Friday, 27 March 2020

शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार : सीधी विधायक केदारनाथ शुक्ला को मिलेगी जगह ! या मिलेगी विधानसभा अध्यक्ष की कुर्सी ?


भोपाल / सीधी : मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के पद ग्रहण के बाद अब उनके मंत्रिमंडल के साथ साथ विधानसभा अध्यक्ष के नाम पर फाइनल सहमति बनानें का प्रयास जारी है। ऐसे में अब यह माना जा रहा की भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं सीधी विधानसभा से विधायक पंडित केदारनाथ शुक्ला का इस बार मंत्रिमंडल में जगह मिलना तय है। साथ ही उनका नाम विधानसभा अध्यक्ष के लिये भी तेजी से उभरा है।

शिवराज सिंह चौहान द्वारा चौथी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के साथ ही मंत्रिमंडल विस्तार की कवायद शुरू हो गई है। मंत्रिमंडल में काफी सोच समझकर मौका दिया जाएगा। प्राप्त जानकारी के अनुसार, समीकरणों को साधने के लिए इस बार मंत्रिमंडल में दो उप मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है। वहीं करीब दो दर्जन से अधिक विधायकों को मंत्री बनाया जाएगा इसके लिए आलाकमान के साथ चर्चा का दौर चल रहा है।

वर्तमान राजनीतिक समीकरणों को देखते हुए उत्तरप्रदेश की तर्ज पर इस बार डा.नरोत्तम मिश्रा व तुलसी सिलावट को उप मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है। कांग्रेस सरकार गिराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले सिंधिया समर्थक पूर्व मंत्रियों को भी मंत्रिमंडल में मौका मिलना तय है।



शिवराज मंत्रिमंडल में इनको मिल सकती है जगह...
गोपाल भार्गव, भूपेन्द्र सिंह, रामपाल सिंह, यशोधरा राजे सिंधिया, विजय शाह, अजय विश्नोई, राजेन्द्र शुक्ला, केदारनाथ शुक्ला, गौरीशंकर बिसेन, संजय पाठक, पारस जैन, जगदीश देवडा, विश्वास सारंग, हरिशंकर खटीक, मीना सिंह, प्रदीप लारिया, अरविंद भदौरिया, ओम प्रकाश सकलेचा, बृजेन्द्र प्रताप सिंह, रमेश मेंदोला, जालम सिंह पटेल, मालिनी गौड़, गोपीलाल जाटव, नीना वर्मा, यशपाल सिंह सिसोदिया, रामोलावन पटेल, मोहन यादव, पंचूलाल, दिव्यराज सिंह आदि को मौका मिल सकता है। यदि पार्टी में उम्र की कोई सीमा नही रखी गई तो नागेन्द्र सिंह नागौद या नागेन्द्र सिंह गुढ़ को भी मौका मिल सकता है।



सीधी विधायक केदारनाथ शुक्ला बनेंगें विधानसभा अध्यक्ष? या मिलेगी मंत्रिमंडल में जगह।
इस समय सीधी सहित समूचे विंध्य में यह चर्चा है, की सीधी विधयाक एवं वरिष्ठ नेता केदारनाथ शुक्ला इस बार सरकार का हिस्सा बनेंगें और मंत्रिमंडल में शामिल होंगें। साथ ही यह भी चर्चा जोरों पर है की, उनका नाम विधानसभा अध्यक्ष के लिये भी तेजी से उभरा है। हला की वरिष्ठ भाजपा नेता डा. सीताशरण शर्मा का नाम भी विधानसभा अध्यक्ष की लिस्ट में हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के विश्वसनीय डा. शर्मा ने वर्ष 2013 से 2018 तक विधानसभा का बहुत ही संजीदा तरीके से संचालन किया था।
कुछ तथ्य ऐसे भी, जो जा सकतें हैं सीधी विधायक केदारनाथ शुक्ला के खिलाफ।

सीधी विधायक केदारनाथ शुक्ला अपनें बेबाक राय और बोल के लिये जानें जाते हैं और वो अपनी पार्टी के खिलाफ भी बोलतें रहें है, ऐसे में कुछ ऐसे तथ्य हैं जो उनके खिलाफ भी जा सकतें है।

सीधी विधायक केदारनाथ शुक्ला के सीधी सांसद रीति पाठक से मतभेद।
सीधी से भोपाल तक सीधी विधायक एवं सांसद की आपसी तकरार के बारें में सब को पता है। दरअसल सीधी विधायक केदारनाथ शुक्ला और सांसद रीति पाठक के रिश्ते बिल्कुल समान्य नही है, और दोनों एक दूसरे के बारे मे मीडिया में भी बयानवाजी करनें से पीछे नही हटते। हालत तो यहां तक पहुंच गये थे की सीधी विधायक द्वारा सीधी सांसद पर व्यक्तिगत छींटाकशी की गयी थी, जिसके जवाब में सांसद रीति पाठक ने, सीधी विधायक के मानसिक स्थिति पर ही सवालिया निशान लगा दिया था, और शिवराज सिंह को बीच बचाव करना पड़ा था।

सीधी विधायक केदारनाथ शुक्ला द्वारा पूर्व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष राकेश सिंह के खिलाफ की गई टिप्पणी।
झाबुआ उपचुनाव हारने के बाद  भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं सीधी से विधायक केदारनाथ शुक्ला ने अपनी ही पार्टी के तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह की काबिलियत पर सवालिया निशान लगाते हुए यह तक कह डाला था कि उन्हीं के असक्षम नेतृत्व के चलते पार्टी चुनाव हारी है ।शुक्ल ने यहां तक कह दिया कि  राकेश सिंह के नेतृत्व में पार्टी चौपट हो रही है और उन्हें जल्द पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाया जाना चाहिए। केदारनाथ शुक्ला का इतना बोलते ही पार्टी में हड़कंप मच गया और आनन-फानन में पार्टी नें केदारनाथ शुक्ल की इस बयान बाजी को अनुशासनहीनता मानते हुए उन्हें कारण बताओ नोटिस थमा दिया था।

अब यह देखना बेहद दिलचस्प होगा की, पार्टी की आपसी गुटबाजी केदारनाथ शुक्ला के खिलाफ जाती है या फिर उन्हें मंत्रिमंडल में जगह मिलती है, या फिर विधानसभा अध्यक्ष की कुर्सी इस बार उनके नाम पर की जाती है जिसके कयास काफी वक़्त से लगाये जा रहेंं हैं।

No comments:

Post a comment

Latest Post

जन्मदिन विशेष: अजय सिंह, नेता प्रतिपक्ष रहते हुये तत्कालीन भाजपा सरकार को सदन से लेकर सड़क तक घेरा।

भोपाल/सीधी: मध्‍यप्रदेश कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता और राज्‍य विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह " राहुल" का आज जन्मदिन है।  अ...