Saturday, 2 May 2020

सिंधिया समर्थक मंत्री नें "परिवर्तन को प्रगति का नियम" बताया, साथ ही कहा तुलसी सिलावट वही है सिर्फ़ विचारधारा का परिवर्तन हुआ है।


इंदौर: देश के साथ साथ मध्यप्रदेश में भी कोरोना का कहर जारी है। अगर बात मध्यप्रदेश की करें तो यहां आर्थिक राजधानी इन्दौर के हालात बेहद खराब हैं। इन्दौर में मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। अब यहां संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 1515 तक पहुंच गया है, साथ ही 74 लोंगों की अब तक मौत हो चुकी है। जिसको लेकर बीते कुछ दिनों से इंदौर में सक्रिय प्रदेश के जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट ने आज इंदौर प्रशासन के अधिकारियों के साथ बैठक की।



साथ में इंदौर सांसद शंकर लालवानी भी मौजूद रहे। बैठक में कोरोना संकट के दौरान प्रशासनिक कार्यो सहित आने वाले समय मे एक्शन प्लान पर भी चर्चा की गई। इसके बाद मीडिया नें मंत्री सिलावट से कांग्रेस और बीजेपी सरकार में उनके दायित्व सहित सहजता को लेकर सवाल पूछे गये, लेकिन वो इन सभी सवालों के जबाव टालते रहे और उन्होंने खुद की और शिवराज सरकार की प्राथमिकता कोरोना से जंग को बताया।



वही जब उनसे पूछा गया कि बीजेपी कार्यकाल में कितना फर्क आपको महसूस हो रहा है उन्होंने जबाव दिया कि अभी सबसे बड़ा संकट कोरोना है। दिल और दिमाग मे बस एक ही जुनून है कि इस संकट से कैसे उबरें। वही सहजता के सवाल पर वो कह बैठे कि "परिवर्तन प्रगति का नियम है"। साथ ही उन्होनें कहा की तुलसी सिलावट वही है, बस विचारधारा का परिवर्तन हुआ है।



हला की परिवर्तन के लिये "परिवर्तन प्रकृति का नियम है" कहा जाता है, लेकिन मंत्री सिलावट नें "परिवर्तन को प्रगति का नियम" बता डाला। जिसे उनके दलबदल वाले घटनाक्रम से जोड़कर देखा जा रहा है। गौरतलब है की तुलसी सिलावट सहित 22 सिंधिया समर्थक विधायकों नें अपना इस्तीफा देते हुये कांग्रेस छोड़ दी थी, और बाद में भाजपा में शामिल हो गये थे। जिसके बाद कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ गयी थी और कमलनाथ को सीएम पद से इस्तीफा देना पड़ा था। फिलहाल तुलसी सिलावट, शिवराज सरकार में मंत्री बना दिये गयें हैं।



देखें वीडियो, मंत्री सिलावट नें क्या कहा👇



No comments:

Post a comment

Latest Post

सीधी: कोरोना का कहर जारी, जिले में मिले 18 नए कोरोना संक्रमित।

26 व्यक्तियों ने जीती कोरोना से जंग। कुल संक्रमित 814 डिस्चार्ज 573 एक्टिव केस 238 मृत्यु 3 सीधी: जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ० नागेंद्र बिहारी ...