Tuesday, 5 May 2020

कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे कुछ नेता, अब मंत्री बननें की चाह में भाजपा के बड़े नेताओं के बंगलों के लगा रहे चक्कर।


भोपाल: मध्यप्रदेश में शिवराज मंत्रिमंडल के विस्तार की अटकलें एक बार फिर तेज हो गयी हैं। मंत्री बननें की चाह में दावेदार, बड़े नेताओं के बंगले पहुंचकर अपनी फील्डिंग जामनें का भरपूर प्रयास कर रहें हैं। दिलचस्प बात ये है की, पिछली कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे कुछ नेता एवं कांग्रेस के बागी हुये पूर्व विधायक भी मंत्री बननें की जुगाड़ में यहां वहां चक्कर लगा रहें।

सोमवार को कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे प्रदीप जायसवाल, प्रभुराम चौधरी और पूर्व विधायक एंदल सिंह कंसाना, नरोत्तम मिश्रा से मिलने पहुंचे। इन मुलाकातों को कैबिनेट विस्तार से जोड़कर देखा जा रहा है। गौरतलब है की कोरोना संकट के बीच मुख्यमंत्री शिवराज ने कैबिनेट में सिर्फ पांच मंत्री बनाये थे। सूत्रों के मुताबिक अब शिवराज कैबिनेट विस्तार करने जा रहे हैं। इसको लेकर अंदरखाने में तैयारी तेज हो गई है।  इस बीच मंत्री बनने की चाह में नेताओं ने अपनी फील्डिंग जमानी शुरु कर दी है।

पूर्व खनिज मंत्री प्रदीप जायसवाल निर्दलीय विधायक हैं, और कमलनाथ सरकार गिरने के बाद पाला बदल लिया था। वहीं एंदल सिंह कंसाना ज्योतिरादित्य सिंधिया खेमे से नहीं आते हैं, लेकिन फिर भी बागी होकर उन्होंने भाजपा का साथ दिया था, और अब मंत्री बनने की कतार में है। दिग्विजय समर्थक कहे जाने वाले एंदल सिंह कंसाना ने मंत्रिमंडल विस्तार से पहले से नरोत्तम मिश्रा से बंद कमरे में 45 मिनिट तक चर्चा की।

ऐसा माना जा रहा है, कि अगले विस्तार में 22 मंत्रियों को शपथ दिलाई जा सकती है। इसमें आठ से 10 पूर्व विधायक,  पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक होंगे। फिलहाल शिवराज कैबिनेट में सिर्फ पांच मंत्री हैं। इनमें से दो सिंधिया समर्थक और तीन भाजपा के कोटे से हैं। सिंधिया कोटे से इमरती देवी, महेंद्र सिंह सिसोदिया, प्रद्युमन सिंह तोमर और प्रभुराम चौधरी के केबिनेट में शामिल होने की संभावना है। वहीं हरदीप सिंह डंग, एदल सिंह कंषाना और बिसाहू लाल सिंह का नाम भी चर्चा में है।

No comments:

Post a Comment

Latest Post

कौन हैं चौधरी राकेश सिंह? जिनको लेकर कांग्रेस में मचा है घमासान।

भोपाल:   मध्यप्रदेश में संगठन की मजबूती के लिये प्रदेश कांग्रेस ने बड़ा बदलाव किया है। प्रदेश कांग्रेस ने संगठन में 56 जिलों में प्रभारियों ...