Friday, 20 September 2019

दीपक बाबरिया नें सीएम कमलनाथ की उपस्थिती में कहा, उनके तीन मंत्रियों को कैबिनेट से बाहर किया जायेगा?

  • प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया नें कमल नाथ के तीन मंत्रियों को कैबिनेट से बाहर करनें की दी चेतावनीं।
  • कुछ मंत्री भाजपा के लोंगों को कर रहे उपकृत तथा सरकार मे पद दिलवा रहे: बाबरिया 
  • अनुशासनहीनता करनें वालों को पार्टी से बाहर किया जायेगा: बाबरिया
  • बाबरिया नें बिना नाम लिए कहा कि दो बार के विधायक है जरा सोच समझकर बयान दे। 
भोपाल: मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा बुलाई गई बैठक में प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया कैबिनेट मंत्रियों पर भड़क गए और कहा की तीन मंत्रियों को कैबिनेट से बाहर किया जायेगा।

कुछ मंत्री भाजपा के लोंगों को कर रहे उपकृत तथा सरकार मे पद दिलवा रहे।

श्री बाबरिया ने कहा कि कुछ मंत्री बीजेपी कार्यकताओं की नियुक्ति कर रहे है। मैंने एक मंत्री को चेतावनी दी है। अगर मंत्री ने मुझे नहीं बताया कि किस आधार पर उसे पद दिया गया। तो मैं उसे सीधे सोनिया गांधी के सामने खड़ा कर दूँगा। मंत्रिमंडल में जब बदलाव होगा, ऐसो को बदल दिया जाएगा ।
इस दौरान श्री बाबरिया नें बिना नाम लिए कहा कि दो बार के विधायक है जरा सोच समझकर बयान दे।
श्री बाबरिया ने कमलनाथ कैबिनेट के मंत्रियों की राजनीतिक समझ पर भी सवाल उठाए और कहा - बीजेपी पदाधिकारी को समय और पद दिया जाता है, लेकिन कांग्रेस में नही।

अनुशासनहीनता करनें वालों को किया जयेगा पार्टी से बाहर।

बीते दिनों नेताओं के बीच हुई बयानबाजी पर उन्होंने जमकर नाराजगी जाहिर की। उन्होंने मंच से ही सभी मंत्रियों को चेतावनी देते हुए कहा कि अनुशासन का पालन ना करने वालो को बख्शा नही जाएगा। सोच ले, पार्टी की अनुशासन लाइन से बाहर न जाये। कुछ भी बयान न दें। बावरिया के बयान के बाद कई मंत्री असहज दिखाई दिए और इधर-उधर तांकने लगे।

बैठक मे पार्टी के कई दिग्गज रहे मौजूद।

इस दौरान मुख्यमंत्री कमलनाथ , पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, पूर्व पीसीसी चीफ़ सुरेश पचौरी, पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष राजेन्द्र सिंह, राज्यसभा सांसद राजमणि पटेल सहित कई दिग्गज नेता बैठक में शामिल थे।

मंत्रियों को फोन उठानें की हिदायत।
श्री बावरिया ने मंत्रियों को विधायकों के फोन उठाने की हिदायत दी। इस दौरान बावरिया ने कहा कि अगर एक फोन से नही सुनाई देता तो मुख्यमंत्री कमलनाथ तीन चार फोन लगा दें।

बैठक में दिखा अव्यवस्था का माहौल।

वही कांग्रेस की बैठक में अव्यवस्था का माहौल देखने को मिला।यहां मंत्रियों की आरक्षित सीट पर कार्यकताओं ने डेरा जमा लिया।  बताया जा रहा है कि मंत्रियों की कुर्सियों पर कार्यकर्ता बैठ गए और उनके लाख कहने पर भी कुर्सी नही छोड़ी। आखिरकार मजबूर होकर बड़े नेताओं को नीचे बैठना पड़ा।इसी बीच मंच से बोल रहे दीपक बाबरिया और नीचे बैठे विधायक आरिफ मसूद के बीच बहस भी हो गई।

No comments:

Post a comment

Latest Post

बिजली समस्या को लेकर कांग्रेस की चुरहट इकाई नें, मवई विद्युत वितरण केन्द्र का किया घेराव।

सीधी / चुरहट: काग्रेस पार्टी (चुरहट इकाई) द्वारा बिजली की समस्या को लेकर मवई डी.सी. कार्यालय का घेराव किया गया। गरीब मजदूर, आम जनता एवं किसा...