Monday, 20 April 2020

सीधी: लाक डाउन संबंधी नवीन आदेश जारी, ऐसे होगा पालन ! जानें किसमें रहेगी छूट और किसमें नही?


सीधी: देशभर में कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के रोकथाम के लिये 3 मई तक चल रहे लॉक डाउन के बीच सीधी जिला प्रशासन ने भी लॉक डाउन संबंधी नवीन आदेश जारी कर दिया है। साथ ही आदेश की शर्तों का उल्लंघन करने की स्थिति में संबंधित के विरूद्ध आई.पी.सी. की धारा-188 एवं राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के तहत कार्यवाही की जायेगी, यह आदेश कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी सीधी की तरफ से दिया गया है।

सम्पूर्ण विश्व में नोवल कोरोना (कोविड-19) वायरस के तीव्र प्रसार को देखते हुये विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा नोवल कोरोना (कोविड-19) को महामारी घोषित किया गया है। भारत में भी उक्त वायरस से प्रभावित व्यक्तियों की संख्या में हो रही वृद्वि को देखते हुये भारत सरकार, गृह मंत्रालय नई दिल्ली द्वारा आदेश जारी कर लाॅकडाउन की अवधि दिनांक 03.05.2020 तक वृद्धि किया जाकर नोवल कोरोना (कोविड-19) वायरस से बचाव एवं रोकथाम हेतु आवश्यक निर्देश जारी किये गये है।



सीधी कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी रवीन्द्र कुमार चौधरी द्वारा उक्त परिस्थितियों के निवारणार्थ एवं उपचारार्थ धारा-144 दण्ड प्रक्रिया संहिता के प्रावधानान्तर्गत प्रदत्त अधिकारिता का प्रयोग करते हुये निषेधात्मक, लाॅकडाउन आदेश प्रसारित किया गया है।

आदेश की शर्तों का उल्लंघन करने की स्थिति में संबंधित के विरूद्ध आई.पी.सी. की धारा-188 एवं राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के तहत कार्यवाही की जायेगी। यह आदेश तत्काल प्रभाव से 03 मई 2020 तक प्रभावशील रहेगा।

जारी आदेशानुसार लाॅकडाउन अवधि के विस्तार के साथ दिनांक 03.05.2020 तक जिले में निम्नलिखित गतिविधियां प्रतिबंधित की गयी है।
  • सुरक्षा सेवाओं को छोड़कर समस्त सार्वजनिक यातायात सेवाएं।
  • सार्वजनिक परिवहन के लिये बसें।
  • चिकित्सकीय कारणों या दिशा निर्देश के तहत दी गई अनुमति गतिविधियों को छोड़कर व्यक्तियों का अंतर्जिला और अंतर्राज्य आवागमन।
  • जिले की समस्त स्कूल, काॅलेज, कोचिंग सेंटर, ट्यूशन क्लास।
  • दिशा निर्देश अनुसार दी गई अनुमति को छोड़कर समस्त औद्योगिक एवं व्यवसायिक गतिविधियां पूर्णतः बंद रहेंगी।
  • दिशा निर्देशों के तहत विशेष रूप से अनुमति आतिथ्य सेवाओं के अलावा अन्य आतिथ्य सेवाएं।
  • टैक्सी (आटो रिक्सा व सायकल रिक्सा सहित) और टैक्सी एग्रीगेटर्स की सेवाएं।
  • सभी सिनेमाहाॅल, माॅल, शापिंग काॅम्पलेक्स, व्यायाम शाला, स्पोर्ट्स काम्पलेक्स, स्वीमिंग पूल, मनोरंजन पार्क, थियेटर, बार और आॅडिटोरियम, असेम्बली हाॅल और इसी तरह के स्थान।
  • सभी प्रकार के सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनीतिक, खेल, मनोरंजन, अकादमिक, धार्मिक समारोह एवं अन्य एकत्रीकरण।
  • सभी धार्मिक स्थलों, पूजा स्थलों, धार्मिक मण्डली, एकत्रीकरण पूर्ण रूप से प्रतिबंधित।
  • अंतिम संस्कार के विषय में 20 से अधिक व्यक्तियों की मण्डली को अनुमति नही दी जायेगी।


आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति की अनुमति निम्नानुसार होगी।
  • आवश्यक सामानों की आपूर्ति श्रृंखला में ई-कामर्स कम्पनियों के माध्यम से ऐसे सामानों के विनिर्माण ,थोक या रिटेल में शामिल हो।
  • पीडीएस के तहत शासकीय उचित मूल्य की दुकानें लाॅकडाउन के पूर्व जो समय निर्धारित था, के अनुसार खुली रहेंगी।
  • पशु आहार ,चारा एवं दूध डेरी सुबह 10 बजे से 5 बजे तक खुले रहेंगें।
  • फुटकर दूध विक्रेता प्रातः 6 बजे से 10 बजे तक घर-घर जाकर दूध वितरित कर सकेंगे।
  • उक्त दुकानों पर घरों से बाहर व्यक्तियों की आवाजाही को कम करने के लिए होम डिलिवरी  की सेवाएं उपलब्ध करावें।
  • सभी थोक किराना अथवा थोक फल सब्जी विक्रेता अपने प्रतिष्ठान से सुबह 10 बजे से सायं 5 बजे तक पार्सल के माध्यम से सामग्री पहुंचा सकेंगें, किसी भी स्थिति में आमजन अथवा रिटेलर को व्यक्तिगत रूप से प्रतिष्ठान पर कोई सामग्री नही विक्रय कर पायेंगे। ऐसे किराना एवं सब्जी थोक विक्रेता किसी रिटेलर को विक्रय करने हेतु सुबह 11 बजे से दोपहर 4 बजे तक प्रतिष्ठान का शटर बंद कर भीतर सामान पैकिंग एवं लोडिंग वाहनो व्दारा भेज पायेंगें।
  • किराना/राशन/फल विक्रताओं को चलित वाहन/हाथ ठेला/सायकल/फेरी के माध्यम से प्रत्येक वार्डो/मोहलों में घर-घर (डोर टू डोर) जाकर प्रातः 8 बजे से सायं 3 बजे तक विक्रय की अनुमति रहेगी।
  • सब्जी एवं फल के थोक विक्रय हेतु स्थान संजय गांधी स्मृति स्वशासी महाविद्यालय सीधी के प्रांगण में प्रातः 6 बजे से 10 बजे तक नियत किया गया है। थोक विक्रेता अपने फुटकर विक्रेता के चाहे गए स्थान पर पार्सल व्दारा विक्रय सामग्री उपलब्ध करा सकता है। 
  • सब्जी मण्डी, सम्राट चैराहा,स्टेडियम, गोपलदास तिराहा, जमोड़ी तिराहा आदि किसी स्थल से सब्जी दुकानों का संचालन पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा। 
  • वर्तमान सब्जी मण्डी पालिका बाजार में किसी भी स्थिति में रिटेल अथवा आमजनों को सब्जी आदि का विक्रय प्रतिबंधित किया गया है।
  • थोक विक्रेता अपने स्टोर से रिटेलर को पार्सल   व्दारा सुबह 11 बजे से सायं 4 बजे तक उनके घर पर डिलेवरी कर सकते है।
  • प्रत्येक स्थिति में सोशल डिस्टेन्सिंग अनिवार्य होगा, इसके साथ ही मास्क एवं सेनेटाइजर का उपयोग करेंगे।


20 अप्रैल 2020 से चयनित गतिविधियों के संचालन की अनुमति रहेगी।

सभी स्वास्थ्य सेवाएं (आयुष सहित) कार्यात्मक बने रहने के लिए-
  • अस्पताल, नर्सिंग होग, क्लीनिक, टेलीमेडिसिन सुविधाएं।
  • डिस्पेंसरी,केमिस्ट, फार्मेंसी, जनऔषधि केन्द्र और मेडिकल उपकरण की दुकान सहित सभी प्रकार की दवाॅ की दुकानें।
  • चिकित्सा प्रयोगशाला एवं संग्रह केन्द्र।
  • फार्मास्युटिकल्स और मेडिकल रिसर्च लैब।
  • पशु चिकित्सा अस्पताल, औषधालय, क्लीनिक, पैथालाॅजी लैब, बैक्सीन और दवा की बिक्री और आपूर्ति।
  •  प्राधिकृत निजी प्रतिष्ठान जो आवश्यक सेवओं के प्रदाय में सहायक है या कोविड-19 की  रोकथाम की दिशा में प्रयास करते है। जिसमें होम केयर प्रोवाइडर, डायगनोस्टिक्स, अस्पतालों की आपूर्ति करने वाली सप्लाई चेन फर्म शामिल है।
  • दवाओं, फार्मास्यूटिकल्स, चिकित्सा उपकरणों, चिकित्सा आक्सीजन, इनकी पैकेजिंग सामग्री, कच्चे माल की विनिर्माण इकाइयों और मध्यवर्ती।
  •  सभी चिकित्सा और पशु चिकित्सा कर्मियों, वैज्ञानिकों, नर्सों, पैरामेडिकल स्टाफ, लैब टेक्नीशियन, मिडवाइस (दाई) और अन्य अस्पताल सहायक सेवाओं एम्बुलेंस सहित का जिले के अंदर एवं जिले के बाहर का आवागमन की अनुमति रहेगी

