Monday, 18 May 2020

सीधी: झोलाछाप डाक्टरों से रहें सावधान, पंजीकृत चिकित्सकों से ही करायें उपचार- सीएमएचओ डॉ. वर्मा।


  • कोरोना वायरस से बचाव हेतु आवश्यक है सावधानी: मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आर.एल. वर्मा।

सीधी: मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आर.एल. वर्मा ने बताया है कि नोवल कोरोना वायरस (कोविड-19) वैश्विक महामारी घोषित है। सभी शासकीय अस्पतालों में सर्दी, खॉसी, जुखाम, बुखार, सिर दर्द, बदन दर्द, गले में दर्द वाले रोगों का परीक्षण कर आवश्यक उपचार निःशुल्क प्रदान किया जा रहा है। इन बीमारियों से पीडि़त व्यक्तियों को आवश्यकतानुसार होम क्वारेंटाइन या संस्थागत क्वारेंटाइन सेंटर में निगरानी में रखकर जॉच व उपचार की सुविधा निःशुल्क प्रदान की जा रही है।



मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. वर्मा ने समस्त नागरिकों से अपील की है कि सर्दी, खॉसी, जुखाम, बुखार, सिर दर्द, बदन दर्द, गले में दर्द होने जैसे लक्षण वाले रोगियों का उपचार शासकीय चिकित्सक से ही करवायें, किसी भी झोला छाप से उपचार न करायें। 



मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. वर्मा ने पंजीकृत निजी नर्सिंग होम एवं क्लीनिक के संचालकों को निर्देशित किया है कि उक्त लक्षण वाले रोगियों की पूर्ण जानकारी तत्काल काल सेंटर पर दूरभाष क्रमांक 07822-297521 या 07822-250123 दिया जावे ताकि उक्त रोगी का फॅालोअप एवं जॉच व उपचार कराया जा सके। जिलान्तर्गत क्षेत्र में नोवल कोरोना वायरस लक्षण वाले रोगियों का किसी अनाधिकृत व्यक्ति या झोलाछाप द्वारा चिकित्सा उपचार करते पाये जाने या शिकायत प्राप्त होने पर तत्काल संबंधित व्यक्ति के विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही की जावेगी।



गौरतलब है की, आज जिला अस्पताल में सुबह 8ः05 बजे सांस लेने में तकलीफ के साथ बेहोशी की हालत में एक मरीज को डॉ. अजय प्रजापती के द्वारा भर्ती किया गया। मरीज  शिवम खरादी पुत्र अमरनाथ खरादी उम्र 23 वर्ष ग्राम राजगढ़, हिनौती सिहावल जिला सीधी का निवासी है। प्राप्त जानकारी अनुसार वह हैदराबाद में रहता था और लगभग 2 माह पहले हैदराबाद से घर आया था। तत्काल में लगभग 1 हफ्ते पूर्व उसे बुखार, दर्द और अपच होने के कारण उसकी तबियत खराब हो गई, तब हिनौती में स्थानीय स्तर पर दवा उपचार का कार्य करने वाले झोला छाप बनारसी और रिंकू से इलाज करवाता रहा लेकिन स्थिति में सुधार न होने और तबियत बिगड़ने पर आज जिला चिकित्सालय में इलाज के लिए लाया गया।



जिला अस्पताल में उसके चिकित्सकीय उपचार में कार्यरत स्टाफ से प्राप्त जानकारी अनुसार भर्ती करने के पश्चात् उसे आवश्यकतानुसार उपचार प्रदान किया गया। साथ ही एहतियातन कोरोना सैम्पल भी लिया गया। लेकिन उसके बिगड़ते स्वास्थ्य को देखकर रीवा मेडिकल कालेज हेतु रेफरल प्रक्रिया के दौरान ही अस्पताल में डॉ. लक्ष्मण पटेल के द्वारा सुबह 8ः30 बजे मृत घोषित कर दिया गया। 

No comments:

Post a comment

Latest Post

सीधी में विकराल हुआ कोरोना, जिले में मिले 41 नए कोरोना संक्रमित मरीज।

जिले में मिले 41 नए कोरोना संक्रमित।  कुल संक्रमित 207 डिस्चार्ज 88 एक्टिव केस 118 सीधी: एक बार कोरोना मुक्त हो चुके मध्य...