्हें बुखार, सर्दी, खांसी, साँस लेने में तकलीफ़ हो तो इसकी जानकारी तत्काल जिला स्तरीय कंट्रोल रूम नंबर 07822-297521 पर उपलब्ध करायें। उन्होंने कहा कि सभी की सक्रिय सहभागिता से जिले में कोरोना संक्रमण को फैलने से रोका जा सकता है। सभी शासन/प्रशासन द्वारा जारी निर्देशों का पालन करें, स्वयं सुरक्षित रहें और अन्य लोगों को भी सुरक्षित रखें।

वहीं आज डिस्चार्ज हुए सभी संक्रमितों ने स्वास्थ्य दल द्वारा प्रदान की गयी सेवाओं के लिए आभार व्यक्त किया। सभी का कहना था कि स्वास्थ्य दल द्वारा उनकी समस्त ज़रूरतों का ध्यान रखने के साथ-साथ मनोबल बढ़ाने का काम भी किया गया। सभी ने स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा प्रदान किए गए दिशा निर्देशों के पालन करने की बात कही है।


No comments:

Post a comment

Latest Post

ललित सुरजन का निधन पत्रकारिता के लिए बड़ी क्षति: अजय सिंह।

ललित सुरजन में मायाराम सुरजन के पूरे गुण विद्यमान थे: अजय सिंह। भोपाल: मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा है कि मै...