Sunday, 17 May 2020

सुखेंद्र सिंह "बन्ना": एक ऐसा कोरोना योद्धा, जो कोरोना संकट में मानवता की सेवा में दिन-रात तत्पर। VIDEO


रीवा: देश के साथ साथ मध्यप्रदेश में भी कोरोना का संकट जारी है। मध्यप्रदेश के विंध्य क्षेत्र में भी कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। साथ ही कोरोना के इस संकटकाल में लॉक डाउन की वजह से प्रवासी मजदूर कई अन्य राज्यों में फंसे हुये हैं। जिनकी घर वापसी के लिये सरकारे काम कर रहीं हैं, फिर भी मजदूर पलायन को मजबूर हैं। ऐसे में उनके सामनें सबसे बड़ी समस्या उनके खानें-पीनें को लेकर है।



लेकिन रीवा जिले की मऊगंज विधानसभा से कांग्रेस के पूर्व विधायक सुखेंद्र सिंह बन्ना मानवता की सेवा कर एक मिसाल पेश कर रहें है। रीवा जिले का हनुमना, मध्यप्रदेश एवं उत्तर प्रदेश का बॉर्डर है, जहां रोजाना हजारों की संख्या में मजदूर इकट्ठा हो रहें हैं। ऐसे में पूर्व विधायक एवं उनकी टीम इन प्रवासी मजदूरों के लिये खानें पीनें की व्यवस्था में लगी हुई है। साथ ही मध्यप्रदेश के मजदूर जो की बॉर्डर के उस पार फंसे हुये हैं, पूर्व विधायक उनके लिये प्रशासन से बात कर उनकी घर वापसी भी सुनिश्चित कर रहें हैं।

साथ ही पूर्व विधायक, बिना यह जानें की कौन सा श्रमिक कौन से राज्य का है, अनवरत सब के सेवा में लगे हुये हैं। उनकी इस सेवा भावना को देख उत्तरप्रदेश पुलिस के लालगंज के अधिकारी हनुमना बॉर्डर पहुंच कर, पूर्व विधायक सुखेंद्र सिंह एवं उनकी समस्त टीम को धन्यवाद दिया।

इंदौर से आये हुये रासुका के दो अपराधी, जो की कोरोना पॉजिटिव थे, दोनों ही कैदियों को रीवा से बाहर भेजनें के लिये भी सुखेंद्र सिंह नें प्रशासन कों दिया था अल्टीमेटम।
बता दें, की इंदौर से सतना सेंट्रल जेल भेजे गये रासुका के दो कैदी कोरोना पॉजिटिव निकले थे, जिन्हें  बाद में रीवा के संजय गांधी हॉस्पिटल शिफ्ट कर दिया गया है। इंदौर से रासुका के कैदियों के सतना भेजनें और उनके कोरोना पॉजिटिव निकलनें के बाद उन्हें रीवा शिफ्ट किये जानें पर, कांग्रेस के मऊगंज से पूर्व विधायक सुखेंद्र सिंह "बन्ना" नें कड़ी प्रतिक्रिया दी थी।

पूर्व विधायक नें कहा था, कोरोना के संक्रमण कों विंध्य से दूर रखनें के लिये रीवा सहित पूरे विंध्य की जनता नें सरकार द्वारा दिये गये निर्देशों का पूर्ण रूप से पालन किया। लेकिन अब साजिस के तहत कोरोना को रीवा शिफ्ट कर दिया गया, जिसका हम विरोध करतें है। साथ ही उन्होनें कहा की यदि रीवा सांसद एवं रीवा के 8 विधायक इसका विरोध करते तो किसी भी सूरत में इन कोरोना पॉजिटिव कैदियों को विंध्य में प्रवेश नही मिलता।



साथ ही पूर्व कांग्रेस विधायक नें कांग्रेस शहर अध्यक्ष एवं ग्रामींण अध्यक्ष के साथ मिलकर रीवा कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा था। साथ ही 48 घंटे का अल्टीमेटम देते हुये कहा- यदि 48 घंटे के अंदर दोनों कोरोना पॉजिटिव कैदियों को रीवा से बाहर नही भेजा गया तो हम लॉकडाउन माननें को बाध्य नही हैं और जेल जानें को भी तैयार हैं। हला की बाद में प्रशासन नें विरोध को बढ़ते हुये देख दोनों कैदियों को रीवा से भोपाल के चिरायु अस्पताल भेज दिया था।



प्रदेश सरकार द्वारा शराब दुकान खोले जाने का भी पूर्व विधायक नें किया था विरोध।
प्रदेश सरकार द्वारा शराब दुकान खोले जाने एवं मंदिरो में पूजा-अर्चना की अनुमति न दिए जाने के विरोध में आज मऊगंज विधानसभा क्षेत्र के पूर्व कांग्रेस विधायक सुखेंद्र सिंह "बन्ना" चिरहुला पहुंचे थे और हनुमानजी मंदिर में पूजा अर्चना भी की थी, जबकि मंदिरों में जाने की अनुमति प्रशासन ने नहीं दी थी। पूर्व विधायक का मानना था कि जब मदिरालय खुला हुआ है तो देवालय क्यों नही। हमारी आस्था है तो हम पूजा-पाठ जरूर करेंगे। इसके अलावा पूर्व विधायक ने रीवा की जनता से अपील है कि चीरहुला नाथ की पूजा करें जिससे कोरोना से मुक्ति मिल सके। अब जिसको मदिरालय पर भरोसा है वह मदिरालय जाए और जिसे देवालयपर भरोसा है वह देवालय जाए। 

गौरतलब है की, सुखेंद्र सिंह की पहचान एक जुझारू एवं संघर्षशील जनप्रतिनिधि के रूप में होती है। वह मऊगंज विधान सभा सीट से कांग्रेस के विधायक भी रह चुकें हैं। साथ ही वह जनता के साथ हमेशा खड़े दिखते हैं। वहीं इस लॉक डाउन में भी सुखेंद्र सिंह निरंतर जनमानस की सेवा में लगें हुयें हैं और प्रवासी श्रमिकों के खाने पीनें का इंतजाम रोजाना कर रहें हैं।

देखें वीडियो👇

No comments:

Post a comment

Latest Post

सीधी: कोरोना का कहर जारी, मिले 24 नए कोरोना संक्रमित केस।

10 व्यक्तियों ने जीती कोरोना से जंग। कुल संक्रमित 717 डिस्चार्ज 531 एक्टिव केस 183 मृत्यु 3 सीधी : जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ० नागेंद्र बिहारी ...