Saturday, 2 May 2020

भोपाल पहुंची श्रमिक स्पेशल ट्रेन में मजदूरों से वसूला गया किराया, केंद्र की गाइड लाइन को किया गया अनदेखा।


भोपाल: देशभर में कोरोना का संक्रमण बढ़ता जा रहा है। जिसे देखते हुये लॉकडाउन को 17 मई तक बढ़ा दिया गया है। लेकिन इसी बीच लॉकडाउन के मेें फंसे लोंगों के लिये बीते कल एक राहत की खबर भी आयी थी। मोदी सरकार ने लॉकडाउन में फंसे लोगों को उनके गृह राज्य पहुंचाने के लिए ट्रेनों को चलाने की इजाजत दे दी थी। इसके साथ ही रेल मंत्रालय ने 'श्रमिक स्पेशल ट्रेन' चलाए जाने का ऐलान किया था।

जिसके तहत आज यानी शनिवार की सुबह करीब 6.30 बजे नासिक रेलवे स्टेशन से भोपाल रेल मंडल के मिसरोद रेलवे स्टेशन करीब 347 श्रमिकों को लेकर श्रमिक स्पेशल ट्रेन पहुंची। लेकिन अब भोपाल पहुंची ट्रेन को लेकर एक विवाद खड़ा हो गया है। सामने यह आया है कि, श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में मजदूरों से भी टिकट का किराया वसूला गया। जबकि, नियमानुसार राज्य सरकार को इन टिकटों की कीमत देनी थी।



305 रुपये के टिकट के एवज में 315 रुपये वसूले गये।
महाराष्ट्र के नासिक से भोपाल पहुंचने वाले प्रवासियों के मुताबिक, भोपाल पहुंचने से पहले ही उनसे 305 रुपये के टिकट के एवज में 315 रुपये हर यात्री के हिसाब से वसूले गए। मजदूरों की मानें तो उनसे कहा गया था कि, उन्हें बस ट्रैन में बैठना है और कुछ नहीं करना। ट्रेन उन्हें फ्री में भोपाल तक पहुंचाएगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। 



केंद्र की गाइड लाइन में यह स्पष्ट किया गया है की  यात्री को किराये का भुगतान नही करना है।
केंद्र सरकार की ओर से जारी गाइड लाइन में ये स्पष्ट किया गया था कि, श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के लिए यात्री को किराये का भुगतान नहीं करना है । ये खर्च या तो उस राज्य की सरकार को वहन करना होगा, जहां से प्रवासी जा रहे हैं या फिर उस राज्य की सरकार को करना होगा, जहां ये प्रवासी जा रहे हैं। लेकिन भोपाल पहुंचने वाली ट्रेन के यात्रियों के साथ तो ऐसा नहीं हुआ और सबसे किराये वसूले गये।

No comments:

Post a comment

Latest Post

सीधी: कोरोना का कहर जारी, मिले 24 नए कोरोना संक्रमित केस।

10 व्यक्तियों ने जीती कोरोना से जंग। कुल संक्रमित 717 डिस्चार्ज 531 एक्टिव केस 183 मृत्यु 3 सीधी : जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ० नागेंद्र बिहारी ...