Sunday, 3 November 2019

सीधी: म.प्र में आई भीषण बाढ़ आपदा में, केंद्र की भाजपा सरकार द्वारा किसी भी प्रकार की आर्थिक सहायता ना करना दुर्भाग्यपूर्ण- कांग्रेस।


सीधी: केंद्र की भाजपा सरकार द्वारा मध्यप्रदेश में आई भीषण बाढ़ आपदा में  किसी भी प्रकार की आर्थिक सहायता  ना करने के विरोध में तथा भारतीय जनता पार्टी का किसान विरोधी  चेहरा  जनता के समक्ष उजागर करने के लिए मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के आह्वान पर जिला कांग्रेस कमेटी सीधी द्वारा पार्टी कार्यालय जवाहर भवन में पत्रकार वार्ता का  आयोजन किया गया। पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए  जिला कांग्रेस कमेटी के वरिष्ठ नेता राजेंद्र सिंह भदोरिया ने कहां की बीते दिनों मध्यप्रदेश ने अतिवर्षा एवं बाढ़ से भीषणतम प्राकृतिक आपदा का सामना किया है। इस आपदा से समूचे मप्र के 52 में से 39 जिलों की 284 तहसीलें प्रभावित हुई हैं।सर्वाधिक नुकसान प्रदेश के अन्नदाता किसानों का हुआ है। लगभग  60.47 लाख हेक्टेयर की 16270 करोड़ रूपये की फसलें बर्बाद हुई हैं। लगभग एक लाख 20 हजार घरों को क्षति पहुंची है, 674 नागरिकों को अपने प्राण गवाने पड़े हैं, 11 हजार किलोमीटर से अधिक सड़को को नुकसान पहुंचा है। एक हजार से अधिक पुल-पुलिया को क्षतिग्रस्त हुई हैं, 19735 स्कूल-बिल्डिंगों को नुकसान पहुंचा है, 218 छात्रावासों, 230 स्वास्थ्य केंद्रों,17106 आंगनवाड़ियों को इस भीषण प्राकृतिक आपदा से क्षति पहुंची है।  

उन्होंने कहां की देश के संघीय ढांचे में यह व्यवस्था है कि जब किसी भी राज्य पर ऐसी भीषण प्राकृतिक आपदा आती है तब केंद्र सरकार का दायित्व होता है कि वह राष्ट्रीय आपदा कोष से राज्य की सहायता करे। इसी के दृष्टिगत भाजपानीत केंद्र सरकार को विधिवत रूप से एक विस्तृत प्रतिवेदन दिया गया और केंद्र सरकार ने 6621.28 करोड़ रू. की मांग की गई। 

मगर दुर्भाग्यपूर्ण बात यह है कि आज दिनांक तक केंद्र सरकार द्वारा राष्ट्रीय आपदा कोष (एनडीआरएफ) से एक भी पैसा प्रदेश को नहीं दिया गया। कांग्रेस नेता श्री भदौरिया ने कहा कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री  कमलनाथ  दृढ़संकल्प, संकट की इस घड़ी में मध्यप्रदेश  के  नागरिकों के साथ हर क्षण खड़े हैं।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा किसी भी प्रकार की सहायता राशि ना देने के बावजूद भी मुख्यमंत्री कमलनाथ जी के निर्देष पर मप्र की राज्य सरकार ने अपनी ओर से प्रदेश के नागरिकों, जिनके जानमाल की हानि हुई हैं, उन्हें 200 करोड़ रूपये अब तक वितरित किये हैं। साथ ही 270 करोड़ रू. की राशि उन जिलों में तत्काल वितरित करायी गई, जहां किसानों की फसलें सर्वाधिक प्रभावित हुई हैं। 

उन्होंने कहा कि कि मध्यप्रदेश भाजपा का शीर्षस्थ नेतृत्व अपनी हार को अब तक पचा नहीं पाया है और उसका प्रतिशोध प्रदेश के नागरिकों से ले रहा है। हाल ही में मप्र में लोकसभा के 29 में से 28 सांसद भाजपा के जीतकर आयें हैं, आज तक एक भी सांसद ने केंद्र सरकार से एक बार भी अनुरोध नहीं किया कि वे मध्यप्रदेश के नागरिकों की इस गंभीर पीड़ा के समय उनकी मदद करें।  श्री भदौरिया ने भाजपा नेताओं को स्मरण  दिलाते हुए कहा कि  पहले जब भी प्रदेश में प्राकृतिक आपदा आयी है, तब समूची कांगे्रस पार्टी तत्कालीन राज्य की भाजपा सरकार के साथ न सिर्फ दृढ़ता से खड़ी रही है, अपितु केंद्र में कांगे्रस सरकार के रहते तत्काल आर्थिक सहायता भी उपलब्ध करायी। 

