Wednesday, 20 May 2020

सरकार के आदेश के बाद भी व्यापारियों नें शराब की दुकान खोलनें से किया मना, "नाथ" नें "शिव" पर कसा तंज।


  • पूर्व सीएम एवं कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने ट्वीट कर हमला बोलते हुए कहा , शिवराज सरकार चाहती है कि इस महामारी में भले धार्मिक स्थल ना खुले, लेकिन शराब की दुकानें जरूर खुले।
  • कमलनाथ ने ये भी कहा ‘यह वही लोग है जो विपक्ष में बैठकर प्रदेश में शराब को लेकर रोज़ विरोध करते थे, प्रदेश को मदिरा प्रदेश बनाने के आरोप लगाते थे। आज सत्ता में आकर यही शराब के सबसे बड़े पैरोकार बन गये है।

भोपाल: देश के साथ साथ मध्यप्रदेश में भी कोरोना का संकट बरकरार है। इसी बीच मध्यप्रदेश सरकार नें शराब की दुकानें खोलनें का आदेश दिया है। लेकिन संगम ट्रेडर्स लिकर एसोसिएशन ने मध्यप्रदेश में शराब की दुकानें ना खोलने का फैसला लिया है।व्यापारियों ने कोरोनाकाल में आमजनता और अपने कर्मचारियों को देखते हुए यह निर्णय लिया है। हैरानी की बात तो है कि प्रदेश की सरकार शराब दुकानें खोलना चाहती है और बकायदा इसके लिए आदेश भी जारी किया गया है। ऐसे में एक बार फिर सरकार और व्यापारी आमने सामने आ गए है। 



दरअसल, मध्यप्रदेश के शराब व्यापारियों का बड़ा फैसला लिया है, जिसके तहत मध्यप्रदेश में एक भी शराब की दुकान नहीं खुलेंगी। संगम ट्रेडर्स लिकर एसोसिएशन ने यह फैसला लिया है।संगम ट्रेडर्स लिकर एसोसिएशन ने कहा है कि कोरोना काल में आम जनता और अपने कर्मचारियों को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है।संगम ट्रेडर्स एसोसिएशन के जीएम का कहना है कि जब तक स्थिति सामान्य नहीं होती तब तक शराब की दुकानें नहीं खोली जाएंगी । वहीं सरकार ने शराब की दुकानें खोलने का आदेश जारी किया है।



आप की जानकारी के लिये बता दें की, मध्य प्रदेश के आबकारी विभाग ने यह तय किया था कि कोरोना के सर्वाधिक संक्रमित इंदौर, भोपाल और उज्जैन की नगरीय निकाय क्षेत्रों को छोड़कर ग्रामीण क्षेत्रों में सभी शराब की दुकानें खोल दी जाएंगी।इसके साथ-साथ जबलपुर, खंडवा, देवास और बुरहानपुर में भी नगरीय निकाय क्षेत्रों को छोड़कर सभी ग्रामीण क्षेत्र की दुकानें खोल दी जाएंगी। साथ साथ मंदसौर, नीमच ,धार और कुक्षी नगर पालिका क्षेत्रों को छोड़कर शेष सभी क्षेत्रों में शराब की दुकानें खोली जाएंगी।



अब इसको लेकर अब कांग्रेस ने सरकार को घेरना शुरू कर दिया है । पूर्व सीएम एवं कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने ट्वीट कर हमला बोलते हुए कहा , शिवराज सरकार चाहती है कि इस महामारी में भले धार्मिक स्थल ना खुले, लेकिन शराब की दुकानें जरूर खुले। प्रदेश भले कोरोना की चपेट में आता जाये इन्हे कोई फर्क नहीं पड़ता।



पूर्व सीएम कमलनाथ ने ट्वीट कर शिवराज सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने लिखा- ‘प्रदेश में कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए प्रदेश का आमजन , यहाँ तक की ख़ुद शराब के ठेकेदार भी नहीं चाहते है कि प्रदेश में शराब की दुकाने अभी खुले लेकिन शिवराज सरकार चाहती है कि इस महामारी में भले धार्मिक स्थल ना खुले।स्कूल-कॉलेज ना खुले,लोगों को दूध,दवाई,आवश्यक वस्तु ना मिले लेकिन शराब ज़रूर मिले,शराब की दुकाने ज़रूर खुले?



साथ ही पूर्व सीएम कमलनाथ नें कहा की, ये लोग जब विपक्ष में थे तो विरोध करते थे, अब शराब के सबसे बड़े पैरोकार बन गये है। कमलनाथ ने ये भी कहा ‘यह वही लोग है जो विपक्ष में बैठकर प्रदेश में शराब को लेकर रोज़ विरोध करते थे , इसे बहन-बेटियों के लिये ख़तरा बताते थे , प्रदेश को मदिरा प्रदेश बनाने के आरोप लगाते थे। आज सत्ता में आकर यही शराब के सबसे बड़े पैरोकार बन गये है। प्रदेश भले कोरोना की चपेट में आता जाये कोई फ़र्क़ नहीं लेकिन शराब की बिक्री अनवरत चालू रहे ‘।


No comments:

Post a comment

Latest Post

MP उपचुनाव: कमलनाथ का स्टार प्रचारक का दर्जा छिना, जानिए आगे क्या होगा।

भोपाल: मध्यप्रदेश में 28 सीटों पर होनें वाले उपचुनावों को लेकर  चुनाव आयोग नें मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर बड़ी कार्यवाही की ह...