मनरेगा कार्यों की अनुमति।
  • मनरेगा कार्यों को सोशल डिस्टेंसिंग के अनुपालन और चेहरे पर मास्क के सख्त कार्यान्वयन के साथ अनुमति दी गयी है।
  • सिचाई एवं जल संरक्षण कार्यों को मनरेगा के तहत प्राथमिकता दी जावे।
  • सिंचाई और जल संरक्षण क्षेत्रों में अन्य केन्द्रीय और राज्य क्षेत्र की योजनाओं को भी मनरेगा कार्यों के साथ लागू करने की अनुमति दी गयी है।

वित्तीय क्षेत्र के कार्यात्मक बने रहने के लिये निम्नलिखित गतिविधियों का संचालन किया जायेगा।
  • भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा विनियमित वित्तीय बाजार और संस्थाएं जैसे एनपीएसआई, सीसीआईएल, भुगतान प्रणाली आपरेटर और स्टैंडअलोन प्राथमिक डीलर।
  •  बैंक शाखाएं और एटीएम, बैंकिंग संचालन के लिए आईटी वेंडर्स, बैंकिंग कारेसपाॅडेंट (बीसी), एटीएम संचालन और नकदी प्रबंधन एजेंसियाँ।
  • भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (एस.ई.बी.आई) द्वारा अधिसूचित पूंजी और ऋण बाजार सेवाएं।
  • आई.आर.डी.ए.आई और बीमा कंपनियां।

सामाजिक क्षेत्र के कार्यात्मक बने रहने के लिये निम्नलिखित गतिविधियों का संचालन किया जा सकेगा।
  • बच्चों/विकलांग/मानसिक रूप से विकलांग/वरिष्ठ नागरिकों/निराश्रितों/महिलाओं /विधवाओं के लिये संरक्षण घरों का संचालन।
  • आब्जर्वेशन होम, आफ्टर केयर होम एवं किशोर गृह का संचालन।
  • सामाजिक सुरक्षा पेंशन, वृद्धावस्था, विधवा, स्वतंत्रता सेनानी पेंशन, कर्मचारी पेंशन और भविष्य निधि सेवाओं का प्रदाय।
  • आंगनवाड़ी का संचालन- लाभार्थियों अर्थात बच्चों, महिलाओं और स्तनपान कराने वाली  माताओं के घर पर 15 दिनों में एक बार खाद्य पदार्थ व पोषण पदार्थ का वितरण। (हितग्राही आंगनवाड़ी केन्द्र नही आयेंगे)

आनलाइन शिक्षण एवं दूरस्थ शिक्षा को प्रोत्साहित करना।
  • सभी शैक्षणिक, प्रशिक्षण, कोचिंग संस्थान आदि बंद रहेंगे।
  • शैक्षणिक संस्थानों से आपेक्षित है कि वे आनलाइन शिक्षण के माध्यम से शैक्षणिक गतिविधियों चालू रखें।
  • शिक्षण उद्वेश्यों के लिये दूरदर्शन (डीडी) और अन्य शैक्षिक चैनलों का अधिकतम उपयोग करें।

सार्वजनिक उपयोगिताए कार्यात्मक बने रहने के लिए निम्नलिखित गतिविधियों का संचालन की अनुमति रहेगी।
  • तेल और गैस क्षेत्र का संचालन जिसमें परिवहन, वितरण, भण्डारण और उत्पादों का रिटेल विक्रय जैसे पेट्रोल,डीजल, कैरोसीन,सी.एन.जी., एल.पी.जी., पी.एन.जी. आदि।
  • बिजली का उत्पादन, पारेषण और वितरण।
  • डाकघरों सहित डाक सेवाएं।
  •  नगरपालिका/नगरपंचायत/स्थानीय निकाय स्तरों पर जल, स्वच्छता और अपशिष्ट प्रबंधन क्षेत्रों की सेवाओं का संचालन।
  • दूरसंचार एवं इंटरनेट सेवाएं प्रदान करने वाली संस्थाओं का संचालन।

