Sunday, 10 May 2020

दिग्विजय सिंह के बाद अब उनके पुत्र एवं पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह का सिंधिया पर निशाना।


भोपाल: ज्योतिरादित्य सिंधिया जब से कांग्रेस का दामन छोड़ भाजपा में शामिल हुये एवं उनकी वजह से मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार गिरी है, तब से ही कांग्रेस लगातार सिंधिया के ऊपर हमलावर है। कांग्रेस सिंधिया को घेरनें का कोई भी मौका नही छोड़ रही। अब पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के बाद, हमेशा ही शांत- शालीन एवं बड़ों से हमेशा अदब से पेश होनें वाले उनके पुत्र एवं पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह नें सिंधिया परिवार पर अप्रत्यक्ष रूप से निशाना साधा है।



दरअसल आज के दिन ही 10 मई को 1857 में मेरठ से देश के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम का आगाज हुआ था। इसी को आधार बनाकर जयवर्धन ने ट्वीट किया है कि “आज ही के दिन मेरठ से देश के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की मशाल जलाई गई थी। वह तो एक “महाराज” की महत्वाकांक्षा आड़े आ गई थी नहीं तो मंगल पांडे ,बहादुर शाह जफर, रानी लक्ष्मीबाई, तात्या टोपे और हमारे स्वतंत्रता सेनानियों के अमर बलिदान ने 1857 में ही आजादी का इतिहास लिख दिया होता।”


अब यह माना जा रहा की, यह सीधा कटाक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया के पूर्वजों पर है जिन पर आरोप लगते रहे हैं कि उन्होंने रानी लक्ष्मीबाई के खिलाफ अंग्रेजों का साथ दिया था। जिसके कारण लक्ष्मी बाई की मौत हो गई थी। हला की सिंधिया के भाजपा में शामिल होनें के पहले भाजपा भी उन पर ऐसे आरोप लगाती रही है। भाजपा के ग्वालियर चम्बल संभाग से आनें वाले दो कद्दावर नेता जयभान सिंह पवैया एवं प्रभात झां की राजनीति ही सिंधिया को घेरनें की रही है।



गौरतलब है की सिंधिया को पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह नें भी शनिवार को अपने किये गए ट्वीट में कहा था कि- बीजेपी अब रिलायंस की राहत सामग्री में भी चिंदी-चोरी करते हुए सिंधिया का फोटो चिपकाकर श्रेय ले रहे। उन्होंने कहा कि रिलायंस रिलीफ फंड द्वारा अशोकनगर जिले को भेजी गई राहत सामग्री पर सिंधिया जी अपना फ़ोटो चिपकाकर नकली दानवीर बन रहे हैं।

वहीं सवाल करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि महाराज के पूर्वज इतना छोड़ गये हैं और इतने सारे आपके निजी ट्रस्ट हैं। जिनके माध्यम से इस संकट काल में राहत दी जा सकती थी। फिर आपको रिलायंस फ़ाउंडेशन के टेग हटा कर सिंधिया फ़ाउंडेशन का टेग लगा कर आपका और मोदी जी का चित्र लगाना कहां तक उचित है।

No comments:

Post a comment

Latest Post

ललित सुरजन का निधन पत्रकारिता के लिए बड़ी क्षति: अजय सिंह।

ललित सुरजन में मायाराम सुरजन के पूरे गुण विद्यमान थे: अजय सिंह। भोपाल: मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा है कि मै...