Thursday, 21 May 2020

MP में "बंगला पॉलिटिक्स": कमलेश्वर पटेल सहित 24 पूर्व मंत्रियों को बंगला खाली करने का दिया गया था नोटिस, पूर्व मंत्री तरुण भनोट के बंगले को किया गया सील।


  • मध्यप्रदेश गृह विभाग ने 24 पूर्व मंत्रियों को 13 मई को आदेश जारी कर उनके आवास आवंटन को निरस्त कर दिया था।
  • पूर्व मंत्री तरुण भनोट का बंगला किया गया सील, अब बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा को हुआ है अलॉट।
  • पूर्व मंत्री कमलेश्वर पटेल को भी बंगला खाली करनें का दिया गया है आदेश, उनका बंगला भोपाल से भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर को किया गया है अलॉट।


भोपाल: देश के साथ साथ मध्यप्रदेश में भी कोरोना का कहर जारी है। कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। लेकिंन इसी बीच मध्यप्रदेश की पिछली कमलनाथ सरकार के पूर्व 24 मंत्रियों को बंगले खाली करनें के नोटिस दिए गये थे, जो अभी तक खाली नही किये गये हैं।



दरअसल, मध्यप्रदेश गृह विभाग ने 24 पूर्व मंत्रियों को 13 मई को आदेश जारी कर उनके आवास आवंटन को निरस्त कर दिया था और 20 मई तक खाली करने की मोहलत दी थी। इसके बाद भी पूर्व मंत्रियों ने सरकारी बंगले खाली नहीं किए। इसके बाद संपदा संचालनालय मध्यप्रदेश ने बुधवार को कांग्रेस नेता एवं पूर्व वित्त मंत्री तरुण भनोत के भोपाल स्थित सरकारी बंगले को सील कर दिया।



नोटिस में यह भी लिखा है कि तय समय पर बंगला खाली नहीं किया तो जबरन बंगले खाली करवाए जा सकते हैं। इसमें उन मंत्रियों का नाम शामिल नहीं है जो भाजपा में शामिल हो गए हैं। वही भनोट का बंगला बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा को अलॉट किया गया है। इसके पहले भी तरुण भनोट को दो बार नोटिस जारी हो चुके हैं, बावजूद इसके उन्होंने बंगला खाली नही किया, जिसके बाद बुधवार को कर्मचारी चार इमली स्थित बी-16 बंगले को खाली करने करवाने पहुंचे और बाद में उसी सील कर दिया।



बंगला सील होने के बाद तरुण भनोत ने प्रदेश की शिवराज सरकार में हमला बोलते हुए कहा कि कोरोना संकट में सरकार बदले की सियासत कर रही है। उन्होंने कहा कि जब में भोपाल से बाहर हूं और मेरी गैर-मौजूदगी में सरकारी बंगला खाली कराना बदले की कार्यवाही है। उन्होंने राज्य सरकार से मांग किया कि एक विधायक की हैसियत से मुझे सरकारी बंगला मिले।




इस पर मध्य प्रदेश से कांग्रेस के राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने ट्वीट कर कहा कि यह मध्यप्रदेश सरकार की दिल दहलानेवाली कार्यवाही है। कोरोना वायरस की महामारी के बीच कांग्रेस के पूर्व मंत्रियों को सरकारी आवास खाली करने के नोटिस दिए गए हैं। कोविड-19 के हॉट स्पॉट भोपाल में पूर्व मंत्रियों को सरकारी आवास खाली करने को कहा जा रहा है।विवेक तन्खा ने आरोप लगाया कि सीएम शिवराज सिंह चौहान एवं गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा व्यक्तिगत रूप से यह काम करवा रहे हैं। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट ने कोविड-19 के समय ऐसे कार्यों को करने से मना किया है। इसके बावजूद शिवराज सरकार इस तरह के कार्य कर रहे हैं।



कांग्रेस विधायक और पूर्व मंत्री जीतू पटवारी का कहना है कि जब भारतीय जनता पार्टी विपक्ष में थी तो उनके कई पूर्व मंत्रियों ने बंगले नहीं खाली किए थे। तब कांग्रेस ने ऐसी कोई कार्रवाई नहीं की। बीजेपी ओछी सोच वाली पार्टी है और बदले की कार्रवाई के तहत इस तरह बंगले खाली करवा रही है।



मध्य प्रदेश के गृह विभाग ने पूर्व मंत्रियों को सरकारी बंगले खाली करने के निर्देश दिए हैं। जिन लोगों को नोटिस जारी हुआ है, उनमें पूर्व मंत्री तरुण भनोत, सज्जन सिंह वर्मा, हुकुम सिंह कराड़ा, बृजेंद्र सिंह राठौर, ओमकार सिंह मरकाम, प्रियव्रत सिंह, सुखदेव पांसे, उमंग सिंगार, पीसी शर्मा, कमलेश्वर पटेल, लखन घनघोरिय, सचिन यादव और सुरेंद्र बघेल शामिल हैं। पूर्व मंत्री एवं सीधी जिले की सिहावल से विधायक कमलेश्वर पटेल का बंगला, भोपाल से भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर को अलॉट कर दिया गया है।

No comments:

Post a comment

Latest Post

कांग्रेस विधायक उमंग सिंघार का बड़ा बयान, कहा- सिंधिया ने दिया था 50 करोड़ और मंत्री पद का ऑफर।

MP उपचुनाव:   मध्यप्रदेश में विधानसभा की 28 सीटों पर 3 नवंबर को मतदान होना है। जिसे देखते हुये हुये भाजपा एवं कांग्रेस के नेताओं का आपस में ...