Tuesday, 15 October 2019

दलबदल में महारत हासिल कर चुके नारायण त्रिपाठी को लेकर, अजय सिंह नें पहले ही पार्टी को किया था आगाह।



भोपाल: विधानसभा में मतविभाजन के दौरान कांग्रेस के पक्ष में वोटिंग के बाद सुर्ख़ियों में आये दलबदल के महारथी मैहर सीट से बीजेपी विधायक नारायण त्रिपाठी ने मीडिया के सामने आकर आज कांग्रेस को ठेंगा दिखाते हुये बोले कि वे बीजेपी के साथ थे और बीजेपी के साथ ही रहेंगे।
बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मंगलवार को नारायण त्रिपाठी के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस की और स्पष्ट किया कि विधायक त्रिपाठी भाजपा में ही हैं कांग्रेस में नहीं गए हैं। 

हला की आज से करीब ढाई महीनें पहले जब कमलनाथ सरकार, बीजेपी के दो विधायकों को अपने पाले में लाने के बाद एक तरफ जहा जश्न मना रही थी तो वही मध्यप्रदेश केे दिग्गज कांग्रेसी नेता अजय सिंह ने नारायणी त्रिपाठी की घर वापसी पर सवाल खड़े करते हुये पार्टी को चेताया था।

क्या कहा था, पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह नें?
अजय सिंह ने कहा था कि नारायण त्रिपाठी को लाने से पहले पार्टी को यह सोचना चाहिए था, निष्ठावान कार्यकर्ताओं के ऊपर क्या गुजरेगी. हालांकि उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ को अनुभवी नेता बताते हुए कहा कि पांच साल सरकार चलाने के लिए उन्होंने यह सोच समझकर ही यह कदम उठाया होगा !

अजय सिंह ने कहा था कि इन लोगों के बारे में जो उनकी व्यक्तिगत राय है, वह जग जाहिर है. जहां तक आज की राजनीतिक संस्कृति है,उसके बारें में कुछ नहीं कहा जा सकता नारायण त्रिपाठी के बारे मे मुझे और बोलने की जरुरत नही है !

गौरतलब है नारायण त्रिपाठी का दल बदल का लम्बा इतिहास रहा है, और वो कभी निर्दलिय, समाजवादी, कांग्रेस, भाजपा से होते हुये कांग्रेस और आज फिर भाजपा के साथ हो लिये।

एक समय था जब अजय सिंह ने ही नारायण त्रिपाठी को कांग्रेस मे लाकर 2013 मे मैहर से टिकट दिया था और कांग्रेस के विधायक चुने गये थे लेकिन इन्ही नारायण त्रिपाठी ने 2014 लोकसभा चुनाव में जब अजय सिंह सतना लोकसभा सीट से चुनाव लड़े थे और उस दौरान मतदान से दो दिन पहले नारायण त्रिपाठी ने तात्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के साथ मंच साझा करते हुये भाजपा मे चले गये थे और अजय सिंह महज चंद मतों से यह चुनाव हार गये थे !

कहतें है वक़्त करवट जरुर बदलता है, 2014 मे नारायण त्रिपाठी ने जिस भाजपा प्रत्यासी गणेश सिंह को कांग्रेस तथा अजय सिंह से गद्दारी कर के जीवन दान दिया था वही गणेश सिंह आज भरे मंच से नारायण त्रिपाठी को देख लेने की धमकी दे रहे थे, जिसकी बदौलत नारायण त्रिपाठी फिर से कांग्रेस मे भविश्य तलाश रहे थे की अचानक उनका फिर मन परिवर्तन हो गया और फिर से भाजपा के साथ हो लिये।
आज के दौर की राजनीति यही है, दलबदल एक फैशन बन चुका है और व्यक्तिगत फायदे के लिये नेता जी लोग कभी भी पार्टी बदल ले रहे है, और मतदाता अपने आप को  ठगा हुआ महसूस कर रहें!

3 comments:

  1. Narayan tripathi bahut hi bda dhokhebaj aur dogla inshan hai bjp k ek chote Neta ji ne kha ki ye gun use Virasat me Mile hai kyoki uski maa ne uske pita ko dhokha diya tha kyu ki iske pita ji bahut hi bde dogle the, jiske karan dono gun ek sath Narayan me aagye.

    ReplyDelete
  2. Gali ka Kutta hai tripathi is me itni varisth party kaise nahi pehchaan rahi hai bade afsos ki baat hai

    ReplyDelete

Latest Post

जन्मदिन विशेष: अजय सिंह, नेता प्रतिपक्ष रहते हुये तत्कालीन भाजपा सरकार को सदन से लेकर सड़क तक घेरा।

भोपाल/सीधी: मध्‍यप्रदेश कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता और राज्‍य विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह " राहुल" का आज जन्मदिन है।  अ...