Sunday, 15 September 2019

MP में अब बारिश पर सियासत :भाजपा की, कमलनाथ सरकार के खिलाफ आंदोलन की धमकी।


भोपाल: मध्य प्रदेश में बारिश को लेकर सियासत तेज हो गई है. भाजपा ने कमलनाथ सरकार को चेतावनी देते हुये कहा कै, यदि प्रभावित लोंगों को उचित मुआवजा नही मिला तो आंदोलन होगा।
साथ ही सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपना एक महीने का वेतन देकर कमलनाथ सरकार पर निशाना साधा है, तो कांग्रेस ने पलटवार करते हुए भाजपा और शिवराज सिंह को उनके 15 साल का कार्यकाल याद दिलाया.
शिवराज सिंह चौहान के साथ नरोत्तम मिश्रा और भूपेंद्र सिंह ने भी सरकार की घेराबंदी की।
पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने सरकारी बंगले पर प्रेस कांफ्रेस कर कहा कि अतिवृष्टि के कारण हाहाकार मचा हुआ है. बारिश ने तबाही मचा दी है. मेरी मुख्यमंत्री से अपील की है कि सरकार को बाहर निकलना चाहिए. पीड़ित लोगों से मिलना चाहिए, राहत देनी चाहिए. पहले से तैयारी होनी चाहिए थी, लेकिन अब युद्ध स्तर पर काम करना चाहिए. अगर ऐसा नहीं हुआ तो भाजपा सड़कों पर आंदोलन करेगी.

शिवराज ने दिया एक महीने का वेतन और उसपर सियासत।
शिवराज सिंह चौहान ने मंदसौर के बाढ़ पीड़ितों को अपना एक महीने का वेतन दिया है. उन्होंने कहा कि मैं सभी लोगों से अपील करता हूं कि बाढ़ पीड़ितों की हर संभव मदद करें. शिवराज ने कहा, 'किसानों की फसलें नष्ट हो गई हैं और मैं बैरसिया से अपना दौरा शुरू कर रहा हूं. कर्ज माफी का वचन अभी पूरा नहीं किया. किसान डिफाल्टर हुआ तो उसे खाद बीज नहीं दिया. किसान तबाह और बर्बाद हो चुका है, सरकार तत्काल सहायता प्रदान करे. वैसे कई जगहों पर सर्वे शुरू नहीं हुआ है. परिस्थिति की गंभीरता को समझा नहीं जा रहा, इसलिए मैं समझाने निकल रहा हूं.'

मुआवजा नहीं दिया तो सड़कों पर आंदोलन करेंगे: शिवराज सिंह।
साथ ही पूर्व सीएम ने कहा कि प्रदेश की जनता मुझे सोशल मीडिया के जरिए कहां-कहां फसल बर्बाद हुई है, इस बाबत जानकारी दे सकती है. जबकि उन्‍होंने कमलनाथ सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि जल्द मुआवजा नहीं दिया तो सड़कों पर आंदोलन करेंगे.

मंत्री पीसी शर्मा का पलटवार।
पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बयान पर मंत्री पीसी शर्मा ने पलटवार किया. उन्होंने कहा, 'हमारी सरकार में पहली बार इतनी बारिश हुई है. 15 साल में शिवराज सिंह चौहान कुछ नहीं कर पाए. पहले खेतों में जाना था अब जाने से क्या होगा. सरकार बाढ़ पीड़ितों की हर संभव मदद कर रही है. प्रशासन मुस्तैद है. इस मुद्दे पर नेतागिरी करने की जरूरत नहीं है.'शर्मा ने कहा कि एक महीने का वेतन देना ऐसा है, जैसे की शिवराज उंगली कटवाकर कर शहीदों में नाम लिखवा रहे हैं. 
साथ ही पीसी शर्मा ने नरोत्तम मिश्रा के बयान पर कहा कि 15 साल में भ्रष्टाचार के अलावा कुछ नहीं किया. भ्रष्टाचार से कमाए पैसों को बाढ़ पीड़ितों और किसानों को देना चाहिए.

No comments:

Post a comment

Latest Post

ललित सुरजन का निधन पत्रकारिता के लिए बड़ी क्षति: अजय सिंह।

ललित सुरजन में मायाराम सुरजन के पूरे गुण विद्यमान थे: अजय सिंह। भोपाल: मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा है कि मै...