Sunday, 17 May 2020

सिंधिया समर्थक पूर्व विधायक को कार्यकर्ता नें सुनाई खरी-खोटी, कहा- आपनें हमें मुह दिखाने लायक नही छोड़ा।


देवास: ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके समर्थक जब से कांग्रेस का दामन छोड़ भाजपा में शामिल हुये हैं एवं उनके वजह से मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार गिरी है, तब से ही कांग्रेस लगातार सिंधिया के साथ साथ उनके समर्थकों पर हमलावर है। कांग्रेस सिंधिया और उनके समर्थकों को घेरनें का कोई भी मौका नही छोड़ रही। इसका एक उदाहरण देखने को मिला जब सिंधिया समर्थक पूर्व विधायक को कार्यकर्ताओं नें खरी-खरी सुना दी।  कार्यकर्ता, पूर्व विधायक मनोज चौधरी को कोसते हुए कह रहे की, आपनें हमें मुह दिखाने लायक नही छोड़ा।



दरअसल, ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक और देवास जिले की हाटपिपल्या विधानसभा के पूर्व विधायक मनोज चौधरी का ऑडियो इन दिनों खूब वायरल है। आडियो में पूर्व विधायक मनोज चौधरी ने कार्यकर्ता से बात करने की कोशिश कर रहे, पर कार्यकर्ता ने चौधरी को ही खरी-खोटी सुना दी। मालवी भाषा मे वायरल हुए इस ऑडियो में कार्यकर्ता चौधरी को कोसते हुए कहने लगे की आपने हमे मुह दिखाने लायक नही छोड़ा।



जिस पर चौधरी सिंधिया का हवाला देकर कार्यकर्ता को समझाने का प्रयास करने लगें। परन्तु कार्यकर्ता ने एक न सुनी। हालांकि यह आडियो कुछ महीनें पुराना बताया जा रहा है। लेकिन ऑडियो सामने आते ही कांग्रेस कार्यकर्ता इसे खूब शेयर कर चौधरी को गद्दार कह रहें। हला की, विगत दिनों भाजपा संगठन महामंत्री सुहास भगत चौधरी को टिकट के लिए आश्वस्त कर चुके है, लेकिन जमीनी स्तर पर कार्यकर्ताओं की नाराजगी नतीजों को क्या रूप देगी ये तो वक्त ही बताएगा।



गौरतलब है की, आगामी उपचुनावों को देखते हुये, हाटपिपल्या विधानसभा के दर्जनभर चौधरी समर्थकों से स्वयं ज्योतिरादित्य सिंधिया फोन कॉल के जरिए सम्पर्क कर हाल-चाल पूछ रहे है, और पूर्व विधायक के पक्ष में माहौल तैयार कर रहें है। अब ये तो वक़्त ही बतायेगा की जिन मनोज चौधरी को हाटपिपल्या की जनता नें कांग्रेस के टिकट पर सर आंखों पर बैठाया था अब उन्हे फिर से भाजपा के टिकट पर जितायेगी या नतीजा कुछ और होगा।

No comments:

Post a comment

Latest Post

बिजली समस्या को लेकर कांग्रेस की चुरहट इकाई नें, मवई विद्युत वितरण केन्द्र का किया घेराव।

सीधी / चुरहट: काग्रेस पार्टी (चुरहट इकाई) द्वारा बिजली की समस्या को लेकर मवई डी.सी. कार्यालय का घेराव किया गया। गरीब मजदूर, आम जनता एवं किसा...