Friday, 22 May 2020

MP उपचुनाव: कांग्रेस नें उपचुनाव पर रणनीति की कमान प्रशांत किशोर को सौपनें का लिया फ़ैसला।


भोपाल: मध्यप्रदेश में 24 विधानसभा सीटों पर होनें वाले आगामी उपचुनावों को देखते हुये अब कांग्रेस सक्रिय होती दिख रही है। कांग्रेस में अभी पिछले दिनों ही पूर्व सीएम कमलनाथ एवं वरिष्ठ नेताओं की बैठक हुई थी, जिसमें टिकट वितरण से लेकर चुनावी रणनीति पर चर्चा हुई थी। इसी बीच अब कांग्रेस नें एक बड़ा फ़ैसला लेते हुये उपचुनाव पर रणनीति की कमान प्रशांत किशोर को सौपनें का फ़ैसला लिया है।

दरअसल कांग्रेस के प्रचार अभियान की कमान संभालने के लिए पार्टी ने तीन कंपनियों के प्रस्ताव पर विचार किया था, जिसमे प्रशांत किशोर के नाम पर मुहर लगी है। गुरुवार को कांग्रेस ने प्रशांत किशोर के नाम पर सहमति बनाकर ये तो बता दिया है कि वो उपचुनाव को हल्के में नहीं लेने वाली है। प्रशांत किशोर एक प्रखर रणनीतिकार हैं।

गौरतलब है की,  2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जीत का श्रेय भी प्रशांत किशोर जाता है। वहीँ पिछले विधानसभा (2018) चुनाव में भी प्रशांत ही कांग्रेस को सत्ता तक पहुंचाने वाले मुख्य रणनीतिकार थे। बिहार में भी नितीश कुमार को जीत दिलाने में प्रशांत किशोर की बड़ी भूमिका रही थी। वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस, सिंधिया और उनके समर्थक कांग्रेस के बागी नेताओं को घेरने की तयारी में जुट गयी है। ग्वालियर चम्बल में लगातार कांग्रेस नए विकल्प तलाश रही है। वहीँ कांग्रेस का वॉर रूम भी अब भोपाल की जगह ग्वालियर में होगा।

जैसा की पता है, मार्च में ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस से इस्तीफा देकर बीजेपी में शामिल होते ही कांग्रेस के 22 विधायकों ने भी पार्टी से  इस्तीफा दे दिया था। जिसके बाद प्रदेश में कमलनाथ की सत्ता गिर गयी थी। वहीं प्रदेश में फिर शिवराज की वापसी हुई थी।अब इन 24 सीटों पर कांग्रेस का वापस सत्ता में लौटना निर्भर करता है। अब यह देखना दिलचस्प है की प्रशांत किशोर की राजनीति कांग्रेस को सत्ता में वापसी करवा सकती है या नही।

No comments:

Post a comment

Latest Post

MP उपचुनाव: फिर विवादों में घिरी इमरती देवी, अपनी ही पार्टी के लिये कहा- "भाड़ में जाए पार्टी"।

MP उपचुनाव: मध्यप्रदेश में जैसे जैसे उपचुनाव की तारीख नजदीक आ रही, वैसे ही दोनों मुख्य पार्टियों की तरफ से राजनीतिक बयानबाज़ी तेज होती जा रह...