माल आवागमन ( जिला एवं जिले से बाहर) लोडिंग/अनलोडिंग गतिविधियां निम्नानुसार संचालित हो सकेंगी।
  • सभी आवश्यक वस्तुओं के परिवहन की अनुमति होगी।
  •  सभी ट्रकों एवं अन्य माल वाहक वाहनों का आवागमन जिसमें अधिकतम दो ड्रायवर, एक सहायक जा सकेंगें। उक्त के पास वैध ड्रायविंग लायसेंस होना चाहिए। खाली ट्रक/वाहन को माल की डिलवरी के बाद एवं माल लेने के लिए परिवहन करने की अनुमति होगी।
  •  ट्रक रिपेयर संबंधी दुकानें राजमार्ग पर स्थित ढावे सोशल डिस्टेन्सिंग व स्वच्छता की शर्त पर दिशा निर्देशों के अंतर्गत अनुमति प्राप्त करके संचालित किए जा सकेंगे।

निम्नानुसार व्यावसायिक एवं निजी प्रतिष्ठान कार्य कर सकेंगे।
  • प्रसारण, डी.टी.एच और केबल सेवाओं सहित प्रिन्ट और इलेक्ट्रॅानिक मीडिया।
  • 50 प्रतिशत तक की शक्ति के साथ आईटी और आईटी सक्षम सेवाएं।
  •  सरकारी गतिविधियों के लिए डेटा और काॅल सेंटर।
  • शासन व्दारा अनुमति प्राप्त ग्राम पंचायत स्तर पर संचालित काॅमन सर्विस सेंटर ।
  • ई-काॅमर्स कंपनियां। ई-कॅामर्स आपरेटरों द्वारा उपयोग किए जाने वाले वाहनों को आवश्यक  अनुमति के साथ परिवहन करनें की अनुमति होगी।
  • कोरियर सेवाएं।
  •  कोल्ड स्टोरेट और वेयरहाउसिंग सेवाएं। व्यक्तिगत इकाइयों एवं अन्य लाजिस्टिक लिंक  सहित।
  • कार्यालय और आवासीय परिसरों के रखरखाव के लिए प्रबंधन एवं निजी सुरक्षा सेवाएं।
  • होटल, होमस्टे, लाॅज और मोटल, जो लाॅकडाउन, चिकित्सा और आपातकालीन कर्मचारियों, फंसे पर्यटकों और व्यक्तियों को सेवा दे रहें है।
  •  स्वरोजगारी व्यक्तियों व्दारा प्रदान की जाने वाली सेवाएं जैसे- इलेक्ट्रीशियन, आईटी मरम्मत, प्लम्बर, मोटर मैकेनिक और बढ़ई।

शर्तो के तहत उद्योग/औद्योगिक प्रतिष्ठान ( सरकारी एवं निजी दोनों) का संचालन।
  • ग्रामीण क्षेत्र में परिचालन करने वाले उद्योग यानी नगर निगमों और नगर पालिकाओं की  सीमा के बाहर।
  • औद्योगिक प्रतिष्ठान कार्यान्वयन के लिए यथासंभव अपने परिसर के भीतर या आसपास की इमारतों में श्रमिकों की ठहरनें की व्यवस्था करेंगें। श्रमिकों का कार्यस्थल पर परिवहन सामाजिक दूरी को सुनिश्चित करते हुए डेडिकेटेड वाहन में नियोक्ताओं व्दारा किया जाएगा जिसमें शर्ते निम्न हैः-