श्री भदौरिया ने  केंद्र सरकार पर  प्रदेश के साथ  भेदभाव करने का  आरोप लगाते हुए कहा कि  केंद्र प्रायोजित योजनाओं, भावांतर भुगतान, नल-जल योजना, केंद्रीय सड़क निधि इत्यादि में भी प्रदेश के विकास के साथ कुठाराघात किया गया है। 

ज्ञातव्य है कि केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम के अंतर्गत प्रदेश की लगभग 2000 योजनाओं, जिसमें 14 हजार गांवों के 5 लाख परिवारों को पेयजल उपलब्ध कराने हेतु 1196.17 करोड़ रूपये निर्धारित किये गये हैंे, इस योजना में 50 प्रतिशत केन्द्र सरकार का अंश 598 करोड़ रूपये केंद्र ने अब तक जारी नहीं किया है। इसी प्रकार मध्यप्रदेश की सड़कों के निर्माण और उन्नयन के लिये सेंट्रल रोड़ फंड (सीआरएफ) 498.96 करोड़ रूपये केंद्र द्वारा प्रदेश को जारी नहीं किये गये, जिससे अधोसंरचना विकास प्रभावित हो रहा है।

वहीं, केंद्रीय करों के हिस्से में 2677 करोड़ रूपये बजट प्रावधानों के हिसाब से मध्यप्रदेश को कम दिये गये हैं। 
खरीफ 2017 के भावांतर के 576 करोड़ रूपये, खरीफ 2018 के 321 करोड़ रूपये और अतिरिक्त 6 लाख मीट्रिक टन के 120 करोड़ अर्थात कुल 1017 करोड़ रूपये केंद्र द्वारा मध्यप्रदेश को अब तक नहीं दिये गये हैं। 

इसी प्रकार मध्यप्रदेश में रबी सीजन 2019-20 में समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद 73.70 लाख मीट्रिक टन की है। मगर केंद्र ने सिर्फ 65 लाख मीट्रिक टन गेहूं की समर्थन मूल्य पर खरीद स्वीकृत की है। अर्थात   8.70 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद के लगभग 1500 करोड़ रूपये केंद्र सरकार ने रोक दिये हैं। 

यहां यह तथ्य रखना भी आवश्यक है कि वर्ष 2018-19 में केंद्र प्रायोजित योजनाओं का मध्यप्रदेश के हिस्से की 6547 करोड़ रूपये की राशि केंद्र सरकार द्वारा कम दी गई है। जिससे प्रदेश का समावेशी विकास बहुत बुरी तरह प्रभावित हुआ है। जिसमें कृषि विकास, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, सर्वशिक्षा अभियान, आदिम जाति कल्याण, प्रधानमंत्री आवास योजना, मध्यान्ह भोजन इत्यादि सामाजिक महत्व की योजनाएं शामिल हैं।  

पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए श्री भदौरिया ने कहां की हमें पीड़ा होती है कि केंद्र की भाजपा सरकार ने प्राकृतिक आपदा के लिए भाजपा शासित कर्नाटक और बिहार को तुरंत राहत राशि प्रदान की, किंतु मध्यप्रदेश के साथ राजनैतिक द्वैष की भावना के साथ काम किया जा रहा है और प्रदेश भाजपा का नेतृत्व मप्र के नागरिकों के जख्मों पर मरहम लगाने की अपेक्षा नमक छिड़क रहा है। पत्रकार वार्ता का संचालन जिला कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता प्रदीप सिंह दीपू ने किया ।उक्त अवसर पर जिला कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष आनंद सिंह चौहान प्रदेश उपाध्यक्ष लाल चंद गुप्ता पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष देवेंद्र सिंह संगठन प्रभारी महामंत्री सुरेश प्रताप सिंह कोषाध्यक्ष हरिहर गोपाल मिश्रा यूथ कांग्रेस अध्यक्ष रंजना मिश्रा महामंत्री अरविंद तिवारी आजा विभाग के अध्यक्ष अशोक कोरी एनएसयूआई अध्यक्ष दीपक मिश्रा ब्लॉक अध्यक्ष लालबेन्द सिंह रोहित मिश्रा राणा प्रताप सिंह अरुण मिश्रा त्रिवेणी सिंह एवं गणेश द्विवेदी सहित कई कांग्रेसजन उपस्थित थे।

No comments:

Post a comment

Latest Post

सीधी: जिले में मिले 19 नए कोरोना संक्रमित, 10 व्यक्तियों ने जीती कोरोना से जंग।

कुल संक्रमित 595 डिस्चार्ज 410 एक्टिव केस 183 मृत्यु 2 सीधी: जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ नागेंद्र बिहारी दुबे के द्वारा जानका...