Sunday, 5 April 2020

खरगोन में पुलिस की पिटाई से युवक की मौत, कमलनाथ नें घटना को बाताया दुःखद तो अरुण यादव ने कहा - "सरकार हमें जमीन पर उतरने के लिए ना करे मजबूर"।


भोपाल: देश के साथ साथ मध्यप्रदेश में भी कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। जिसकी रोकथाम के लिये पूरे देश में 21 दिन यानी 14 अप्रैल तक लॉकडाउन घोषित है। इसी बीच मध्यप्रदेश के खरगोन में पुलिस द्वारा एक शर्मसार करनें वाली घटना सामने आई है, जहां पुलिस की पिटाई से एक व्यक्ति की मौत हो गयी है।



मध्यप्रदेश में लॉक डाउन के दौरान घरों से बाहर सड़कों पर निकलने वाले लोगों से पुलिस सख्ती से पेश आ रही है। अनेकों जगह पुलिस की पिटाई के मामले सामने आये हैं। खरगोन जिले में पुलिस की पिटाई से युवक की मौत के आरोप परिजनों ने लगाए हैं। जिसको लेकर विपक्ष अब आक्रामक हो गया है।


घटना को लेकर कांग्रेस ने शिवराज सरकार को घेरा है ।पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव ने ट्वीट कर सरकार को निशाने पर लिया है।

पूर्व सीएम कमलनाथ नें घटना को बताया बेहद दुःखद।
पूर्व सीएम कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा- “खरगोन ज़िले की महेश्वर तहसील के आदिवासी भाई टीबु मेड़ा की आज सुबह राशन खरीदने निकलने पर पुलिस की पिटाई से मौत का आरोप उनके परिजनो ने लगाया है। यह बेहद दुःखद घटना है। शिवराज सरकार आते ही प्रदेश में आदिवासियों भाइयों पर दमन की घटनाएँ प्रारंभ हो गयी है।ऐसी घटनाएँ क़तई बर्दाश्त नहीं की जायेगी। शिवराज सरकार तत्काल इस पूरे मामले की उच्चस्तरीय निष्पक्ष जाँच करवाये और दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही करे”।

हमे जमीन पर उतरने के लिए मजबूर न करे शिवराज सरकार: अरुण यादव, पूर्व पीसीसी चीफ़।
अरुण यादव ने ट्वीट कर लिखा “महेश्वर तहसील के आदिवासी टीबु मेड़ा की राशन खरीदने निकलने पर पुलिस द्वारा की गई पिटाई से मौत का मामला सामने आया है, यह घटना बहुत दुःखद एवं पीड़ादायक है, सरकार इस मामले मे कड़ी कार्यवाही करे और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाए, हमे जमीन पर उतरने के लिए मजबूर न करे शिवराज सरकार”।

No comments:

Post a comment

Latest Post

सीधी: कोरोना का कहर जारी, मिले 24 नए कोरोना संक्रमित केस।

10 व्यक्तियों ने जीती कोरोना से जंग। कुल संक्रमित 717 डिस्चार्ज 531 एक्टिव केस 183 मृत्यु 3 सीधी : जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ० नागेंद्र बिहारी ...