Sunday, 16 February 2020

सीधी: रेत के खेल में मंत्री और कलेक्टर का नाम आनें के बाद, सीधी एसपी द्वारा रेत माफियायों पर की गई कार्यवाही दिखाबा मात्र तो नही?


सीधी: मध्यप्रदेश की पिछली भाजपा सरकार के समय, कांग्रेस अवैध रेत उत्खनन को लेकर काफी हमलावर रहती थी। लेकिन अब कांग्रेस की सरकार बनें एक बर्ष से जादा का समय हो गया है और अवैध रेत उत्खनन धड़ल्ले से चालू है। गौर करनें वाली बात ये है की विपक्ष तो कांग्रेस सरकार को निशाना बना ही रहा है, लेकिन अब कांग्रेस पार्टी के नेता एवं कार्यकर्ता भी जिला प्रशासन को रेत के खेल में शामिल होनें की बात कर रहे।



कांग्रेस जिला महामंत्री नें मंत्री एवं कलेक्टर पर रेत खदानों से पांच-पांच लाख वसूली का लगाया आरोप।
पिछले दिनों कांग्रेस जिला महामंत्री भानू पांडेय का एक विडियो वायरल हुआ था , जिसमें वह सोन घड़ियाल विभाग के डिप्टी रेंजर सहित अन्य कर्मचारी के साथ उपखंड अधिकारी  कार्यालय चुरहट में बैठे दिख रहें हैं। इसमें भानू पांडेय द्वारा आरोप लगाते हुये कहा जा रहा है की, रेत खदानों से मंत्री एवं कलेक्टर पांच पांच लाख रुपये ले रहे है। हला की इस वीडियो में वो किस मंत्री की बात कर रहे हैं इसका कोई जिक्र नही है। इस वीडियो के वायरल होनें से सीधी से लेकर भोपाल तक राजनीतिक पारा हाई हो गया है।



भाजपा के कड़े विरोध पर कलेक्टर नें एसडीएम को हटाया।
मामले को तूल पकड़ते देख सीधी कलेक्टर नें एसडीएम को चुरहट से हटा दिया, अब ऐसे में यह बड़ा सवाल खड़ा हो रहा की, आखिर जिला महामंत्री अपनी ही सरकार के मंत्री को क्यूं घेर रहे, आखिर सीधी जिला प्रशासन नीद से कब जागेगा।

सीधी की आग भोपाल तक पहुंची थी, नेता प्रतिपक्ष गोपल भार्गव नें मुख्यमंत्री कमलनाथ से पांच पांच लाख रुपये लेनें वाले कलेक्टर और मंत्रियों की सूची जारी करनें को कहा।
नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव नें सीधी की घटना पर ट्वीट करते हुये कहा था "कांग्रेस सरकार में कांग्रेस नेताओं ने सरकारी कार्यालयों को दलाली का अड्डा बना लिया है। कांग्रेस पदाधिकारी सीधी के चुरहट एसडीएम कार्यालय में बैठकर खुद ठहाके लगाते हुए अधिकारियों को बता रहे है कि अवैध खनन के लिए 5 लाख कलेक्टर और 5 लाख मंत्री ले रहे है। तब जाकर खनन हो रहा है। रेत के खेल में माफ़िया और प्रशासन की गठजोड़ सिर्फ सीधी जिले नही पूरे प्रदेश में है। मुख्यमंत्री कमलनाथ बताएं कि ऐसे कितने जिलों के एसडीएम कार्यालय दलाली का अड्डे बने हुए है। वीडियो में आप खुद देखे की कांग्रेस नेता एसडीएम के साथ ठहाके लगाते हुए अवैध खनन के रेट बता रहे। यह गंभीर मामला है। मुख्यमंत्री कमलनाथ जी इसका संज्ञान लेकर जिलों से अवैध खनन के 5 -5  लाख रुपये लेने वाले कलेक्टर और मंत्रियों की सूची जारी करें।




पांच पांच लाख वाले वीडियो के वायरल होनें के बाद सीधी एसपी द्वारा रेत माफियायों पर की जा रही कार्यवाही दिखाबा मात्र तो नही?


वीडियो वायरल होनें के बाद सीधी पुलिस अधीक्षक आर एस  बेलवंशी ऐक्शन में आ गये थे और रेत माफियायों पर ताबड़तोड़ कार्यवाही करते हुये कहा था की "जिले मे अपराध पर अंकुष लगाने के लिये कार्यवाही की जा रही है, अवैध कारोवार को रोकने के लिये शुरू की गई कार्यवाही लगातार होती रहेगी, रेत के अवैध परिवहन करने वाले 25 अपराधियों पर कार्यवाही की गई है, प्रयास होगा कि सीधी जिले की सड़कों व नदियों से रेत का उत्खनन व परिवहन करने पर शख्त कार्रवाई की जाएगी। 
अब ऐसे में जब मंत्री एवं कलेक्टर पर वसूली का आरोप कांग्रेस के पदाधिकारी द्वारा लगाये जानें के बाद तथा पंचायत मंत्री और खनिज मंत्री के सीधी दौरे के पहले पुलिस अधीक्षक के द्वारा रेत माफिया पर कार्यवाही करना शक पैदा करनें वाला है, लोगों के मन में यह सवाल है की कहीं यह कार्यवाही दिखाबा मात्र तो नही।

No comments:

Post a comment

Latest Post

ललित सुरजन का निधन पत्रकारिता के लिए बड़ी क्षति: अजय सिंह।

ललित सुरजन में मायाराम सुरजन के पूरे गुण विद्यमान थे: अजय सिंह। भोपाल: मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा है कि मै...