  1. संबंधित प्रतिष्ठान के सम्पूर्ण परिसर को उपयुक्त कीटाणुनाशक माध्यमों  का उपयोग करते हुए पूरी तरह से कीटाणु रहित की जाए , जिसमें निम्न क्षेत्र शामिल हैं: भवन, कार्यालय आदि का प्रवेश द्वार, कैफेटेरिया और कैंटीन, मीटिंग रूम, कान्फ्रेन्स हाॅल/ उपलब्ध खुला क्षेत्र/ बरामदे, प्रवेश द्वार स्थल, बंकर,पोर्टा केबिन, भवन आदि, उपकरण और लिफ्ट, वाशरूम, टाॅयलेट, सिंक, पानी के बिन्दु आदि, दीवरों अन्य सभी सतह।
  2.  बाहर से आने वालें श्रमिकों को लिए, सार्वजनिक परिवहन प्रणाली पर बिना किसी निर्भरता के विशेष परिवहन सुविधा की व्यवस्था की जाए। ये वाहन सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करते हुए केवल 30-40 प्रतिशत कर्मचारी/श्रमिक क्षमता के साथ कार्य करें।
  3. परिसर में प्रवेश करने वाले सभी वाहनों और मशीनरी को स्प्रे द्वारा अनिवार्य रूप से कीटाणु रहित किया जाना चाहिए।
  4. कार्यस्थल पर प्रवेश करने पर और बाहर निकलने वाले हर व्यक्ति की अनिवार्य रूप से थर्मल स्कैनिंग की जाय।
  5. श्रमिकों के लिये चिकित्सा बीमा अनिवार्य किया जाए।
  6. टच फ्री मैकेनिज्म के साथ सभी प्रवेश और निकास बिन्दुओं और सामान्य क्षेत्रों मे हाथ धोने और सेनेटाइजर की व्यवस्था की जाए। उक्त सभी वस्तुएं पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध होना अनविार्य है।
  7. शिफ्ट परिवर्तन के बीच एक घण्टे का अंतर होना चाहिए और सोशल डिस्टेन्सिंग को सुनिश्चित करनें के लिये कर्मचारियों के दोपहर के भेजन के ब्रेक को भी उपयुक्त संख्या में पृथक किया जाना चाहिए।
  8.  10 या अधिक लोगों की बड़ी सभाओं को जहां तक संभव हो नही किया जाना चाहिए। कार्य स्थल, सभाओं, बैठकों और प्रशिक्षण सत्रों में कम से कम 06 फिट की दूरी पर रहने /बैठने की व्यवस्था होनी चाहिए।
  9.  2 या 4  से अधिक व्यक्तियों (लिफ्ट के आकार के आधार पर) को लिफ्ट या होईस्ट में यात्रा करने की अनुमति नही होगी।
  10. चढ़ाई के लिए सीढ़ी के उपयोग को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।
  11. गुटका, तम्बाखू आदि के सेवन व थूकने पर सख्त वर्जित होगा।
  12. साइटों पर गैर-आवश्यक आगन्तुओं पर पूर्णतः प्रतिबंद्ध होगा।
  13. आसपास के क्षेत्रों के अस्पताल/क्लीनिक जो कोविड-19 रोगियों के ईलाज के लिये अधिकृत है की पहचान किया जाकर एवं उनकी सूची कार्यस्थल पर हर समय उपलब्ध होना चाहिए।

  • ग्रामीण क्षेत्रों में खाद्य प्रसंस्करण उद्योग(नगर पालिका/नगर पंचायतों के सीमा के बाहर)
  • उत्पादन इकाइयाॅं जिन्हे निरंतर संचालन की आवश्यकता होती है और उनकी आपूर्ति श्रृंखला।
  • कोयला, खानों और खनिज उत्पादन एवं उनके परिवहन, विस्फोटकों की आपूर्ति एवं खनन कार्यो के लिए आकस्मिक गतिविधियां।
  •  पैकेजिंग सामग्री की विनिर्माण इकाइयाॅं।
  • शिफ्ट अंतराल और सामाजिक दूरी के साथ जूट उद्योग।
  • नगर पालिका/ नगर पंचायतों की सीमा के बाहर ग्रामीण क्षेत्रों में ईंट भट्टे।

निम्नानुसार निर्माण गतिविधियों का संचालन किया जा सकेगा।
  •  ग्रामीण क्षेत्रों में यानि नगर पालिका और नगर पंचायतों की सीमा के बाहर, सड़क, सिंचाई   परियोनाओं ,भवनों और सभी प्रकार की औद्योगिक परियोनाओं का निर्माण जिसमें एमएसएमई भी शामिल है।
  • अक्षय उर्जा परियोजनाओं का निर्माण।
  •  नगर पालिका और नगर पंचायतों की सीमाओं के भीतर ऐसी निर्माण परियोजनाओं मे काम जारी रखा जा सकता है, जहां श्रमिक साइट पर उपलब्ध है और किसी भी श्रमिक को बाहर से लाने की आवश्यकता नहीं है।


