Tuesday, 1 October 2019

VIDEO: पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने, झाबुआ उपचुनाव, रीवा सांसद के बिगड़े बोल और हनी ट्रैप जैसे मुद्दों पर अपनी प्रतिक्रिया दी है।


भोपाल : पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह नें भोपाल में पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुये, झाबुआ उपचुनाव से लेकर रीवा सांसद द्वारा निगम आयुक्त को जिंदा दफनानें वाले वयान, पूर्व मंत्री राजेन्द्र शुक्ला पर निगम की रिकवरी नोटिस और हनी ट्रैप जैसे मुद्दों पर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

झाबुआ उपचुनाव।
पत्रकारों के इस सवाल पर की सिंधिया खेमें के मंत्रियो की ड्यूटी झाबुआ उपचुनाव में क्यूं नही लगाई गई, अजय सिंह नें कहा की मुख्यमंत्री कमलनाथ जो की पीसीसी चीफ़ भी हैं, अच्छी तरह से जानतें है उन्हें क्या करना है, यहां खेमेंवाजी और गुटवाजी का कोई सवाल ही नही है, यह चुनाव हमारे लिये बहुत महत्वपूर्ण है, हम अभी अल्पमत में है और यह चुनाव हमें हर हाल में जीतना है। उन्होनें आगे कहा की गुटवाजी तो भाजपा में है, भाजपा तीन गुटों में विभाजित है।
साथ ही उन्होनें कहा की वो भी झाबुआ उपचुनाव के लिये प्रचार की कमान संभालेंगे।
कांतिलाल के उम्मीदवार बनाये जानें के सवाल पर अजय सिंह नें कहा की, कांतिलाल भूरिया सबसे वरिष्ठ होनें कें साथ साथ झाबुआ के लोंगों के साथ खड़े रहनें वाले व्यक्ति है, यह चुनाव हमारे लिये प्रतिष्ठा का सवाल है इसलिए कांतिलाल भूरिया एक बेहतर उम्मीदवार है और आशा ही नही पूरा विश्वास है की वो चुनाव जीतेगें।

रीवा सांसद द्वारा निगम आयुक्त को जिंदा दफनानें वाले बयान पर।
अजय सिंह ने कहा की किसी भी नेता, सांसद या बिधायक द्वारा इस तरह का बयान सही नही है, उन्होनें कहा की रीवा सांसद ने इस बयांन का खंडन कर दिया है और कहा की उनकी भावना ऐसी नही थी, तो उन्हे माफ करते हुये आगे बढ़ना चाहिये।

निगम द्वारा पूर्व मंत्री राजेन्द्र शुक्ला पर रिकवरी नोटिस दिये जानें पर।
अजय सिंह नें कहा की, किसी भी डिपार्टमेंट द्वारा किसी के भी खिलाफ चाहे वह पूर्व मंत्री हो या वर्तमान मंत्री नोटिस जारी किया जा सकता है, हला की उन्होनें ये भी कहा की इस मामले की उन्हें पूरी तरह से जानकारी नही है, लेकिन निगम द्वारा अगर इतना बड़ा फैसला लिया गया है तो उसमें सच्चाई होगी।

हनी ट्रैप के मुद्दे पर।
अजय सिंह नें, इस समय पर मध्यप्रदेश के सबसे बहुचर्चित मसले हनी ट्रैप पर कहा की इसकी बराबर जांच होनी चाहिये और दोषियों पर कार्यवाही होनी चाहिये चाहे वो किसी भी पार्टी के हों या कितना ही बड़ा अफसर क्युं ना हो।
उन्होनें कहा SIT अपनी रिपोर्ट देगी और उसके आधार पर कार्यवाही की जायेगी, जिससे आनें वाली पीढ़ी ऐसी गलती ना करे।

देंखें वीडियो: 👇👇

No comments:

Post a comment

Latest Post

ललित सुरजन का निधन पत्रकारिता के लिए बड़ी क्षति: अजय सिंह।

ललित सुरजन में मायाराम सुरजन के पूरे गुण विद्यमान थे: अजय सिंह। भोपाल: मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा है कि मै...