Friday, 18 October 2019

शाजापुर: भीषण सड़क हादसे में 4 स्कूली बच्चों की मौत का जिम्मेदार कौन? क्षमता से ज़्यादा बच्चों से ठसाठस भरी थी वैन।


शाजापुर: आज भीषण सड़क हादसे में 4 स्कूली बच्चों की मौत हो गयी, एक स्कूल वैन शुक्रवार दोपहर पानी भरे गड्ढे में गिर गई। वैन में 22 बच्चे सवार थे। 18 बच्चों को रेस्क्यू कर नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हादसा जिला मुख्यालय से 15 किलोमीटर दूर रिछोदा गांव में हुआ।
एडवांस एकेडमी में पढ़ने वाले 22 बच्चे, जिनकी उम्र 5 से 10 साल के बीच थी, स्कूल से छुट्‌टी के बाद घर जाने के लिए वैन में सवार हुए थे। इसके बाद ड्राइवर ने गाड़ी रिवर्स ली। रिवर्स लेते समय वैन पानी से भरे गड्ढे में जा गिरी। यह गड्ढा स्कूल से कुछ ही दूर पर था।वैन को गड्ढे में गिरते देखआसपास के लोगों ने बच्चों को बचाने के लिए गड्ढे में छलांग भी लगाई।


क्षमता से कहीं ज़्यादा बच्चों से ठसाठस भरी थी वैन।
दुर्घटनाग्रस्त हुई स्कूल वैन में क्षमता से कई गुना ज़्यादा बच्चे सवार थे. बताया जा रहा है वैन में ड्राइवर और 23 बच्चे सवार थे. इनमें से 4 की मौत हो गयी. 18 को सुरक्षित निकाल लिया गया। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार गाड़ी में बैठे सभी बच्चे 5 से 10 साल के थे. खबर मिलते ही कलेक्टर और एसपी सहित पूरा प्रशासनिक अमला मौके पर पहुंच गया और रेस्क्यू शुरू किया, शिक्षा विभाग ने स्कूल की मान्यता रद्द कर दी है।

बड़ा सवाल यह- ह्रदय विदारक घटना का जिम्मेदार कौन?
अब सवाल यह खड़ा होता है, कि बच्चों के साथ ऐसे हादसे कब तक होतें रहेंगे? प्रशासन ऐसी घटनाओं को रोकनें में नाकाम क्यू? क्यू क्षमता से जादा बच्चे स्कूल बसों मे बैठाए जाते है ? जवाब कुछ भी नही, क्युकी जब भी कोई ऐसी दुखद घटना घटती है, तब प्रशासन थोड़ा सख्त होता है, लेकिन थोडे दिन बाद हालत वैसी की वैसी हो जाती है सरकार कोई भी हो, किसी की भी हो, सिर्फ एक दूसरे के प्रति आरोप-प्रत्यारोप के अलावा कुछ भी हांसिल नही होता।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने हादसे पर जताया दुख!
शाजापुर में हुई वैन दुर्घटना पर सीएम कमलनाथ ने शोक जताया है. उन्होंने ट्वीटर पर अपने संदेश में कहा-शाजापुर के रिछोदा में एक निजी स्कूल की स्कूली बच्चों से भरी वैन के कुएँ में गिरने की घटना बेहद दुःखद है. उन्होंने तत्काल राहत कार्य करने का निर्देश दिया है. सीएम ने आगे लिखा,दुर्घटना में मृत बच्चों के परिवारों के प्रति मेरी शोक संवेदनाएं.घायल बच्चों का समुचित इलाज हो.पीड़ित परिवारों के साथ इस दुःख की घड़ी में सरकार उनके साथ खड़ी है.घटना की जाँच हो और दोषियों को बख्शा नहीं जाये,उन पर कड़ी कार्रवाई हो।

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी जताया दुख!

No comments:

Post a comment

Latest Post

सीधी: जिले में मिले 19 नए कोरोना संक्रमित, 10 व्यक्तियों ने जीती कोरोना से जंग।

कुल संक्रमित 595 डिस्चार्ज 410 एक्टिव केस 183 मृत्यु 2 सीधी: जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ नागेंद्र बिहारी दुबे के द्वारा जानका...