निम्नलिखित मामलों में व्यक्तियों के आवागमन की अनुमति रहेगी।

  • चिकित्सा और पशु चिकित्सा देखभाल सहित आपातकालीन सेवाओं के लिए निजी वाहन और आवश्यक वस्तुओं की खरीद के लिए। ऐसे मामलों में चार पहिया वाहन के मामलें मे निजी वाहन चालक के अलावा एक यात्री को पीछे के सीट में बैठने एवं दो पहिया वाहन के मामलें में केवल वाहन के चालक।
  • सक्षम प्राधिकारी की अनुमति प्राप्त संस्थानों के कार्मिको के कार्य स्थल पर जाने और वापस लौटने हेतु।

हाॅटस्पाॅट्स और कंटेनमेंट जोन में दिशानिर्देशों का संचालन।
  • हाॅटस्पाॅट यानी कोविड-19 से संक्रमित पाये जाने वाले क्षेत्र स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा जारी दिशा निर्देशों अनुसार निर्धारित किया जायेगा।
  • ऐसे क्षे़त्र का स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के दिशा निर्देश अनुसार सीमांकन किया जायेगा।
  • कंटेनमेंट जोन में दिशा निर्देशों के कण्डिका-3 के तहत अनुमत गतिविधियों की अनुमति नही होगी। 
  • आवश्यक सुविधाओं (चिकित्सा, आपात स्थित, कानून व्यवस्था से संबंधित कर्तव्यों  सहित) और शासकीय कार्य की निरंतरता को छोड़कर इन क्षेत्रों में आवागमन प्रतिबंधित  होगा

भारत सरकार व तदन्तर्गत स्वायत्त/ अधीनस्थ निम्नलिखित कार्यालय को अनुमति रहेगी
  • रक्षा, केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बल, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, आपदा प्रबंधन और प्रारंभिक चेतावनी एजेंसियां, नेशनल इंफार्मेटिक्स सेंटर (एन.आई.सी.), भारतीय खाद्य निगम (एफ.सी.  आई.), एन.सी.सी., नेहरू युवा केन्द्र और सीमा शुल्क बिना किसी प्रतिबंध के कार्य करने के लिए अनुमति रहेगी।

राज्य शासन व तदन्तर्गत स्वायत्त/ अधीनस्थ निम्नलिखित कार्यालय को अनुमति रहेगी।
  • पुलिस, होमगार्ड, नागरिक सुरक्षा, आग और आपातकालीन सेवाएं, आपदा प्रबंधन, जेल और  नगरपालिका सेवाएं बिना किसी प्रतिबंध के कार्य करेंगी।
  • सीमित कर्मचारियों के साथ काम करने के लिए राज्य/केन्द्रशासित प्रदेश के अन्य सभी  विभाग समूह ए और बी अधिकारी आवश्यकतानुसार उपस्थित हो सकते हैं। समूह सी और  नीचे दिये गये स्तर आवश्यकता के अनुसार सामाजिक दूरी सुनिश्चित करनें के साथ 33 प्रतिशत तक की क्षमता में भाग ले सकते हैं।
  •  जिला प्रशासन और ट्रेजरी सीमित कर्मचारियों के साथ काम करेंगे।
  • वन कार्यालयः चिड़ियाघर, नर्सरी वन्यजीव जंगलो मे अग्निशमन, वृक्षारोपण, गस्त और उनके आवश्यक परिवहन को संचालित करने और बनायें रखने के लिए आवश्यक कर्मचारी/  कार्यकर्ता।

 प्रत्येक स्थिति में सोशल डिस्टेसिंग बनायें रखना, मास्क लगना तथा सेनेटाइजर अथवा साबुन से हाथ की सफाई करना अनिवार्य होगा।

No comments:

Post a comment

Latest Post

अजय सिंह का कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संदेश, कहा- उपचुनाव में कांग्रेस को जिताने पूरी ताकत से जुट जायें।

भाजपा को सबक सिखाने का समय आ गया है: अजय सिंह। कांग्रेस की जीत से पूरे देश में सरकार गिराने- बनाने में सौदेबाजी के खिलाफ संदेश जायेगा: अजय स...